केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों ने संसद भवन में चौधरी चरण सिंह को पुष्पांजलि अर्पित की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 23, 2020   14:53
केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों ने संसद भवन में चौधरी चरण सिंह को पुष्पांजलि अर्पित की

लोकसभा सचिवालय की विज्ञप्ति के अनुसार, केंद्रीय मंत्रियों, सांसदों एवं पूर्व सांसदों ने संसद भवन के केन्द्रीय कक्ष में चौधरी चरण सिंह के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। लोक सभा के महासचिव उत्पल कुमार सिंह ने भी चौधरी चरण सिंह को पुष्पांजलि अर्पित की।

नयी दिल्ली। संसदीय कार्य, कोयला और खान मंत्री प्रह्लाद जोशी तथा केन्द्रीय संसदीय कार्य, भारी उद्योग एवं लोक उद्यम राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल सहित कई सांसदों ने बुधवार को पूर्व प्रधान मंत्री दिवंगत चौधरी चरण सिंह की जयंती पर उन्हें संसद भवन में श्रद्धांजलि दी। लोकसभा सचिवालय की विज्ञप्ति के अनुसार, केंद्रीय मंत्रियों, सांसदों एवं पूर्व सांसदों ने संसद भवन के केन्द्रीय कक्ष में चौधरी चरण सिंह के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। लोक सभा के महासचिव उत्पल कुमार सिंह ने भी चौधरी चरण सिंह को पुष्पांजलि अर्पित की। इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले विशिष्टजनों को लोक सभा सचिवालय द्वारा हिंदी और अंग्रेजी में प्रकाशित चौधरी चरण सिंह के जीवनवृत्त वाली पुस्तिका भेंट की गई।

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘ पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह जी की जयन्ती पर नमन। उनकी स्मृति में आज का दिन किसान दिवस के रूप में मनाया जाता है जो देशवासियों द्वारा अन्नदाताओं के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का प्रतीक है। उन्होंने कहा, ‘‘किसानों ने देश की खुशहाली में अभूतपूर्व योगदान दिया है, उनके अथक परिश्रम का अभिनन्दन।’’ गौरतलब है कि भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. शंकर दयाल शर्मा ने 23 दिसंबर 1993 को संसद भवन के केंद्रीय कक्ष में चौधरी चरण सिंह के चित्र का अनावरण किया था। चौधरी चरण सिंह का जन्म 23 दिसंबर को हुआ था। उनकी जयंती देश में ‘किसान दिवस’ के रूप में मनाई जाती है। भारत सरकार ने वर्ष 2001 में चौधरी चरण सिंह के सम्मान में हर साल 23 दिसंबर को किसान दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।