आज पितृ पक्ष का आखिरी दिन, मनाई जा रही है महालया अमावस्या, भूलकर भी न करें ये गलतियां

mahalaya amavasya
प्रतिरूप फोटो
ANI
एकता । Sep 25, 2022 2:40PM
आज यानि 25 सितंबर को महालया अमावस्या है, जिसे पितृ अमावस्‍या और पितृ मोक्ष अमावस्‍या के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन पितृ पक्ष समाप्त हो जाता है। पितृ पक्ष के आखिरी दिन का ख़ास महत्व होता है। इस दिन लोग अपने पितरों का श्राद्ध कर उन्हें अपने लोक वापस भेज देते हैं।

आज यानि 25 सितंबर को महालया अमावस्या है, जिसे पितृ अमावस्‍या और पितृ मोक्ष अमावस्‍या के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन पितृ पक्ष समाप्त हो जाता है। पितृ पक्ष के आखिरी दिन का ख़ास महत्व होता है। इस दिन लोग अपने पितरों का श्राद्ध कर उन्हें अपने लोक वापस भेज देते हैं। इसके अलावा आज के दिन पितृ विसर्जन, पवित्र नदी में स्नान कर तर्पण, पिंडदान भी किया जाता है। महालया अमावस्या पर पितृ पक्ष की समाप्ति के साथ ही देवी पक्ष का आरंभ हो जाता है। देवी पक्ष की शुरू होते ही माँ दुर्गा कैलाश पर्वत से धरती पर आकर नौ दिनों तक यहाँ पर विराजमान रहती हैं। इस दौरान देशभर में बड़ी धूमधाम से नवरात्रि मनाई जाती हैं।

इसे भी पढ़ें: शुभ योगों में मनाई जाएगी सर्वपितृ अमावस्या, पृथ्वी लोक से विदा होंगे पितर

महालया अमावस्या तिथि

महालया अमावस्या इस साल 25 सितंबर 2022 की सुबह 3 बजकर 12 मिनट से शुरू होगी और इसका समापन 26 सितंबर 2022 सुबह 3 बजकर 23 मिनट पर होगा।

इस विधि से करें पितरों की विदाई

ज्योतिषों के अनुसार, पितृपक्ष के दौरान कराया गया भोजन सीधे हमारे पितरों को मिलता है। इसलिए महालया अमावस्या के दिन आप पितरों का मनपसंद खाना बनाकर ब्राह्मणों को भोजन करवाएं।

इसे भी पढ़ें: सर्वपितृ अमावस्या: जानिए क्यों है इसका विशेष महत्व

महालया अमावस्या पर न करें ये गलतियां

- महालया अमावस्या पर उन्हीं पितरों का श्राद्ध करें जिनकी मृत्‍यु की तिथि आपको पता नहीं है। आप उन पितरों का भी श्राद्ध इस दिन कर सकते हैं, जिनकी मृत्‍यु अमावस्‍या के दिन ही हुई थी। बता दें मृत्‍यु तिथि के दिन ही पितरों का श्राद्ध करना ठीक रहता है।

- पितृ पक्ष के दौरान ज्योतिष बाल-नाखून नहीं काटने की सलाह देते हैं। अगर आप इस दौरान ऐसा कुछ कर भी लेते हैं तो ध्यान रहें कि महालया अमावस्या के दिन आपको भूलकर भी ये गलती नहीं करनी हैं।

- महालया अमावस्या के दिन शराब और नॉन वेग का सेवन न करें।

- महालया अमावस्या के दिन अगर कोई गरीब या बेजुबान जानवर आपके घर आता है तो उसे खाली हाथ न जाने दें।

अन्य न्यूज़