शिव का अपमान नहीं सह सकते, 'तांडव' के मेकर्स को जेल तो जाना पड़ेगा!

Tandava
रेनू तिवारी । Jan 20, 2021 3:35PM
बॉलीवुड एक्टर सैफ अली खान की वेब सीरीज तांडव के खिलाफ पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हो रहा है। वेब सीरीज में दिखाए गये कुछ विवादित सीन को लेकर वेब सीरीज को बैन करने की मांग हो रही है।

बॉलीवुड एक्टर सैफ अली खान की वेब सीरीज तांडव के खिलाफ पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हो रहा है। वेब सीरीज में दिखाए गये कुछ विवादित सीन को लेकर वेब सीरीज को बैन करने की मांग हो रही है। कई राज्यों में वेब सीरीज तांडव के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जा चुकी है। मामले की जांच करने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस के 4 सदस्य मुंबई भी पहुंच चुके हैं। लगातार बढ़ते विवाद के बाद तांडव के निर्देशक अली अब्बस जफर ने पूरी टीम की तरफ से माफी भी मांगी है। उन्होंने सोशल मीडिया पर एक नोट जारी किया जिसमें उन्होंने कहा कि अगर गैर-इरादतन किसी की हमने भावनाओं को आहत किया है तो हम बिना शर्त माफी मांगते हैं।

इसे भी पढ़ें: अमेजन प्राइम की वेब सीरीज पर सरकार तांडव मचा रही है: अखिलेश यादव 

तांडव की टीम के माफीनामे के बाद भी विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। मुंबई सहित कई राज्यों में तांडव के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है। लोगों का मानना है कि कब तक बॉलीवुड में ऐसा चलता रहेगा। बॉलीवुड के कुछ लोगों ने हिंदू धर्म को टारगेट कर रखा है हमेशा ही कुछ न कुछ गलत हमारे देवी-देवताओं के बारे में दिखाया जाता है और फिर एक माफीनाम जारी करके बात खत्म कर दी जाती है। कुछ समय बाद फिर से वहीं चीजें दोहराई जाती है। लोगों की मांग है कि तांडव पर सख्त कार्यवाही हो ताकी आगे से ऐसी चीजें न हो। इसी मांग को लेकर लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में वेब सीरीज तांडव पर बवाल, मंत्री ने लिखा पत्र मुख्यमंत्री ने जताई आपत्ति 

तांडव के विरोध के बीच सियासत भी तेज है।  मुंबई के घाटकोपर से भाजपा विधायक राम कदम मेकर्स को जेल भेजने की मांग कर रहे हैं। वह मुंबई के घाटकोपर पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज करवाने गये थे। जहां मुंबई पुलिस ने उनकी एफआइआर दर्ज नहीं कि जिसके बाद राम कदम ने पुलिस स्टेशन के बाहर भूख हड़ताल शुरू कर दी। राम कदम के साथ उनके कुछ कार्यकर्ता भी शामिल थे। 

अंग्रेजी वेबसाइट इंडिया डुटे की खबर के अनुसार मंगलवार को राम कदम अपने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर घाटकोपर पुलिस थाने के सामने भूख हड़ताल पर बैठ गए थे। राम कदन ने ये भी आरोप लगाया की मुंबई पुलिस तांडव के मेकर्स के खिलाफ इस लिए कर्यवाही नहीं कर रही है क्योंकि महाराष्ट्र सरकार का उस पर दबाव है। वहीं दूसरी ओर पुलिस अधिकारियों का कहना है कि वह इस मामले में कानूनी कार्रवाई कर रहे हैं। 

शो पर शुरू हुए विवाद के केंद्र में एक दृश्य है जिसमें कॉलेज छात्र शिवा का किरदार अदा कर रहे मोहम्मद जीशान अय्यूब को एक नाटक में भगवान महादेव का चित्रण करते हुए दिखाया गया है। शिकायतों पर संज्ञान लेते हुए सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने रविवार को इस विषय पर अमेजन प्राइम वीडियो से स्पष्टीकरण मांगा था। मंत्रालय में एक सूत्र ने कहा था, ‘‘मंत्रालय ने शिकायतों पर संज्ञान लिया है और अमेजन प्राइम वीडियो से स्पष्टीकरण देने को कहा है।’’ 

मुंबई उत्तर-पूर्व से भाजपा सांसद मनोज कोटक, मध्य प्रदेश सरकार के मंत्री विश्वास सारंग तथा राज्य विधानसभा के प्रोटेम अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा समेत कुछ नेताओं ने सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर से वेब सीरीज पर रोक लगाने की मांग की थी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मीडिया सलाहकार शल-भमणि त्रिपाठी ने कहा कि ‘तांडव’ के निर्माताओं को धार्मिक भावनाएं आहत करने की कीमत चुकानी होगी। इस मामले में लखनऊ के हजरतगंज थाने, ग्रेटर नोयडा, भोपाल में प्राथमिकी दर्ज की गयी है। उत्तर प्रदेश पुलिस के चार सदस्य मामले में विस्तृत जांच के लिए मुंबई रवाना हो चुके हैं। त्रिपाठी ने कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश पुलिस एक कार में मुंबई के लिए रवाना हो गयी है। प्राथमिकी में कठोर धाराएं हैं। तैयार रहो, धार्मिक भावनाएं आहत करने के लिए कीमत अदा करनी होगी।

अन्य न्यूज़