आध्यात्मिक पर्यटन का मुख्य केंद्र है बाबा विश्वनाथ की नगरी वाराणसी

  •  प्रीटी
  •  अक्टूबर 17, 2020   16:12
  • Like
आध्यात्मिक पर्यटन का मुख्य केंद्र है बाबा विश्वनाथ की नगरी वाराणसी

संगीत, कला, शिक्षा और रेशमी वस्त्रों की बुनाई में वाराणसी शहर का खासा योगदान रहा है इसीलिए इस शहर को एक महान सांस्कृतिक केन्द्र भी कहा जाता है। रामचरितमानस की रचना भी तुलसीदास जी ने यहीं की थी।

देश भर में कई तीर्थस्थल हैं जहां आप पूजा अर्चना के साथ ही सैर−सपाटे का भी आनंद ले सकते हैं। ऐसा ही एक स्थल है हजारों शताब्दियों से भी ज्यादा समय से हिन्दुओं के मानस पर प्रभाव रखने वाला तथा उनकी आस्थाओं का प्रमुख केन्द्र वाराणसी। गंगा नदी के किनारे बसा यह शहर हिन्दू धर्म के सात पवित्र शहरों में से एक माना जाता है। मान्यता है कि यह समस्त तीर्थ स्थलों के सभी सद्गुणों और महत्व का संयोजन है और इस स्थान पर मृत्यु को प्राप्त होने पर तत्काल मोक्ष मिलता है।

इसे भी पढ़ें: समुद्र तटीय पर्यटन के शौकीनों के लिये गोवा से कम आर्कषक नहीं हैं दमन दीव

विश्व के प्राचीनतम शहरों में से एक इस शहर को काशी के नाम से भी जाना जाता है। भारत में जो 12 ज्योर्तिलिंग हैं उनमें से एक तो इसी शहर में ही है। कहते हैं कि इस स्थान की रचना स्वयं शिव और पार्वती ने की थी। प्रत्येक सैलानी को आकर्षित करने के लिए इस शहर में अनेक खूबियां हैं। सुबह के आरंभ में ही सूर्य की किरणें चमचमाती हुई गंगा के पार चली जाती हैं। नदी के किनारे पर स्थित ऊंचे−ऊंचे घाट, पूजा स्थल, मंदिर आदि सभी सूर्य की किरणों से सुनहरे रंग में नहाए हुए लगते हैं। सुबह−सुबह ही आपको यहां अंर्तमन को भाव-विभोर कर देने वाले भजन और मंत्रोच्चार सुनाई देने के साथ ही पूजा सामग्री की खुशबू से आंकठ हवा और पवित्र नदी गंगा में स्नान करते श्रद्धालुओं की छपाक−छपाक की आवाज सुनाई देगी।

संगीत, कला, शिक्षा और रेशमी वस्त्रों की बुनाई में इस शहर का खासा योगदान रहा है इसीलिए इस शहर को एक महान सांस्कृतिक केन्द्र भी कहा जाता है। रामचरितमानस की रचना भी तुलसीदास जी ने यहीं की थी। राष्ट्रभाषा हिन्दी के विकास में भी इस शहर का अमूल्य योगदान रहा है। आइए एक नजर डालते हैं इस शहर की सांस्कृतिक विरासत और दर्शनीय स्थलों पर−

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में इन जगहों का लुत्फ उठाने के लिए पैसे खर्च नहीं करने पड़ेंगे

काशी विश्वनाथ मंदिर

भगवान शिव के लिए बने इस मंदिर को स्वर्ण मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। मान्यता है कि वाराणसी वही स्थान है जहां पहला ज्योतिर्लिंग पृथ्वी को तोड़ कर निकला था तथा स्वर्ग की ओर रुख करके क्रोध में भभका था। कहते हैं कि प्रकाश के इस पुंज द्वारा भगवान शिव ने देवताओं पर अपनी सर्वोच्चता जाहिर की थी।

