सैलानियों की पहली पसंद है पिंक सिटी जयपुर

By डॉ. प्रभात कुमार सिंघल | Publish Date: Jun 29 2019 3:31PM
सैलानियों की पहली पसंद है पिंक सिटी जयपुर
Image Source: Google

जयपुर में नाहरगढ़ की पहाड़ी के समीप चोटी पर स्थित गढ़ गणेश के मंदिर में गणेश जी की मूर्ति बाल रूप में विराजित है। यह स्थल जयपुर के लोकप्रिय पर्यटक स्थलों में है। मंदिर का निर्माण सवाई जयसिंह द्वारा अश्वमेध यज्ञ के साथ करवाया गया था।

पर्यटन एवं मेहमान नवाजी के लिए राजस्थान की राजधानी और गुलाबी नगर के नाम से विश्व में मशहूर सबसे बड़ा नगर जयपुर सैलानियों की खास पसन्द है। यह पहला ऐसा प्राचीन नियोजित शहर है जहां चौड़ी सड़कें, चौपड़, प्राचीन ऊँचे-ऊँचे कलात्मक गुलाबी द्वार, महल, किले, राजाओं की छतरियां, मंदिर एवं बाग-बगीचे आदि अपने समय के वैभव की कहानी सुनाते हैं। जयपुर शहर को महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय ने 1727 ई. में बसाया था और इस नगर का निर्माण एक बंगाली वास्तुकार विद्याधर भट्टाचार्य ने किया था। देशी एवं विदेशी सैलानी बड़ी संख्या में पूरे वर्ष जयपुर में चहल-कदमी करते हुए नजर आते हैं।

सिटी पैलेस
पुराने शहर के हृदय स्थल में राजस्थानी एवं मुगल शैली में निर्मित शासकों का महल जिसे ''सिटी पैलेस'' कहा जाता है स्थित है। यहां संगमरमर के स्तम्भों पर नक्काशीदार मेहराब, सोने व रंगीन पत्थरों की फूलों वाली आकृतियों के अलंकरण दर्शक को अचम्भित कर देते हैं। प्रवेश द्वार पर दो नक्काशीदार हाथी पहरेदार के रूप में खड़े नजर आते हैं। सिटी पैलेस में एक संग्रहालय बनाया गया है। इसमें  राजस्थानी पोशाकों तथा मुगलों व राजपूतों के अस्त्र-शस्त्रों का बेहतरीन संग्रह किया गया है। विभिन्न रंगों व आकार वाली तराशी गई मूठ वाली तलवारें हैं जो मीनाकारी का जड़ाऊ कार्य एवं जवाहरतों से अलंकृत हैं। संग्रहालय में शाही कालीनों, साज-सामान, लघु चित्र, अरबी, फारसी, लेटिन व संस्कृत में दुर्लभ ज्योतिष एवं खगोल विज्ञान की रचनाओं के उत्कृष्ट संग्रह देखने को मिलते हैं। सीटी पैलेसे खुलने का समय प्रातः 9 बजे से सायं 5 बजे तक है। प्रवेश के लिए निर्धारित शुल्क देना पड़ता है।
जंतर-मंतर
सिटी पैलेस के समीप ही स्थित ''जंतर-मंतर'' पत्थरों से बनाई गई एक खूबसूरत वेदशाला है। सवाई जयसिंह द्वारा देश में पाँच स्थानों पर बनाई गई वेदशालाओं में जयपुर की वेदशाला सबसे बड़ी और आकर्षक है। जंतर-मंतर के सभी यंत्रों का आकार और विन्यास वैज्ञानिक आधार पर किया गया है। सबसे बड़ा यंत्र है सूर्य घड़ी एवं प्रभावशाली यंत्र  राम यंत्र है। सूर्य घड़ी से समय मालूम किया जाता है कि जबकि राम यंत्र ऊँचाई नापने के लिए बना है। यहां तारों की गणना करने वाले कई यंत्र तथा बारह राशियों के यंत्र देखते ही बनते हैं। जंतर-मंतर खुलने का समय प्रातः 9 बजे से सायं 4.30 बजे तक है।
 


