सपने में दिखती थी अपनी धधकती कब्र, सना खान ने फिल्म इंडस्ट्री छोड़ हिजाब पहनने की वजह बताई

 Sana Khan
Creative Common
अभिनय आकाश । Jul 25, 2022 2:14PM
सना खान ने अपने वीडियो में 2019 का जिक्र करते हुए कहा कि 2019 का साल रमजान का महीना मुझे अभी भी याद है, जब मुझे सपने में मेरी ही कब्र दिखाई देती थी। मुझे एक जलती हुई, धधकती कब्र दिखाई देती थी और मैं खुद को कब्र में देख सकती थी।

टीवी का सबसे विवादित रियालिटी शो बिग बॉस जिसके जरिये कई कलाकारों को अपने कैरियर का दूसरा बूस्ट प्राप्त हुआ। लेकिन बिग बॉस 6 के बाद बॉलीवुड के भाई जान सलमान खान की फिल्म जय हो में नजर आने वाली अभिनेत्री सना खान ने साल 2020 में अचानक से शोबिज को छोड़ने का फैसला कर सभी को चौंका दिया था। जिसके बाद उन्होंने मुफ्ती अनस सईद के साथ निकाह कर लिया और धर्म के रास्ते पर चल पड़ीं। लेकिन अब दो साल बाद उन्होंने अपने समृद्ध करियर को छोड़ और धार्मिक कार्यों की तरफ रूख करने व हिजाब पहनने के फैसले को लेकर खुलकर बात की है।

इसे भी पढ़ें: कैटरीना कैफ और विक्की कौशल को मिली जान से मारने की धमकी, पुलिस में दर्ज हुई शिकायत

सना खान और उनके पति अनस सईद हाल ही में अपनी हज यात्रा संपन्न कर मुंबई लौटे हैं।  अब, एक वीडियो में पूर्व अभिनेत्री को इस बारे में बात करते हुए बताया कि उन्होंने क्यों शोबिज से दूर जाने का फैसला किया? सना ने कहा कि मेरे पिछले जीवन में, मेरे पास सब कुछ था, नाम, प्रसिद्धि, पैसा। जो कुछ भी मैं चाहती थी, वो मैं कर सकती थी। लेकिन इसके बावजूद भी मेरे जीवन में एक चीज की कमी थी। वो थी मेरे दिल में शांति। ऐसा था जैसे मेरे पास सब कुछ है लेकिन क्यों क्या मैं खुश नहीं हूँ? यह बहुत कठिन था और डिप्रेशन के दिन थे। फिर मुझे अल्‍लाह ने संकेत भेजे। अपना मैसेज दिया। 

इसे भी पढ़ें: Ranveer Singh से प्रेरित होकर Karan Veer Mehra ने भी शेयर की न्यूड फोटो, मिल रहा लोगों का मिक्स रिएक्शन

सना खान ने अपने वीडियो में 2019 का जिक्र करते हुए कहा कि 2019 का साल रमजान का महीना मुझे अभी भी याद है, जब मुझे सपने में मेरी ही कब्र दिखाई देती थी। मुझे एक जलती हुई, धधकती कब्र दिखाई देती थी और मैं खुद को कब्र में देख सकती थी। मुझे लगा कि यह संकेत है कि अल्लाह मुझे दे रहे हैं कि अगर मैं नहीं बदलता, तो यही मेरा अंत है। । इससे मुझे थोड़ी चिंता हुई। मुझे अभी भी वो बदलाव याद है। मैं सभी प्रेरक इस्लामी भाषण सुनती थी और एक रात मुझे कुछ बहुत सुंदर पढ़ा। सना ने कहा, "संदेश में कहा गया है कि आप नहीं चाहती कि आपका आखिरी दिन हिजाब पहनने का आपका पहला दिन हो। यह कुछ ऐसा है जिसने मुझे बहुत गहराई से छुआ।" मैंने रोने लगी। अगली सुबह मैं उठी, वह मेरा जन्‍मदिन था। मैंने पहले बहुत सारे स्कार्फ खरीदे थे। मैंने टोपी अंदर रखी, दुपट्टा पहना और मैंने खुद से कहा कि मैं इसे फिर कभी नहीं हटाऊंगी। 

अन्य न्यूज़