एयर इंडिया हैकिंग: जानिए क्या डेटा हुआ है लीक,क्या नहीं और कैसे रहें सुरक्षित?

एयर इंडिया हैकिंग: जानिए क्या डेटा हुआ है लीक,क्या नहीं और कैसे रहें सुरक्षित?

एयर इंडिया के यात्रियों के नाम, जन्मतिथि, संपर्क जानकारी, पासपोर्ट की जानकारी, टिकट की जानकारी, स्टार एलायंस और एयर इंडिया के फ्रीक्वेंट फ्लायर डेटा जैसे व्यक्तिगत डेटा लीक हो गए हैं।

एअर इंडिया समेत दुनिया की कई एयरलाइंस कंपनियों पर एक बड़ा साइबर अटैक हुआ, जिसमें एअर इंडिया के 45 लाख यूजर्स का डेटा लीक हो गया। बता दें कि 26 अगस्त 2011 से 3 फरवरी 2021 के बीच लगभग 10 वर्षों की अवधि में पंजीकृत एयर इंडिया के यात्रियों का संपूर्ण व्यक्तिगत डेटाबेस हैक कर लिया गया है। डेटा लीक के बारे में जानने और अपने डाटा को सुरक्षित कैसे रखने के लिए आपको क्या करना चाहिए की यहां सभी जानकारी दी गए हैं। पढ़ें-

कैसे हुई एयर इंडिया हैक

एयर इंडिया ने मीडिया को दिए एक बयान में दावा किया कि यात्री सेवा प्रणाली का SITA PSS डेटा प्रोसेसर, जो यात्रियों की व्यक्तिगत जानकारी को संभाल कर रखता है, साइबर हमले की चपेट में आ गया। बता दें कि SITA एक स्विट्जरलैंड स्थित प्रौद्योगिकी कंपनी है जो हवाई परिवहन संचार और सूचना प्रौद्योगिकी में विशेषज्ञता रखती है। यह कंपनी 11 सदस्य एयरलाइनों द्वारा शुरू की गई थी और अब 200 से अधिक देशों में इसके 2,500 से अधिक ग्राहक हैं। इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक खबर के मुताबिक, एयर इंडिया ने 2017 में अपने आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर को अपग्रेड करने के लिए SITA के साथ एक समझौता किया था ताकि वह स्टार एलायंस में शामिल हो सके। एयर इंडिया में, SITA ने एक ऑनलाइन बुकिंग इंजन, प्रस्थान नियंत्रण प्रणाली, चेक-इन और स्वचालित बोर्डिंग नियंत्रण, बैगेज सुलह प्रणाली और फ़्रीक्वेंट फ़्लायर कार्यक्रम भी लागू किया।

क्या हुआ है लीक: पासपोर्ट नंबर सहित ग्राहकों का निजी डेटा

एयर इंडिया के यात्रियों के नाम, जन्मतिथि, संपर्क जानकारी, पासपोर्ट की जानकारी, टिकट की जानकारी, स्टार एलायंस और एयर इंडिया के फ्रीक्वेंट फ्लायर डेटा जैसे व्यक्तिगत डेटा लीक हो गए हैं। 

क्या लीक हुआ है: फ़्लायर्स क्रेडिट और डेबिट कार्ड नंबर

एयर इंडिया ने पुष्टि की है कि प्रभावित यूजर्स के क्रेडिट और डेबिट कार्ड की जानकारी भी लीक हुए हैं। 

क्या लीक नहीं हुआ: क्रेडिट और डेबिट कार्ड के सीवीवी/सीवीसी नंबर लीक नहीं हुए हैं

बता दें कि यूजर्स के CVV/CVC कार्ड सुरक्षित हैं और लीक नहीं हुए हैं क्योंकि ये SITA PSS डेटा प्रोसेसर द्वारा संग्रहीत नहीं किए गए थे। साथ ही, एयर इंडिया के अनुसार, कोई पासवर्ड डेटा लीक नहीं हुआ है।

प्रभावित ग्राहकों को सुरक्षित रहने के लिए तुरंत क्या करने की आवश्यकता है? 

