संस्थान के रूप में कैग अपने आप में विरासत, CAG बनाम सरकार वाली मानसिकता बदली: PM मोदी

संस्थान के रूप में कैग अपने आप में विरासत, CAG बनाम सरकार वाली मानसिकता बदली: PM मोदी

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि एक संस्थान के रूप में सीएजी अपने आप में एक विरासत है। इसकी रक्षा करना और इसे बेहतर बनाना हर पीढ़ी का कर्तव्य है। यह एक बड़ी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि आज हमें देश की अखंडता के नायक सरदार पटेल की प्रतिमा के अनावरण का अवसर मिला है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऑडिट दिवस समारोह में शामिल हुए। इस अवसर पर उन्होंने CAG कार्यालय में सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा का उद्घाटन किया। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि एक संस्था के रूप में सीएजी न सिर्फ देश के खातों का हिसाब किताब चैक करता है, बल्कि उत्पादकता में, efficiency में value education भी करता है। उन्होंने कहा कि एक समय था, जब देश में ऑडिट को एक आशंका, एक भय के साथ देखा जाता था। ‘CAG बनाम सरकार’, ये हमारी व्यवस्था की सामान्य सोच बन गई थी। लेकिन, आज इस मानसिकता को बदला गया है। आज ऑडिट को वैल्यू एडिशन का अहम हिस्सा माना जा रहा है।

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि एक संस्थान के रूप में सीएजी अपने आप में एक विरासत है। इसकी रक्षा करना और इसे बेहतर बनाना हर पीढ़ी का कर्तव्य है। यह एक बड़ी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि आज हमें देश की अखंडता के नायक सरदार पटेल की प्रतिमा के अनावरण का अवसर मिला है। गांधी जी हों, सरदार पटेल हों, या बाबा साहेब अंबेडकर, राष्ट्र निर्माण में इन सभी का योगदान सीएजी के लिए, हम सभी के लिए, कोटि-कोटि देशवासियों के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है। उन्होंने कहा कि हमने पूरी ईमानदारी के साथ पिछली सरकारों का सच, वो चाहे जो भी स्थिति थी, उसे देश के सामने रखा है। हम समस्याओं को पहचानेंगे, तभी तो समाधान तलाश पाएंगे।

इसे भी पढ़ें: मुस्लिम महिलाओं ने तीन तलाक कानून के लिए PM मोदी को उनके भोपाल दौरे के दौरान धन्यवाद दिया

मोदी ने कहा कि पहले देश के बैंकिंग सेक्टर में पारदर्शिता की कमी के चलते तरह तरह की प्रैक्टिस चलती थीं। परिणाम ये हुआ कि बैंको के NPAs बढ़ते गए। NPAs को कार्पेट के नीचे कवर करने का जो कार्य पहले के समय किया गया, वो आप भली-भांति जानते हैं। उन्होंने कहा कि आज भारत पूरी दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम बन चुका है। आज 50 से ज्यादा हमारे भारतीय यूनिकॉर्न खड़े हो चुके हैं। भारतीय  IITs आज चौथे सबसे बड़े यूनिकॉर्न प्रोड्यूसर बन कर उभरे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।