हवामहल 
शीतल हवा के लिए बनवाया गया हवामहल जंतर-मंतर के पीछे की ओर बड़ी चौपड़ के समीप मुख्य मार्ग पर स्थित है। हवामहल जाने का रास्ता पीछे की ओर बना है। इसका निर्माण 1799 ई. में करवाया गया था। पाँच मंजिला हवामहल अपने अनेक खिड़कियों एवं झरोखों के साथ अद्भुत कारीगरी के लिए गुलाबी रंग में अपनी पहचान बनाता है। बताया जाता है कि इन झरोखों से रानियां सड़क पर निकलने वाले जुलूस एवं शोभा यात्राओं को देखा करती थी। यहां एक संग्रहालय भी स्थित है। हवामहल प्रातः 9 बजे से सायं 4.30 बजे तक दर्शकों के लिए खुला रहता है।
गोविन्द देव जी मंदिर
सिटी पैलेस से जुड़ा जय निवास गार्डन के मध्य स्थित गोविन्द देव जी का मंदिर धार्मिक आस्था का बड़ा केन्द्र है। मंदिर भगवान कृष्ण को समर्पित है। जय निवास उद्यान के उत्तर में चन्द्र महल तथा दक्षिण में तालकटोरा तालाब स्थित है। मंदिर एवं ताल कटोरा के मध्य कई मंदिर, सरोवर, उद्यान आदि बनाये गये हैं। तालकटोरा में दर्शक नौकायन का आनन्द भी ले सकते हैं। बताया जाता है कि कृष्ण की मूर्ति को सवाई जय सिंह द्वितीय वृन्दावन से लाये थे और उस समय चन्द्र महल में ही पधराया गया तथा आगे चलकर वर्तमान स्थान पर स्थापित की गई। मंदिर के गर्भगृह में विशाल चाँदी के पाट पर श्याम वर्ण गोविन्द, राधा उनकी सखियां और लड्डू गोपाल की प्रतिमाएं हैं। ज्येष्ठ माह में भगवान की जलविहार, नोकाविहार, फूल बंगला और फूल श्रृंगार झांकियां सजाई जाती हैं। मंदिर की आन्तरिक सज्जा देखते ही बनती है, जहां यूरोपियन शैली के झूमर और भारतीय कला व संस्कृति को दर्शाने वाले चित्र लगाये गये हैं। मंदिर की छत चमकदार सोने की जड़ाई से बनी है। मूर्ति ऐसी जगह पर है जिसके चन्द्र महल से सीधे दर्शन किये जा सकते हैं। मंदिर में कृष्ण जन्माष्टमी, होली एवं वैष्णव पर्व धूम-धाम से मनाये जाते हैं, जिसमें विदेशी सैलानी भी बड़ी संख्या में भाग लेते हैं।
 
सरगासूली
सरगासूली अथवा ईसर-लाट त्रिपोलिया बाजार के पश्चिम की ओर आसमान को छूती हुई इमारत है। इसका निर्माण सवाई ईश्वरी सिंह ने 1749 ई. में करवाया था। यह लाट विजय प्राप्ति को मनाने के लिए बनवाई गई थी। त्रिपोलिया बाजार से गुजरते समय यह दूर से ही नजर आती है।
 