अगर आपने कभी एयर इंडिया की फ्लाइट बुक की है तो तुरंत सभी अकाउंट पासवर्ड बदल लें। इसमें इंटरनेट बैंकिंग और डेबिट या क्रेडिट कार्ड पिन के पासवर्ड शामिल हैं। एहतियाती कदम के रूप में आप अपने बैंक के डेबिट या क्रेडिट कार्ड को एक नए से बदल सकते हैं। यदि यह संभव नहीं है, तो लेन-देन पर नज़र रखें और सुनिश्चित करें कि आपके पास उन बैंक खातों में बड़ी राशि नहीं हो।

जिन ग्राहकों का डेटा लीक हुआ है, उन्हें हैकर्स और साइबर क्रिमिनल्स कैसे निशाना बना सकते हैं?

ऐसे किसी भी वेब लिंक पर क्लिक न करें जो आपको एसएमएस या ईमेल पर प्राप्त हो सकते हैं। इस लीक हुए डेटा के साथ, आप फ़िशिंग हमलों का शिकार हो सकते हैं। साथ ही, किसी भी अनजान कॉल, एसएमएस, व्हाट्सएप मैसेज या ईमेल को न उठाए।

क्या न करें: कस्टमर केयर घोटालों से सावधान रहें!

यदि आपको एयर इंडिया, आपके बैंक या किसी अन्य कंपनी से कस्टमर केयर एक्जीक्यूटिव से कॉल आती है जो आपके खाते के साथ किसी समस्या को ठीक करने का दावा करती है या कुछ क्रेडिट कार्ड ऑफ़र या सुरक्षा योजनाओं के बारे में बात करती है, तो बस ऐसे कॉल से सावधान रहे। 

क्या न करें: डिलीवरी अधिकारियों से अज्ञात पैकेज स्वीकार न करें!

डेटा लीक में आपका पासपोर्ट पता, फोन नंबर, नाम और अन्य व्यक्तिगत डेटा होता है। ऐसे में जो डिलीवरी एक्जीक्यूटिव होने का नाटक करता है, एक पैकेज के साथ आपके दरवाजे पर आ सकता है और आपको उसी के लिए पैसे देने के लिए मजबूर कर सकता है। यह एक कैश-ऑन-डिलीवरी घोटाला है जिसमें स्कैमर आपको उस चीज़ के लिए भुगतान करने के लिए हेरफेर और परेशान करता है जिसे आपने ऑर्डर नहीं किया है। 

क्या नहीं करें: पासवर्ड या ओटीपी किसी के साथ साझा न करें

यदि आपको कोई कॉल या मैसेज मिलता है जो आपके फ़ोन नंबर पर  ओटीपी के लिए पूछता है, तो बस यह जान लें कि यह एक घोटाला है। जिस सेवा के लिए आपको इसका उपयोग करना है, उसके अलावा कभी भी किसी को भी कोई ओटीपी न बताएं। यदि आपको किसी डोमेन से बहुत सारे ओटीपी प्राप्त हो रहे हैं तो जान लिजिए कि कोई आपको शिकार बनाने की कोशिश कर रहा है।

एयर इंडिया ने अब तक क्या किया है

एयर इंडिया का दावा है कि उसने सर्वरों को सुरक्षित कर लिया है और नए यूजर्स  सुरक्षित हैं। एअर इंडिया एफएफपी प्रोग्राम के पासवर्ड को रीसेट कर रहा है और क्रेडिट कार्ड जारीकर्ताओं के साथ सूचित और संपर्क कर रहा है। जबकि एयरलाइन डेटा सुरक्षा घटना की जांच कर रही है, एयर इंडिया ने कहा कि वह "डेटा सुरक्षा घटनाओं के बाहरी विशेषज्ञों को शामिल कर रही है।"