कौन है डॉ सोनल मानसिंह? दादा थे स्वतंत्रता सेनानी, पोती ने शास्त्रीय नृत्य की दुनिया में रचा था इतिहास

कौन है डॉ सोनल मानसिंह? दादा थे स्वतंत्रता सेनानी, पोती ने शास्त्रीय नृत्य की दुनिया में रचा था इतिहास
Sonal Mansingh twitter

सोनल मानसिंह एक भारतीय भरतनाट्यम और ओडिसी नृत्य शैली की शास्त्रीय नृत्यांगना हैं। उन्हें भारत के राष्ट्रपति द्वारा राज्यसभा में राज्यसभा सदस्य बनने के लिए नामित किया गया है। भारत के संविधान के अनुसार राज्यसभा में राष्ट्रपति 14 सदस्यों को मनोनित कर सकते हैं।

सोनल मानसिंह एक भारतीय भरतनाट्यम और ओडिसी नृत्य शैली की शास्त्रीय नृत्यांगना हैं। उन्हें भारत के राष्ट्रपति द्वारा राज्यसभा में राज्यसभा सदस्य बनने के लिए नामित किया गया है। भारत के संविधान के अनुसार राज्यसभा में राष्ट्रपति 14 सदस्यों को मनोनित कर सकते हैं। राज्यसभा में कुछ 245 सदस्य होते हैं। शास्त्रीय नृत्यांगना सोनल मानसिंह ने अपने अथक प्रयासों के बाद यह सम्मान हासिल किया है। 30 अप्रैल को वह अपना जन्मदिन बना रही हैं। इस मौके पर आइये आपको बताते हैं डॉ सोनल मानसिंह की जिंदगी से जुड़ी कुछ बातें- 

इसे भी पढ़ें: अजीत जोगी: प्रशासनिक सेवा में कार्य करने के बाद राजनीति में आए, छत्तीसगढ़ के पहले सीएम बनने का गौरव प्राप्त हुआ

 

 

डॉ सोनल मानसिंह की जिंदगी से जुड़ी बातें- 

सोनल मानसिंह का जन्म मुंबई में हुआ था। सोनल मानसिंह के दादा मंगल दास पकवासा थे, जो एक स्वतंत्रता सेनानी थे और भारत के पहले पांच राज्यपालों में से एक थे।

 

सोनल मानसिंह ने चार साल की उम्र में नागपुर में एक शिक्षक से अपनी बड़ी बहन के साथ मणिपुरी नृत्य सीखना शुरू किया। फिर सात साल की उम्र में उसने पंडानल्लूर स्कूल के विभिन्न गुरुओं से भरतनाट्यम सीखना शुरू कर दिया।

 

सोनल मानसिंह  के पास भारतीय विद्या भवन से संस्कृत में "प्रवीण" की डिग्री है और बी.ए. (ऑनर्स) एलफिंस्टन कॉलेज, बॉम्बे से जर्मन साहित्य में डिग्री। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन के कई बड़े हिस्सों पर रूस का हमला, इमारतें ध्वस्त; मलबे के नीचे दबे लोग

सोनल मानसिंह के घर वाले नहीं चाहते थे कि वह डांसर बनें लेकिन परिवार के विरोध के बावजूद उन्होंने अपने डांस की प्रेक्टिस को जारी रखा और अपनी डांस के भविष्य को लेकर आगे काम करती रहीं। नृत्य में उनका असली प्रशिक्षण तब शुरू हुआ जब 18 साल की थी। वह 18 साल की उम्र में प्रोफेसर यू.एस. कृष्णा राव और चंद्रभागा देवी  से भरतनाट्यम सीखने के लिए बैंगलोर गईं, मैलापुर गौरी अम्मल से अभिनय, और बाद में 1965 में गुरु केलुचरण महापात्र से ओडिसी सीखना शुरू किया।

मानसिंह की शादी पूर्व भारतीय राजनयिक ललित मानसिंह से हुई थी। इस जोड़े ने बाद में तलाक लेने का फैसला किया। उनके ससुर मायाधर मानसिंह ने उन्हें केलुचरण महापात्र से मिलवाया जहां उन्होंने ओडिसी में प्रशिक्षण प्राप्त किया। 

सोनल मानसिंह नृत्य करियर जो 1962 में मुंबई में उनके अरंगेट्रम के बाद शुरू हुआ, और 1977 में, उन्होंने नई दिल्ली में भारतीय शास्त्रीय नृत्य केंद्र (सीआईसीडी) की स्थापना की।  इन वर्षों में, नृत्य ने उन्हें पूरी दुनिया में ले लिया है  और पद्म भूषण (1992),  1987 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार, और पद्म विभूषण, भारत के दूसरे नंबर सहित कई पुरस्कार लाए।

 

2003 में सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार वह बालासरस्वती के बाद ऐसा सम्मान पाने वाली भारत की दूसरी महिला नर्तकी बन गईं।  2002 में नृत्य में अपने 40 साल पूरे करने के अवसर पर, प्रसिद्ध हिंदी फिल्म निर्देशक, प्रकाश झा ने उन पर एक वृत्तचित्र फिल्म बनाई, जिसका शीर्षक सोनल था। इस फिल्म ने उस साल सर्वश्रेष्ठ गैर-फीचर फिल्म का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी जीता। 

2018 में उन्हें प्रदर्शन कला के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए संगीत नाटक अकादमी फैलोशिप से सम्मानित किया गया, जिसे अकादमी रत्न के रूप में भी जाना जाता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।