घाट

गंगा के किनारे पर चार किलोमीटर लंबा घाटों का यह क्रम वाराणसी का प्रमुख आकर्षण माना जाता है। जब सूर्य की पहली किरण नदी व घाटों को चीरती हुई आगे बढ़ती है तो यह दुलर्भ नजारा देखते ही बनता है। यहां सौ से भी अधिक घाट हैं और लगभग सभी घाटों से सुबह−सुबह का विहंगम दृश्य दिखायी देता है। 

दुर्गा मंदिर

दुर्गा जी के इस मंदिर का निर्माण वास्तुशिल्प की नागर शैली में हुआ है और इस मंदिर के शिखर कई छोटे शिखरों से मिलते हैं। मंदिर के आधार में पांच शिखर हैं और शिखरों की एक के ऊपर दूसरी तहें लगते जाने के बाद आप देखेंगे कि अंत में सबसे ऊपर एक ही शिखर रह जाएगा तो इस बात का प्रतीक है कि पांच तत्वों से बना यह संसार अंत में एक ही तत्व यानि ब्रह्म में मिल जाता है। कहते हैं कि इस मंदिर का निर्माण 18वीं शताब्दी में हुआ था और यह मंदिर दुर्गा जी के सबसे पुराने और प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है।

ज्ञानवापी मस्जिद

विश्वनाथ मंदिर के निकट ही तत्कालीन शासक औरंगजेब ने ज्ञानवापी मस्जिद का निर्माण करवाया था। काशी विश्वनाथ मंदिर के निकट बनी यह मस्जिद आज भी हिन्दू−मुस्लिम सौहार्द का प्रतीक है।

इसे भी पढ़ें: उत्तर केरल में घूमने की यह हैं बेस्ट जगहें, आप भी जाएं जरूर

अन्नपूर्णा मंदिर

देवी अन्नपूर्णा के इस मंदिर का निर्माण पेशवा बाजीराव ने 1725 में करवाया था। यह मंदिर भी अपनी कलाकृति व नक्काशी के लिए प्रसिद्ध है। सैलानियों के लिए आकर्षण का केन्द्र यह मंदिर अपना एक अलग ऐतिहासिक महत्व भी रखता है।

तुलसी मानस मंदिर

1964 में वाराणसी के ही लोकहितैषी परिवार द्वारा बनवाया गया यह मंदिर भगवान श्रीराम को समर्पित किया गया है। सफेद संगमरमर से निर्मित इस मंदिर की दीवारों पर रामचरितमानस के दोहे और चौपाइयां अंकित की गई हैं जोकि इसकी शोभा में चार चांद लगा देती हैं।

भारतमाता मंदिर

इसे आप विशेष मंदिर भी कह सकते हैं क्योंकि यह एक नये तरह का मंदिर है जहां पंरपरागत देवी−देवताओं की मूर्तियों के स्थान पर भारत का नक्शा है, जिसको कि संगमरमर पत्थर में तराशा गया है। यह मंदिर पुरातनिकों तथा कुछ राष्ट्रवादी पुरुषों द्वारा बनवाया गया था।

उक्त स्थानों के साथ ही आप इस शहर में संकट मोचन मंदिर, भैरव मंदिर, मुख्य बाजार, आलमगीर मस्जिद, रामनगर किला एवं म्यूजियम आदि भी देखने जा सकते हैं। ठहरने के लिए वैसे तो यहां पर कई धर्मशालाएं भी है लेकिन यदि आप चाहें तो यू.पी. टूरिज्म द्वारा संचालित टूरिस्ट बंगले के अलावा प्राइवेट होटलों में भी ठहर सकते हैं। देश के सभी नगरों से सड़क मार्ग द्वारा जुड़े इस शहर में रेल के अलावा हवाई यात्रा द्वारा भी पहुँचा जा सकता है लेकिन यह याद रखें कि यहां से निकटतम हवाई अड्डा बाबतपुर है जोकि शहर से तकरीबन 22 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस प्रकार इस शहर में घूम कर न सिर्फ आपको आत्मीय संतुष्टि होगी अपितु आपके सामान्य ज्ञान में वृद्धि के साथ ही आपके प्रिय स्थलों की सूची में भी एक और कड़ी जुड़ेगी।

प्रीटी







This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept