पहले महिला के ससुर ने किया यौन शोषण फिर जबरन पिलाया मुर्गे का खून! 2 लोग गिरफ्तार

पहले महिला के ससुर ने किया यौन शोषण फिर जबरन पिलाया मुर्गे का खून! 2 लोग गिरफ्तार

भोसारी पुलिस स्टेशन के पुलिस जितेंद्र कदम ने मीडिया को बताया कि, पिड़िता का पति एक डिप्लोमा इंजीनियर है और उसके पास ग्रेजुएशन की डिग्री है। वह 30 दिसंबर 2018 को दोनों की शादी हुई थी और वह पिछले 4 महीनों से अलग रह रहे थे। पुलिस ने कहा कि, पूरी जांच की जा रही है।

महाराष्ट्र से एक बड़ी ही हैरान करने वाली खबर सामने आई है। मीडिया चैनल इंडिया टू़डे में छपी एक खबर के मुताबिक, एक बाबा के निर्देश पर ससुराल वालों ने बहु का उतपीड़न किया। खबर के मुताबिक, ससुर ने पहले अपनी बहु के साथ यौन उत्पीड़न किया और फिर उसे मुर्गे का खून पीने के लिए मजबूर किया। पीड़िता ने अपने ससुराल वालों और पति के खिलाफ मानसिक और शारीरिक प्रताड़ना का मामला दर्ज करा दिया है। पुलिस ने पीड़िता के पति और ससुर को गिरफ्तार कर लिया है वहीं सास के खिलाफ मामला दर्ज कर दिया गया है।

इसे भी पढ़ें: छत्तीसगढ़: महिला से दरिंदगी, बलात्कार के बाद प्राइवेट पार्ट में डाला डंडा

33 साल की पीड़िता ने बताया कि, उसका पति नपुंसक था और उसेक ससुराल वालों ने महिला से यह बात छिपाई हुई थी। महिला ने आरोप लगाते हुए आगे कहा कि, ससुर ने उसे गर्भवती करने के लिए जबरदस्ती करने की कोशिश भी की। महिला को जब अपने पति की नपुंसकता के बारेमें पता चला तो उसने अपने रिश्तेदारों को सबकुछ बता दिया जिसके बाद सुसराल वालों ने महिला के साथ मारपीट की। भोसारी पुलिस स्टेशन के पुलिस जितेंद्र कदम ने मीडिया को बताया कि, पिड़िता का पति एक डिप्लोमा इंजीनियर है और उसके पास ग्रेजुएशन की डिग्री है। वह 30 दिसंबर 2018 को दोनों की शादी हुई थी और वह पिछले 4 महीनों से अलग रह रहे थे। पुलिस ने कहा कि, पूरी जांच की जा रही है और दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है। महिला ने अपनी शिकायत में कहा कि, 2018 से ससुराल वालें उसेक  साथ मानसिक और शारीरिक शोषण कर रहे है। बता दें कि सुसर और पति पर घोरी प्रथाएं और काला जादू अधिनियम, 2013 और महाराष्ट्र मानव बलि और अन्य अमानवीय की धारा 3 के साथ भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कराया गया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।