पुलिस से न्याय न मिलने पर महिला ने एसपी ऑफिस में खाया जहर, हालात गंभीर, कांग्रेस ने बीजेपी सरकार पर दागा सवाल

पुलिस से न्याय न मिलने पर महिला ने एसपी ऑफिस में खाया जहर, हालात गंभीर, कांग्रेस ने बीजेपी सरकार पर दागा सवाल

महिला की पहचान संगीता पटेल बताई जा रहा है। संगीता एसपी ऑफिस में फरियाद लेकर पहुंची थी। जानकारी मिली है कि उसके पति और सास की प्रताड़ना से परेशान महिला ने अचानक एसपी ऑफिस में जहर खा लिया। मंगलवार को संगीता शिकायत लेकर एसपी ऑफिस पहुंची थी।

भोपाल। मध्य प्रदेश में सूबे की शिवराज सरकार में पुलिस बेलगाम है। प्रदेश के ऐसे कई थानों में लोगों की सुनवाई नहीं हो रही है। वहीं जबलपुर के एक थाने में सुनवाई नहीं होने के कारण एसपी ऑफिस पहुंची एक महिला ने जहर खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की है। महिला के जहर खाने की खबर से पुलिस प्रशासन के होश उड़ गए। आनन-फानन में उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी स्थिति गंभीर बताई जा रही है।

दरअसल महिला की पहचान संगीता पटेल बताई जा रहा है। संगीता एसपी ऑफिस में फरियाद लेकर पहुंची थी। जानकारी मिली है कि उसके पति और सास की प्रताड़ना से परेशान महिला ने अचानक एसपी ऑफिस में जहर खा लिया। महिला की हालात बिगड़ने पर पुलिस अधिकारियों ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया है।

इसे भी पढ़ें:प्रधानमंत्री मोदी ने एमपी को दिया तोहफा, 5 लाख से ज्यादा गरीबों को कराया गृह प्रवेश 

वहीं ये भी बताया जा रहा है कि वे पहले थाने में शिकायत दर्ज करा चुकी थी। लेकिन उन्हें थाने में न्याय नहीं मिला। मंगलवार को संगीता शिकायत लेकर एसपी ऑफिस पहुंची थी। ये भी सामने आया है कि पुलिस परामर्श केंद्र में उनका मामला लंबित है। वहां पर भी कोई समाधान नहीं होने से निराश होकर उन्होंने जहर का सेवन कर लिया।

इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस ने सूबे की शिवराज सरकार पर तंज कसा है। कांग्रेस नेता भूपेंद्र गुप्ता ने ट्वीट करते हुए लिखा कि फरियाद लिखने के लिये चक्कर लगाते लगाते थककर एक महिला ने जबलपुर एस पी आफिस में जहर खाया।इस मामले में किसके घर बुलडोजर चलायेंगे मामाजी। #बुलडोजरवाद





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।