Gyan Ganga: माता सीताजी के पास हनुमानजी को ही इसलिए भेजा था भगवान श्रीराम ने

Gyan Ganga: माता सीताजी के पास हनुमानजी को ही इसलिए भेजा था भगवान श्रीराम ने

सज्जनों क्या श्रीराम जी का कोई भी कार्य तर्कहीन व दिशाभ्रमित हो सकता है? नहीं न! तो सुग्रीव का चयन न करके, श्रीहनुमान जी का चयन भला कैसे अनुचित हो सकता है। यहां भी श्रीराम जी प्रश्नकर्ता का उत्तर बड़े मार्मिक तरीके से देते हैं।

भगवान श्रीराम जी का चयन भला अनुचित कैसे हो सकता है? वास्तव में सत्य तो यह है कि वे जिसे भी चुन लें, वही उचित पात्र हो जाता है। उन्होंने त्रिलोक पति रावण से भिड़ने के लिए वानरों की सेना का चयन किया। वे वानर जिन्हें रावण समझता है कि वानर और मनुष्य तो हमारा आहार हैं। लेकिन प्रभु ने वानरों को चुना, तो प्रभाव यह हुआ कि समस्त राक्षस जाति उल्टे वानरों का ही आहार बन गए। लेकिन जिस समय प्रभु श्रीसीता जी के लिए अपने संदेश वाहक का चयन करते हैं, तो हर किसी को न चुन केवल श्रीहनुमान जी को ही चुनते हैं। यहाँ भी वे किसी को भी चुन सकते थे। कारण कि वे किसी भी अपात्र को चुन लें, तो पात्र तो उसे बन ही जाना है। अब क्योंकि प्रभु तो जनमानस को जीवन का आदर्श समझा रहे हैं। सामान्य मानव में तो प्रभु जैसा सामर्थ्य नहीं होता कि वह जिसे भी चुन ले, वही पात्र बन जाता है। इसलिए कहना चाह रहे हैं कि जब भक्ति की खोज में निकलना हो, तो पहले किसी संत का ही चयन करना होता है। ऐसा संत जो श्रीहनुमान जी भाँति पूर्ण हो। श्रीराम जी ने तो लीला रचने हेतु श्रीहनुमान जी का चयन कर लिया। लेकिन जैसा कि हमने विगत अंक में जाना कि प्रभु द्वारा श्रीहनुमान जी के चयन पर भी आपत्ति है। ‘बल’ विषय को लेकर, एक प्रश्नकर्ता का समाधान तो प्रभु ने कर ही दिया था। लेकिन जब बात आई कि श्रीहनुमान जी जानकी माता को प्रभु के बिरह का बखान भला कैसे करेंगे। जिसका सबसे प्रमुख कारण यह है, कि श्रीहनुमान जी तो ठहरे विशुद्ध बाल ब्रह्मचारी। और एक ब्रह्मचारी को पति-पत्नी के बीच वैवाहिक संबंधों के दुख-सुख का भला क्या ज्ञान? वे क्या जानें कि पति से जब पत्नी बिछुड़ती है, तो उस बिछोह की पीड़ा क्या होती है? तभी तो समाज में एक वर्ग का यह प्रश्न उचित जान पड़ता है कि मुद्रिका श्रीहनुमान जी की अपेक्षा सुग्रीव को ही देकर, सीता मईया के पास भेजा जाना चाहिए था। कारण कि सुग्रीव को पत्नी बिछोह की पीड़ा का बहुत अच्छे से अनुभव है। उसे पता है कि बिन अपनी प्रियत्मा के जीवन कितना नीरस व वीरान लगता है। निश्चित ही सुग्रीव श्रीराम जी की आंतरिक अवस्था को अधिक अच्छे से महसूस कर, माता सीता के समक्ष प्रभु की अवस्था का सही चित्रण कर सकता है। लेकिन पता नहीं क्यों श्रीराम जी ने इस विषय पर चिंतन ही नहीं किया। लेकिन सज्जनों क्या श्रीराम जी का कोई भी कार्य तर्कहीन व दिशाभ्रमित हो सकता है? नहीं न! तो सुग्रीव का चयन न करके, श्रीहनुमान जी का चयन भला कैसे अनुचित हो सकता है। यहां भी श्रीराम जी प्रश्नकर्ता का उत्तर बड़े मार्मिक तरीके से देते हैं।

इसे भी पढ़ें: Gyan Ganga: सीताजी के पास भेजने के लिए श्रीराम ने आखिर हनुमानजी को ही क्यों चुना था?