रामनिवास बाग
यह उद्यान अलबर्ट संग्रहालय, चिडि़याघर, वनस्पति संग्रहालय, रवीन्द्र मंच, आधुनिक कला दीर्घा तथा ओपन थियेटर तथा खूबसूरत बगीचे अपने में समेटे हुए है। अलबर्ट संग्रहालय भारतीय वास्तु कलाशैली का एक सुन्दर नमूना है जिसका निर्माण सवाई जयसिंह द्वितीय ने 1868 ई. में करवाया था। यहां उत्कृष्ट मूतियां, चित्र, प्राकृतिक विज्ञान के नमूने, इजिप्ट की ममी, फारस के कालीन, दीवारों पर बने बड़े-बड़े प्राचीन चित्र, अस्त्र-शस्त्र तथा विभिन्न प्रकार की मनोरम झांकियां देखी जा सकती हैं। चिडि़याघर अत्यन्त समृद्ध है जहां वनमानुष चिम्पांजी की अठखेलियां विशेष रूप से लुभाती हैं। रवीन्द्र मंच सांस्कृतिक गतिविधियों तथा कलादीर्घा चित्रकारों को बड़ावा देने का माध्यम है। यहां के सुन्दर बाग-बगीचे हर समय विशेष कर प्रातः एवं सायं दर्शकों की चहल-पहल से आबाद रहते हैं।
 
गुडि़या संग्रहालय
पुलिस स्मारक के समीप स्थित छोटी गुडि़याओं का संग्रहालय विशेष रूप से दर्शनीय है। यह संग्रहालय मूक एवं बधिर विद्यालय परिसर में बनाया गया है। यहां विभिन्न देशों की छोटी-छोटी विभिन्न प्रकार की रंग-बिरंगी गुडि़याएं देखने को मिलती हैं। यह संग्रहालय प्रातः 8 बजे से सायं 6 बजे तक दर्शकों के लिए खुला रहता है।  

तारामण्डल 
सचिवालय के समीप निर्मित आधुनिक बी.एम.बिड़ला तारामण्डल खगोल विज्ञान की जानकारी प्राप्त करने का एक अच्छा माध्यम है। कम्प्यूटर युक्त प्रक्षेपण व्यवस्था के साथ यहां श्रव्य एवं दृश्य कार्यक्रम से शिक्षा व मनोरंजन साधनों की अच्छी व्यवस्था उपलब्ध है। विद्यार्थियों को विद्यालय की ओर से समूह में आने पर रियायत प्रदान की जाती है। प्रत्येक माह के अन्तिम बुधवार को यह बंद रहता है। भवन की कलात्मकता एवं आस-पास के उद्यान की सुन्दरता देखते ही बनती है।
मोती डूंगरी एवं बिड़ला मंदिर
जवाहर लाल नेहरू मार्ग पर स्थित मोती डूंगरी का प्राचीन गणेश मंदिर तथा इसके समीप ही बिड़ला समूह द्वारा पिछले वर्षों में निर्मित आधुनिक बिड़ला मंदिर जिसे लक्ष्मी नारायण मंदिर भी कहा जाता है दर्शनीय हैं। गणेश मंदिर के बाहर कुछ ओर मंदिर भी बने हैं। बुधवार के दिन यहां विशेष रूप से दर्शनार्थियों का तांता लगा रहता है। यहां गणेश जी की दिव्य प्रतिमा में सूंड दांई ओर है जिस पर सिंदूर का चौला चढ़ाकर श्रृंगार किया जाता है। गणेश जी के मस्तष्क पर चांदी का मुकुट और छत्र लगा है।  बिड़ला मंदिर सफेद संगमरमर से निर्मित अत्यन्त कलात्मक मंदिर है। यह मंदिर एक आकर्षक उद्यान के बीच स्थित है। गर्भगृह में विष्णु एवं लक्ष्मी जी की विशालकाय प्रतिमाएं स्थापित हैं। मंदिर के तोरण द्वार व मूर्तिकला का सौन्दर्य अद्भुत है। बिना स्तम्भों का 4 हजार वर्ग फीट का सभा मण्डप एवं दीवारों पर बेल्जियम काँच में उत्कीर्ण धार्मिक चित्रों की शोभा देखते ही बनती है। उद्यान परिसर में कुछ अन्य देवी-देवताओं की प्रतिमाएं भी लगी हैं। रात्रि में बिजली की रोशनी में नहाया पूरा परिसर अत्यन्त रमणिक प्रतीत होता हैं। दक्षिण भारत भवन निर्माण शैली में बना यह मंदिर 55 हजार वर्ग फीट क्षेत्रफल में निर्मित है।
 
