सपनों की दुनिया देखना चाहते हैं तो चले आएं केरल के पोनमुडी हिल स्टेशन

By रेनू तिवारी | Publish Date: Jun 9 2018 2:21PM
सपनों की दुनिया देखना चाहते हैं तो चले आएं केरल के पोनमुडी हिल स्टेशन
Image Source: Google

ये सब मानो सपनों की दुनिया का जैसा... केरल के पोनमुडी का नजारा ऐसा ही खूबसूरत है वहां जाने का अनुभव आपको प्रकृति के करीब लाएगा... पोनमुडी तिरुवनंतपुरम से 56 किमी दूर एक खूबसूरत हिल स्टेशन है।

सफेद बादलों की छांव में बसा खूबसूरत पहाड़..
घने जंगल में नीलकंठ की गूंजती आवाज..
ओस की बूंदों से भीगी पत्तियां..
हवाओं में महकती जंगली फूलों की खुशबू..
झरने से गिरते पानी का सुंदर दृश्य..



ये सब मानो सपनों की दुनिया का जैसा... केरल के पोनमुडी का नजारा ऐसा ही खूबसूरत है वहां जाने का अनुभव आपको प्रकृति के करीब लाएगा... पोनमुडी तिरुवनंतपुरम से 56 किमी दूर एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। 
 
लगभग 3002 फीट की ऊंचाई पर स्थित यह पूरा इलाका पहाड़ियों और घाटियों से घिरा हुआ है। 
 
12 महीने यहां की पहाड़ियां धुंध से ढकी रहती हैं। तट पर उगने वाले जंगली फूल इस स्थल को खास बनाने का काम करते हैं। 
 


पोनमुडी इंसानी भीड़-भाड़ से कोसों दूर एक शांत स्थल है। गर्मियों के दौरान आप यहां का प्लान बना सकते हैं। 
 
यहां पर आपको घूमने के लिए काफी कुछ है जैसे- 
 
कल्लार-मीनमुट्टी फॉल


ये त्रिवेंद्रम और पोनमुडी के बीच एक आकर्षक झरना है जहा पर ट्रेकिंग के जरिए जाया जाता है।
 
स्वर्ण घाटी
यहां आप नदी के कम गहरे किनारों में जाकर एक ताजगी भरे स्नान का आनंद भी ले सकते हैं।
 
बोनोकॉड 
ये लगभग 2500 एकड़ जमीन में फैला है। जिसमें जंगल, झरने, धाराएं और चाय बागान शामिल हैं।
 
थेनमाला
पार्टनर के साथ नाइट ट्रिप या फैमली के साथ नाइट आउटिंग के लिए आप यहां रात में ठहर सकते हैं।
 
नेचर लवर्स
पोनमुडी के करीब 53 स्क्वेयर किलोमीटर तक फैले इस जंगल में आप पक्षियों के बने कई घोंसले देख सकते हैं। इसके अलावा यहां के जंगलों में आपको मालाबारी मेंढक, तितलियां और त्रावणकोरी कछुए भी देखने को मिलते हैं।
 
कोवलम बीच
पोनमुडी के इस फैमस बीच में आप अपनी फैमली के साथ एन्जॉय कर सकते हैं। इसके अलावा बीच के पास घूमने के लिए बहुत से खूबसूरत प्राचीन मंदिर भी हैं।
 
-रेनू तिवारी

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

Related Video