World Heart Day 2022: दिल की खराब सेहत कम कर देती है उम्र, शरीर दे रहा है ये संकेत तो न करें नजरअंदाज

World Heart Day 2022
Prabhasakshi
एकता । Sep 29, 2022 1:32PM
29 सिंतबर को दुनियाभर में 'वर्ल्ड हार्ट डे' मनाया जाता है। वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन द्वारा इस दिन की स्थापना की गई थीं, ताकि लोगों को दिल की बीमारियों से जुड़े संकेतों, रोकथाम के तरीकों और इनसे प्रभावित मरीजों की सहायता करने के बारे में शिक्षित किया जा सके।

29 सिंतबर को दुनियाभर में 'वर्ल्ड हार्ट डे' मनाया जाता है। वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन द्वारा इस दिन की स्थापना की गई थीं, ताकि लोगों को दिल की बीमारियों से जुड़े संकेतों, रोकथाम के तरीकों और इनसे प्रभावित मरीजों की सहायता करने के बारे में शिक्षित किया जा सके। मौजूदा समय में हार्ट फेलियर और हार्ट अटैक के मामलों में बढ़ोतरी देखने को मिली है। पहले के समय में दिल की बीमारिया बुजुर्गों में देखी जाती थीं, लेकिन आजकल युवा भी इसकी चपेट में आ गए हैं।

इसे भी पढ़ें: World Heart Day : इस हार्ट दिवस पर जानें कैसे रखें अपने दिल का ख्याल ?

एक रिपोर्ट के अनुसार, हर साल 1.7 करोड़ से ज्यादा लोग दिल की बीमारी से अपनी जान गंवा देते हैं। आपको यह जान कर हैरानी होगी कि भारत में पिछले 30 सालों में दिल की बीमारी से मरने वालों की संख्या दोगुनी हो गयी है और लगातार बढ़ती ही जा रही है। ऐसे में आज हम दिल की बीमारियों से जुड़े कुछ लक्षण और उपाय बताएँगे, जिनकी मदद से आप हार्ट अटैक और फेलियर का खतरा टाल सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: हार्ट अटैक के इन लक्षणों को ना करें अनदेखा, जा सकती है जान

दिल की बीमारी के शुरूआती लक्षण

सीने में दर्द- यह हार्ट अटैक का शुरूआती और सबसे बड़ा लक्षण होता है। अगर आपको सीने के बाएं तरफ दर्द, भारीपन, जकड़न और दबाव जैसा महसूस हो रहा है तो इसे हलके में ना लें। कई बार तनाव की वजह से भी सीने में दर्द हो सकता है, लेकिन बार-बार सीने में दर्द की समस्या हो रही है तो डॉक्टर से संपर्क करें और समय रहते अपना इलाज करवाएं।

बेवजह पसीना आना- गर्मी के मौसम में और वर्कआउट के बाद पसीना आना आम बात है, लेकिन अगर बिना कुछ किए ही आपको पसीना आ रहा है तो सतर्क हो जाए। पसीने के साथ अगर घबराहट भी महसूस हो रही हैं तो जल्द से जल्द डॉक्टर के पास जाएं और अपना इलाज करवाएं। सुबह और रात के समय ठंडा पसीना आना हार्ट फेलियर का संकेत हो सकता है।

सांस फूलना और थकान होना- शरीर सही ढंग से तभी काम कर पता है, जब उसके अंग स्वस्थ हो। ऐसे में अगर थोड़ा सा काम करने पर आप थक जाते हैं या फिर थकान के दौरान आपको साँस लेने में तकलीफ होने लगती हैं तो इसका साफ़ सा मतलब है कि आपका दिल स्वस्थ नहीं है। बार-बार सांस फूलना और लगातार शरीर का थका रहना भी हार्ट अटैक के लक्षणों में शामिल है।

इसे भी पढ़ें: आपके दिल के लिए खतरनाक हो सकती है शराब, जानें कैसे करती है प्रभावित

दिल की बीमारी को रोकने के उपाय

शरीर में मोटापा बढ़ना हार्ट अटैक का एक मुख्य कारण है, इसलिए अपने वजन को नियंत्रित रखें। दिल को स्वस्थ बनाने और वजन कम करने के लिए दिन में कम से कम एक घंटा एक्सरसाइज करें। इसके अलावा गलत खानपान की आदत भी हार्ट अटैक का कारण बन सकती है तो बेहतर होगा कि इसमें भी सुधार करें। दिन में अच्छा खाना खाने के साथ फ्रूट्स का भी सेवन करें। बिगड़ी लाइफस्टाइल की वजह से लोगों की सोने और उठने की आदत ख़राब हो गई है, जो आगे चलकर हार्ट अटैक का कारण बन सकती है। इसे रोकने के लिए हर दिन पर्याप्त दिन लेनी बहुत जरुरी है।

अन्य न्यूज़