चुन-चुनकर मायावती ने भाजपा समेत सभी पार्टियों पर साधा निशाना, बोलीं- ...इससे इनके संस्कार का पता चलता है

चुन-चुनकर मायावती ने भाजपा समेत सभी पार्टियों पर साधा निशाना, बोलीं- ...इससे इनके संस्कार का पता चलता है

मायावती ने कहा कि भाजपा सरकार ने पलायन कर रहे लोगों की मदद नहीं की। यह लोग लॉकडाउन के खत्म होते ही रोजी रोटी के लिए दूसरे राज्यों में चले गए। दुख की बात तो यह है कि कोरोना से जिन लोगों की मौत हुई है उनके दाह संस्कार के लिए भाजपा सरकार ने लकड़ी तक का प्रबंधन नहीं किया।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर तमाम पार्टियों ने अपनी-अपनी रणनीतियां बना ली हैं। इसी बीच बसपा प्रमुख मायावती ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों को लेकर किसान अभी भी आक्रोशित और आंदोलित दिखाई दे रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव का योगी सरकार पर निशाना, कहा- मंत्री के बेटे को तलब करना केवल औपचारिकता, इस्तीफा दें अजय मिश्रा

मायावती ने कहा कि किसानों का काफी ज्यादा शोषण हो रहा है। इस मामले में लखीमपुर खीरी की घटना ताजा उदाहरण है। उन्होंने कहा कि कोरोना नियमों की आड़ में मौजूदा सरकार हम लोगों को काफी परेशान कर सकती है। ऐसे में पार्टी के लोग कोरोना नियमों का पालन करते रहें। 

कांग्रेस पर बरसीं मायावती 

उन्होंने कहा कि आजादी के बाद देश के अन्य राज्यों की तरह यहां यूपी में भी ज्यादातर कांग्रेस पार्टी सत्ता में आसीन रही है और केंद्र में भी रही है और उनकी सोच जातिवादी और पूंजीवादी वाली रही है।

भाजपा ने नहीं किया कोई प्रबंध

मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने पलायन कर रहे लोगों की मदद नहीं की। ऐसे में यह लोग लॉकडाउन के खत्म होते ही रोजी रोटी के लिए दूसरे राज्यों में चले गए। दुख की बात तो यह भी है कि कोरोना से जिन लोगों की मौत हुई है उनके दाह संस्कार के लिए भाजपा सरकार ने लकड़ी तक का प्रबंधन नहीं किया था। जिसकी वजह से शव गंगा-यमुना नदी नालों में बहते हुए नजर आए हैं। इससे इनके संस्कारों का भी काफी कुछ पता चलता है।   

इसे भी पढ़ें: Opinion poll : उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा में भाजपा की होगी जीत, पंजाब में त्रिशंकु विधानसभा 

ओवैसी ने नहीं की थी मुस्लिमों की मदद 

ओवैसी पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा कि दूसरे राज्यों में जब उत्तर प्रदेश के लोग कोरोना से परेशान थे तो उनकी किसी भी पार्टी ने मदद नहीं की थी और ओवैसी ने तो मुस्लिम भाईयों का भी साथ नहीं दिया था और अब यहां पर वोट मांग रहे हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।