स्वतंत्र भारत के पहले कानून मंत्री थे डॉ. भीमराव अम्बेडकर

Dr Bhimrao Ambedkar
Creative Commons licenses
निधि अविनाश । Apr 14, 2022 8:15AM
संविधान के रचियता डॉ. भीमराव अम्बेडकर की मृत्यु 6 दिसंबर 1956 को हुई थी। भारत की संविधान दुनिया का सबसे अधिक शब्दों वाला संविधान है लेकिन आपको बता दें कि संविधान के रचियता डॉ. भीमराव अम्बेडकर अपने इस लिखी हुए संविधान को जात देना चाहते थे।

अम्बेडकर जयंती 14 अप्रैल को भीमराव रामजी अंबेडकर की जयंती के रूप में मनाई जाती है। वह एक न्यायविद, अर्थशास्त्री और दलित नेता थे, जिन्होंने भारत के संविधान का मसौदा तैयार करने वाली समिति का नेतृत्व किया और स्वतंत्र भारत के पहले कानून मंत्री के रूप में कार्य किया। पश्चिमी भारत के एक दलित महान परिवार में जन्मे अंबेडकर को अपने उच्च जाति के स्कूली साथियों द्वारा कई बार अपमानित किया जाता था। उनके पिता भारतीय सेना में एक अधिकारी थे। बड़ौदा (अब वडोदरा) के गायकवाड़ (शासक) द्वारा छात्रवृत्ति से सम्मानित, अम्बेडकर ने संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन और जर्मनी के विश्वविद्यालयों में पढ़ाई की। उन्होंने गायकवाड़ के अनुरोध पर बड़ौदा लोक सेवा में प्रवेश किया, लेकिन, फिर से उनके उच्च जाति के सहयोगियों द्वारा उनपर दुर्व्यवहार किया गया। उन्होंने कानूनी अभ्यास और शिक्षण की ओर रुख किया और दलितों के बीच अपना नेतृत्व स्थापित किया। दलितों (या हरिजन, जैसा कि गांधी उन्हें कहते थे) के लिए बोलने के महात्मा गांधी के दावे का विरोध करते हुए, अम्बेडकर ने व्हाट कांग्रेस एंड गांधी हैव डन टू द अनटचेबल्स (1945) लिखा। 1947 में अंबेडकर भारत सरकार के कानून मंत्री बने। उन्होंने भारतीय संविधान के निर्माण में एक प्रमुख भूमिका निभाई, अछूतों के खिलाफ भेदभाव को समाप्त किया। 1951 में उन्होंने सरकार में अपने प्रभाव की कमी से निराश होकर इस्तीफा दे दिया। अक्टूबर 1956 में, हिंदू सिद्धांत में अस्पृश्यता के कारण निराशा में, उन्होंने हिंदू धर्म को त्याग दिया और नागपुर में एक समारोह में लगभग 200,000 साथी दलितों के साथ बौद्ध बन गए। अम्बेडकर की पुस्तक द बुद्धा एंड हिज़ धम्म 1957 में मरणोपरांत प्रकाशित हुई, और इसे 2011 में द बुद्ध एंड हिज़ धम्म: ए क्रिटिकल एडिशन के रूप में एक बार फिर प्रकाशित किया गया, जिसे आकाश सिंह राठौर और अजय वर्मा द्वारा संपादित, प्रस्तुत और एनोटेट किया गया।

इसे भी पढ़ें: संविधान शिल्पी और सामाजिक क्रांति के संवाहक थे डॉ. भीमराव अम्बेडकर

संविधान के रचियता डॉ. भीमराव अम्बेडकर की मृत्यु 6  दिसंबर 1956 को हुई थी। भारत की संविधान दुनिया का सबसे अधिक शब्दों वाला संविधान है लेकिन आपको बता दें कि संविधान के रचियता डॉ. भीमराव अम्बेडकर अपने इस लिखे हुए संविधान को जला देना चाहते थे। बताया जाता है कि 23 सितंबर 1953 को राज्यसभा में अम्बेडकर ने कहा था कि छोटे समुदायों और छोटे लोगों को हमेशा यह गर सताता है कि बहुसंख्यक उन्हें नुकसान पहुंचाएंगे। मेरे दोस्त कहता है कि मैंने संविधान बनाया है लेकिन आपको बताना चाता हुं कि अपने हाथों से लिखी इस संविधन को जलाने वाला व्यक्ति में ही होंगा। मुझे इस संविधान की जरूरत नहीं है क्योंकि यह किसी के लिए भी अच्छा नहीं होगा। लेकिन हमे याद रखना होगा कि एक तरफ बहुसंख्यक है और एक तरफ अल्पसंख्यक और बहुसंख्यक यह नहीं बोल सकते नहीं नहीं हम अल्पसंख्यकों को महत्व नहीं दे सकते क्योंकि इससे लोकतंत्र को नुकसान होगा। 19 मार्च 1955 को राज्यसभा में अम्बेडकर जी ने संविधान को जलाने के पीछे कारण बताया और कहा कि हमने भगवान के रहने के लिए मंदिर बनाया कि भगवान उसमें आकर रहने लगे लेकिन हुआ क्या वहां भगवान की जगह राक्षस आकर रहने लगे। हमने ये मंदिर राक्षस के लिए तो बनाया नहीं था। हमने तो इसे देवताओं के लिए बनाया था। अब हमारे पास इसे तोड़ने के अलावा कोई चारा ही नहीं है। इसलिए मैनें कहा था कि मैं संविधान को जला देना चाहता हूं।

- निधि अविनाश

अन्य न्यूज़