करण जौहर को होली खेलने से डर लगता है और इसकी वजह हैं अभिषेक बच्चन

करण जौहर को होली खेलने से डर लगता है और इसकी वजह हैं अभिषेक बच्चन

वहीं जब बात होली की चली, तो पता चला कि करण ने होली खेलना बंद कर दिया है और इसकी वजह हैं उनके दोस्त अभिषेक बच्चन। अभिषेक की एक हरक़त की वजह से वो आज भी होली खेलने से डरते हैं।

बॉलीवुड के कई सेलेब्स ऐसे हैं, जिनकी दोस्ती की मिसाल दी जाती हैं। ऐसे ही चंद ख़ूबसूरत रिश्तों में एक रिश्ता करण जौहर और अभिषेक बच्चन का भी है। अभिषेक बच्चन और करण जौहर दोनों काफ़ी अच्छे दोस्त हैं और अकसर इन्हें साथ में मस्ती करते हुए भी देखा जाता है। यही नहीं, दोनों एक-दूसरे की जमकर टांग खिंचाई भी करते हैं।

इसे भी पढ़ें: मैगजीन ने नेहा धूपिया के मोटापे पर किया कमेंट, मिला करारा जवाब

वहीं जब बात होली की चली, तो पता चला कि करण ने होली खेलना बंद कर दिया है और इसकी वजह हैं उनके दोस्त अभिषेक बच्चन। अभिषेक की एक हरक़त की वजह से वो आज भी होली खेलने से डरते हैं। अब सवाल ये है कि आखिर अभिषेक ने अपनी जिगरी यार के साथ ऐसा क्या कर दिया, जो करण के मन में रंगों के ख़ूबसूरत त्यौहार को लेकर इतना भय है। 

इसे भी पढ़ें: रणवीर, आलिया सहित कई बॉलीवुड सितारे प्रधानमंत्री मोदी से मिले

दरअसल, हाल में करण ने अपने इस डर के बारे में बात करते हुए बताया कि 10 साल की उम्र में वो अभिताभ बच्चन के यहां होली पार्टी में गये थे। क्योंकि करण को होली खेलना ज़्यादा पसंद नहीं था। इसलिये वो वहां रंगों से थोड़ा दूर-दूर थे. वहीं इस दौरान अभिषेक बच्चन ने करण को धक्का देकर पूल में गिरा दिया। बस अभिषेक की इस हरकत के बाद वो इतना ज़्यादा सहम गये कि आज तक होली से दूरी बनाये हुए हैं। 

इसके अलावा करण ने बचपन का एक किस्सा बताते हुए ये भी कहा कि छोटे पर उनकी कॉलोनी के बच्चे सिलवर रंग लगाने के लिये उनके पीछे दौड़ते थे। इस दौरान अकसर दौड़ते हुए वो गिर जाते थे, क्योंकि वो ख़ुद उन बच्चों से बचने की कोशिश करते थे। यही नहीं, कई बार ऐसा हुआ है कि करण को काफ़ी चोट तक आई। कहते हैं अकसर रंग की वजह से उनकी और कॉलोनी के बच्चों की लड़ाई भी हो जाती थी। 

वैसे करण की बॉन्डिंग सिर्फ़ अभिषेक से यही नहीं, बल्कि उनकी बहन श्वेता बच्चन से भी काफ़ी अच्छी है। काफ़ी अफ़सोस हुआ ये जानकर की बॉलीवुड के बेस्ट फ़िल्ममेकर का होली एक्सपीरिंस इतना बुरा रहा है। वैसे करण बुरा न मानों होली है, भला रंगों से क्या डरना और इस बार जमकर होली खेलिये, क्या पता आपका डर भी भाग जाये।