नडाल के साथ जोड़ी बनाकर हार के साथ टेनिस को अलविदा कहा फेडरर ने

Roger Federer
प्रतिरूप फोटो
ANI
यह टेनिस के लिए विशेष दिन था, जब रोजर फेडरर अपना आखिरी मैच खेलने के लिए कोर्ट पर उतरे और उनका साथ कोई और नहीं बल्कि वह राफेल नडाल दे रहे थे जिनके साथ उनकी कई वर्षों तक कड़ी प्रतिद्वंदिता रही। फेडरर ने शुक्रवार की रात को अपने चमकदार करियर को अलविदा कहा।

यह टेनिस के लिए विशेष दिन था, जब रोजर फेडरर अपना आखिरी मैच खेलने के लिए कोर्ट पर उतरे और उनका साथ कोई और नहीं बल्कि वह राफेल नडाल दे रहे थे जिनके साथ उनकी कई वर्षों तक कड़ी प्रतिद्वंदिता रही। फेडरर ने शुक्रवार की रात को अपने चमकदार करियर को अलविदा कहा। इस 41 वर्षीय खिलाड़ी ने अपने करियर में 20 ग्रैंडस्लैम खिताब जीते और वह कई सप्ताह तक दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी भी रहे।

उन्होंने लेवर कप में अपना आखिरी मैच खेला जिसमें वह टीम यूरोप की तरफ से युगल मैच खेलने के लिए कोर्ट पर उतरे। उनके जोड़ीदार नडाल थे और इन दोनों दिग्गज खिलाड़ियों को टीम विश्व के फ्रांसिस टियाफो और जैक सॉक से हार का सामना करना पड़ा। टीम विश्व के खिलाड़ियों ने इस मैच को 4-6, 7-6 (2), 11-9 से जीता लेकिन यह केवल रिकॉर्ड के लिए है क्योंकि इस मैच के मायने कुछ और थे। यह विश्व टेनिस पर लंबे समय तक राज करने वाले फेडरर को विदाई देने का अवसर था।

जब मैच समाप्त हुआ और फेडरर ने पेशेवर टेनिस को अलविदा कहा तो उन्होंने सबसे पहले नडाल और फिर टियाफो और सॉक को गले लगाया। फेडरर इसके बाद भावुक हो गए और जब वह टीम यूरोप के अन्य खिलाड़ियों से मिलने जा रहे थे तो वह अपने आंसुओं को नहीं रोक पाए। स्टेडियम में मौजूद दर्शक तालियां बजा रहे थे लेकिन साथ ही उनकी सिसकियां भी निकल रही थी। फेडरर ने इसके बाद दर्शकों का आभार व्यक्त किया जो दो घंटे से अधिक समय तक चले और रात 12 बजकर 30 मिनट पर समाप्त हुए मैच के दौरान अलविदा फेडरर, अलविदा फेडरर कह रहे थे।

स्विजरलैंड के इस स्टार खिलाड़ी ने पिछले सप्ताह घोषणा की थी कि वह इस तीन दिवसीय प्रतियोगिता के बाद टेनिस से संन्यास ले लेंगे। इसके बाद उन्होंने स्पष्ट किया कि युगल मैच उनका आखिरी मैच होगा। फेडरर को पिछले साल विंबलडन के क्वार्टर फाइनल में हार के बाद अपने दाहिने घुटने के तीन ऑपरेशन कराने पड़े थे। इसके बाद वह कोर्ट पर नहीं उतर पाए और इस तरह से विंबलडन का वह मैच उनका आखिरी एकल मैच साबित हुआ। 

फेडरर ने पिछले दिनों एक साक्षात्कार में कहा था,‘‘ जब मैंने तय किया कि यह (संन्यास लेना) सर्वश्रेष्ठ फैसला है तो मैं दुखी था। मुझे इसका दर्द महसूस हो रहा था।’’ शुक्रवार को मैच से पहले फेडरर ने ट्वीट किया,‘‘ मैंने हजारों बार ऐसा किया है लेकिन यह अलग तरह का अहसास है। आज रात मैच देखने के लिए आने वाले सभी का आभार।’’ इस दिग्गज टेनिस खिलाड़ी ने अपने करियर में 20 ग्रैंड स्लैम खिताब जीते जिनमें विंबलडन में आठ, ऑस्ट्रेलियाई ओपन में छह, अमेरिकी ओपन में पांच और फ्रेंच ओपन में एक खिताब शामिल है।

फेडरर ने कुल मिलाकर 103 एकल खिताब जीते और वह 310 सप्ताह तक एटीपी रैंकिंग में नंबर एक पर काबिज रहे। इसके अलावा उनके नाम पर डेविस कप खिताब और ओलंपिक पदक भी दर्ज है। खेल से इतर उन्हें एक आदर्श खिलाड़ी माना जाता था जिन्होंने टेनिस को नई ऊंचाइयां प्रदान की।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़