पुलवामा हमले के बाद अब पाक में रिलीज नहीं होगी टोटल धमाल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 18, 2019   15:09
पुलवामा हमले के बाद अब पाक में रिलीज नहीं होगी टोटल धमाल

फिल्म का निर्माण अजय देवगन के ‘एफफिल्म्स’ और ‘फोक्स स्टार स्टूडियो’ ने मिलकर किया है। यह 22 फरवरी को बड़े पर्दे पर रिलीज होगी।

मुम्बई। अभिनेता अजय देवगन ने सोमवार को घोषणा की कि उनकी आने वाली फिल्म ‘टोटल धमाल’ पाकिस्तान में रिलीज नहीं की जाएगी। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले के मद्देनजर यह निर्णय किया गया है। हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। इसकी जिम्मेदारी पाकिस्तान में सक्रिय आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी। देवगन ने ट्वीट किया, ‘‘मौजूदा स्थिति को देखते हुए ‘टोटल धमाल’ की टीम ने फिल्म को पाकिस्तान में रिलीज नहीं करने का निर्णय किया है।’’

इंद्र कुमार के निर्देशन में बनी ‘टोटल धमाल’ में अजय देवगन के अलावा अनिल कपूर, माधुरी दीक्षित, अरशद वारसी, जावेद जाफरी और रितेश देशमुख जैसे सितारे भी हैं। फिल्म का निर्माण अजय देवगन के ‘एफफिल्म्स’ और ‘फोक्स स्टार स्टूडियो’ ने मिलकर किया है। यह 22 फरवरी को बड़े पर्दे पर रिलीज होगी।

बॉलीवुड में विषय आधारित फिल्मों का चलन नया नहीं है: अजय देवगन

अजय देवगन का कहना है कि बॉलीवुड में विषय आधारित फिल्मों का चलन नया नहीं है। बस, फर्क इतना है कि ये फिल्में अब अच्छी कमाई करने लगी हैं। निर्माता निर्देशक प्रकाश झा की फिल्म ‘जख्म’ का उदाहरण देते हुए अजय ने कहा, ‘‘ हमने बहुत पहले फिल्म ‘जख्म’ बनाई थी। प्रकाश झा लंबे समय से ऐसी फिल्में बना रहे हैं। हर बार वे कहते हैं कि विषय में बदलाव आया है। पर मुझे समझ नहीं आता कि इस पर बात ही क्यों करें। ऐसी फिल्मों ने मल्टीप्लेक्सेस के आने के बाद अच्छी कमाई करना शुरू किया है।’’

इसे भी पढ़े: 'टोटल धमाल' टीम पुलवामा हमले में शहीदों के परिवार को 50 लाख रुपये देगी

अजय ने कहा, ‘‘ पहले ये फिल्में कमाई नहीं कर पाती थीं। अब ये कमाई कर रही हैं। बस, यही फर्क है। चीजें वैसी ही चल रही हैं। आप यह फैसला नहीं कर सकते कि ‘मुझे बदलना है’ या ‘चीजों को बदलने की जरूरत है’। उन्होंने कहा, ‘‘ दर्शक वर्ग बदल रहा है तो आपको भी समय के साथ बदलना होगा। आज मेरी बेटी का सोचने का तरीका बिल्कुल अलग है। मैं उसकी सोच से कुछ सीखने की कोशिश करता हूं।’’ अभिनेता ने कहा, ‘‘ मैं लोगों की मानसिकता और सोचने के तरीके को समझने तथा उससे सीखने की कोशिश करता हूं। भावनाएं एक हैं लेकिन उनका और हमारा उसे जाहिर करने का तरीका अलग है। हमें इसे सिनेमा और स्वयं के लिए सीखने की जरूरत है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

मनोरंजन जगत

झरोखे से...