गलताजी
शहर की पूर्वी पहाडि़यों के मध्य स्थित गलताजी का धार्मिक एवं प्राकृतिक परिवेश देखते ही बनता है। यहां पहुँचने के लिए पहाड़ी पर दो कि.मी. की चढ़ाई तय करनी होती है। दूसरा रास्ता आगरा रोड़ से जाम डोली होकर जाता है। यह स्थल जयपुर से करीब 15 कि.मी. दूर धार्मिक पर्यटन में अपना महत्वपूर्ण स्थान रखता है। यहां के मंदिरों में दक्षिणी मुखी हनुमान जी, संतोषी माता मंदिर, राम रामेश्वर मंदिर, कल्याण जी मंदिर, पंचमुखी हनुमान जी मंदिर, सिद्धी विनायक मंदिर, वीर हनुमान मंदिर, पापड़ा मंदिर तथा पहाड़ी की चोटी पर सूर्य मंदिर प्रमुख मंदिर हैं। यहां कृषि गालव मंदिर एवं पवित्र कुण्ड बन हैं। महिला एवं पुरूषों के स्नान के लिए अलग-अलग कुण्ड बनाये गये हैं। यहां बने सात कुण्डों में सूर्य कुण्ड एवं गोपाल कुण्ड प्रमुख है। बताया जाता है कि अठारवीं सदी में जयपुर के महाराजा सवाई सिंह द्वितीय के दीवान कृपा राम ने यहां हवेलीनुमा भव्य मंदिर तथा कुण्डों का निर्माण कराया था। सावन एवं कार्तिक मास में यहां स्नान कर दान पुण्य करना पवित्र कार्य माना जाता है। इस तीर्थ पर बड़ी संख्या में बन्दरों की अठखेलियां देखते ही बनती है।
 
गढ़ गणेश मंदिर
जयपुर में नाहरगढ़ की पहाड़ी के समीप चोटी पर स्थित गढ़ गणेश के मंदिर में गणेश जी की मूर्ति बाल रूप में विराजित है। यह स्थल जयपुर के लोकप्रिय पर्यटक स्थलों में है। मंदिर का निर्माण सवाई जयसिंह द्वारा अश्वमेध यज्ञ के साथ करवाया गया था। यहां रिद्धि-सिद्धि और उनके दो पुत्र शुभ-लाभ की मूर्तियां भी स्थित हैं। बुधवार के दिन यहां विशेष रौनक रहती है। मंदिर का रास्ता ब्रह्मपुरी के समीप से पहाड़ी पर जाता है।
 
चूलगिरी जैन मंदिर
घाट की घूणी के पास जयपुर-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग 11 पर ऊँची पहाड़ी पर स्थित चूलगिरी जैन मंदिर भगवान महावीर स्वामी को समर्पित है, जहां महावीर स्वामी की बहुमूल्य रत्नों से जडि़त 7.5 फीट ऊँची खड़गासन मुद्रा की प्रतिमा स्थापित है, साथ ही नेमिनाथ एवं महावीर स्वामी की छोटी प्रतिमाएं भी मूल नायक के समीप वेदियों में स्थापित हैं, जो पद्मासन मुद्रा में हैं। परिसर में चौबिसी एवं एक कक्ष में देवी पद्मावति की प्रतिमा भी स्थापित है। मंदिर पहुँचने के लिए सड़क मार्ग एवं पहाड़ी मार्ग बने हैं। मंदिर के भव्य द्वार की कारीगरी लुभावनी है। जैन धर्मावलम्बियों का यह एक महत्वपूर्ण पर्यटक स्थल है।
 
 
डॉ. प्रभात कुमार सिंघल
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

Related Story

Related Video