मंत्री और विधायकों के मास्क नहीं पहनने पर बोले विश्वास सारंग, बीमारी आम और खास देखकर नहीं आती

Vishvas Sarang
प्रदेश में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, सभी को मास्क का उपयोग करना चाहिए। बीमारी आम और खास देखकर नहीं आती है। बीमारी को वर्गों में विभाजित कर के देखना हमारी नासमझी होगी।

मध्य प्रदेश में बढ़ते कोरोना मामलों के बीच बजट सत्र के दूसरे दिन विधानसभा पहुंचे कई मंत्री और विधायक कोरोना को लेकर बेपरवाह दिखें। मंत्री और विधायक बिना मास्क लगाए सदन पहुंचे। विधानसभा सत्र के दौरान मंत्री और विधायकों के मास्क नहीं पहनने पर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग का बयान आया है। उन्होंने कहा, "मेरा मानना है कि जिस हिसाब से प्रदेश में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं, सभी को मास्क का उपयोग करना चाहिए। बीमारी आम और खास देखकर नहीं आती है। बीमारी को वर्गों में विभाजित कर के देखना हमारी नासमझी होगी। मेरा सभी जनप्रतिनिधियों से निवेदन है कि मास्क जरूर लगाएं और कोरोना नियमों का पालन करें।"

विधानसभा सत्र के दौरान कोरोना महामारी में किए गए खर्चे पर कांग्रेस के क्षेत्र पत्र लाने की अटकलों पर विश्वास सारंग ने कहा कि कांग्रेस किस मुंह से श्वेत पत्र लाने की बात कर रही है। जब प्रदेश में कमलनाथ सरकार थी उस दौरान कोरोना वायरस आ चुका था, कांग्रेस सरकार उस समय जैकलिन के ऊपर करोड़ों रुपए खर्च करने की तैयारी में थे। हमारी सरकार ने तो लोगों को कोरोना से बचाने का काम किया है। मैं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को साधुवाद करता हूं, कांग्रेस सरकार के दौरान प्रदेश में 35 कोरोना टेस्ट हुआ करते थे जबकि अब 35000 कोरोना टेस्ट हो रहे हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़