श्रीराम जी कहते हैं कि संसार में आपने किसे दुखी नहीं देखा। सभी अथाह दुख से पीड़ति हैं। और जब भी किसी से हम अपनी कोई पीड़ा रखने का प्रयत्न करते हैं, तो आप सामने वाले की प्रतिक्रिया देखना। सामने वाला आपका दुखड़ा पूरा सुनता भी नहीं, कि उसे अपने दुख सुनाने की पड़ जाती है। आपने जरा-सी अपने ज्वर की बात क्या छेड़ी, वह तत्काल ही अपने कभी हुए ज्वर की धुन छेड़ कर बैठ जाता है। उसे लगता है कि आपका रोग तो जो हुआ सो हुआ। पहले आप मेरे रोग की गाथा सुनो, और आप तब देखियेगा। वह अपनी रोग गाथा के प्रसंगों की लड़ी टूटने नहीं देगा। कल्पना कीजिए, श्रीहनुमान जी के स्थान पर अगर मैं, सुग्रीव को भेज भी देता, तो उसने श्रीसीता जी के पास मेरे मन की पीड़ा को थोड़ी न परोसना था। अपितु अपनी ही रागनी छेड़ कर बैठ जाना था। आप स्वयं ही कल्पना कीजिए, कि क्या इससे हमारी प्रिय सीता जी के अंतःकरण को शांति का अनुभव होता? निश्चित ही वे और व्यग्र व अशांत हो जातीं। आप संसार के किसी भी प्रेमी-प्रेमिका के मधुर संबंधों को उठा कर देख लीजिए। प्रेमी कभी अपनी प्रेमिका से विलग कोई अन्य बात सुनना पसंद ही नहीं करता। किसी और के प्रसंग में उसे रूचि ही नहीं आती। सांसारिक प्रेमी युगल जब अपने प्रेम में इतनी गुणवत्ता रखता है, तो श्रीसीता जी और मैं, भला अपने प्रेम में, ऐसे उच्च कोटि के आदर्शों का त्याग भला कैसे कर देंगे। श्रीसीता जी भी भला हमारे प्रसंग को छोड़़ और अन्य प्रसंग सुनने में कैसे रूचि ले सकती हैं। इसीलिए हमने श्रीसीता जी के पास भेजने के लिए, श्रीहनुमान जी का चयन किया। श्रीहनुमान जी का तो स्वभाव ही यह है कि उन्हें मेरे कार्य के अलावा और अन्य किसी कार्य में रूचि ही नहीं होती। और हमारी महिमा को छोड़ उन्हें किसी की चर्चा में रत्ती भर भी रस नहीं आता-

इसे भी पढ़ें: Gyan Ganga: हनुमानजी को अंगूठी देने के बाद क्या समझा रहे थे भगवान श्रीराम

‘राम काज करिबे को आतुर। 

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।’ 

श्रीसीता जी के समक्ष जब श्रीहनुमान जी जायेंगे, तो दोनों ही क्योंकि मेरे अत्यधिक प्रेमी हैं, तो दोनों को ही मेरी चर्चा में परमानंद की प्राप्ति महसूस होगी। जितना श्रीहनुमान जी सुनाते जायेंगे, श्रीसीता जी का बिरह की मार से छलनी हृदय राहत का अनुभव करेगा। रही बात कि श्रीहनुमान जी तो बाल ब्रह्मचारी हैं, तो वे भला श्रीसीता जी को पति-पत्नी के बीच संबंधों का कैसे वर्णन करेंगे। तो इस दृष्टिकोण से आप देख ही क्यों रहे हैं, कि श्रीहनुमान जी को कोई पति-पत्नी के प्रसंग गाने पड़ेंगे। क्या आप नहीं जानते कि श्रीहनुमान जी श्रीसीता जी को माता और हमें पिता के भाव से देखते हैं। संसार में भी अगर किसी बालक के माता-पिता विलग हो जायें, और बालक को अपनी माता के समक्ष अपने दूर बैठे पिता की मनोदशा बयां करने का अवसर मिल जाये, तो क्या वह अपनी माता को अपने पिता के बारे में नहीं बतायेगा। निश्चित ही वह सब प्रकार से सब वास्तुस्थिति का वर्णन करेगा ही करेगा। ठीक ऐसे ही श्रीहनुमान जी अपनी माता श्रीसीता जी के समक्ष अपने पिता, अर्थात मेरी वास्तविक स्थिति की चर्चा तो करेगा ही न। भला इसमें कैसा संकोच। इसलिए श्रीसीता जी के पास श्रीहनुमान जी को भेजने का हमारा निर्णय किसी भी प्रकार से अनुचित नहीं था।

आगे श्रीसीता जी की खोज में वानर कहाँ तक सफल हो पाते हैं, जानेंगे अगले अंकों में...(क्रमशः)...जय श्रीराम...!

-सुखी भारती