जानिए महिलाओं को हक दिलाने वाले मसीहा ईश्वर चंद्र विद्यासागर के बारे में…

ishwar chandra vidyasagar
Prabhasakshi
निधि अविनाश । Sep 26, 2022 1:29PM
ईश्वर चंद्र विद्यासागर जी हमेशा महिलाओं पर किए जा रहे उत्पीड़न के बारे में हमेशा मुखर रहे। उन्होंने ब्राह्मणवादी अधिकारियों को चुनौती दी और साबित किया कि विधवा पुनर्विवाह वैदिक शास्त्रों द्वारा स्वीकृत है।

ईश्वर चंद्र विद्यासागर 1800 के दशक के एक प्रसिद्ध लेखक, बुद्धिजीवी और सबसे बढ़कर मानवता के कट्टर समर्थक थे। उनका एक प्रभावशाली व्यक्तित्व था। बंगाली शिक्षा प्रणाली में क्रांति लाने वाले ईश्वर चंद्र विद्यासागर को कई विषयों में विशाल ज्ञान था जिसके कारण उन्हें विद्यासागर (ज्ञान का सागर) की उपाधि दी गई थी। ईश्वर चंद्र बंदोपाध्याय का जन्म 26 सिंतंबर 1820 को बंगाल के मिदनापुर जिले के बिरसिंह गांव में हुआ था। उनके पिता ठाकुरदास बंद्योपाध्याय और माता भगवती देवी बहुत धार्मिक व्यक्ति के थे। परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण ईश्वर का बचपन बुनियादी संसाधनों की कमी के बीच बिता। ईश्वर चंद्र एक तेज दिमाग वाले जिद्दी लड़के थे। साल 1826 में ईश्वर अपने पिता के साथ कलकत्ता चले गए। पैसों की कमी होने के कारण ईश्वर स्कूल के बाद अपने घर के कामों में मदद करते थे और रात में वे स्ट्रीट लैंप के नीचे पढ़ते थे। उन्होंने 1829 से 1841 के दौरान संस्कृत कॉलेज में वेदांत, व्याकरण, साहित्य, बयानबाजी, स्मृति और नैतिकता सीखी। अपने परिवार की वित्तीय स्थिति को ठीक करने के लिए ईश्वर ने जोरासांको के एक स्कूल में एक शिक्षण पद संभाला। उन्होंने 1839 में संस्कृत में एक प्रतियोगिता परीक्षण ज्ञान में भाग लिया और 'विद्यासागर' की उपाधि अर्जित की जिसका अर्थ है ज्ञान का सागर। ईश्वर की शादी महज 14 साल की उम्र में दिनमणि देवी से कर दिया गया था और दंपति को एक बेटा हुआ जिसका नाम रखा गया नारायण चंद्र।

ईश्वर चंद्र काफी तेज दिमाग के थे। 1946 में ईश्वर ने फोर्ट विलियम कॉलेज छोड़ा और संस्कृत कॉलेज में सहायक सचिव के रूप में शामिल हो गए। एक प्रोफेसर के रूप में संस्कृत कॉलेज में विद्यासागर ने जो पहला बदलाव किया, वह था संस्कृत के अलावा अंग्रेजी और बंगाली को सीखने के माध्यम के रूप में शामिल करना। उन्होंने वैदिक शास्त्रों के साथ-साथ यूरोपीय इतिहास, दर्शनशास्त्र और विज्ञान के पाठ्यक्रमों की शुरुआत की। ईश्वर को नारी शिक्षा का प्रबल समर्थक माना जाता था। उन्होंने लड़कियों के लिए स्कूल खोलने की मांग की और महिलाओं को आत्मनिर्भर होने में भी सक्षम बनाया। उन्होंने घर-घर जाकर परिवारों के मुखियाओं से अनुरोध किया कि वे अपनी बेटियों को स्कूलों में दाखिला दिलाने की अनुमति दें। उन्होंने पूरे बंगाल में महिलाओं के लिए 35 स्कूल खोले और 1300 छात्रों को नामांकित करने में सफल रहे। उन्होंने नारी शिक्षा भंडार की भी शुरुआत की।

इसे भी पढ़ें: आज के युग में भी उतने ही प्रासंगिक हैं पंडित दीनदयाल जी के विचार

ईश्वर चंद्र विद्यासागर जी हमेशा महिलाओं पर किए जा रहे उत्पीड़न के बारे में हमेशा मुखर रहे। उन्होंने ब्राह्मणवादी अधिकारियों को चुनौती दी और साबित किया कि विधवा पुनर्विवाह वैदिक शास्त्रों द्वारा स्वीकृत है। उन्होंने ब्रिटिश अधिकारियों के सामने अपनी दलीलें रखीं और उनकी दलीलें तब सुनी गईं जब 26 जुलाई, 1856 को हिंदू विधवा पुनर्विवाह अधिनियम, 1856 या अधिनियम XV, 1856 का आदेश दिया गया। एक उदाहरण स्थापित करने के लिए 1870 में अपने बेटे नारायण चंद्र का विवाह एक किशोर विधवा से कर दिया था। ईश्वर चंद्र विद्यासागर का 29 जुलाई, 1891 को 70 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

- निधि अविनाश

अन्य न्यूज़