• QS Ranking 2022 का खुलासा, छात्रों के लिए बेंगलुरू बना सातवां सबसे किफायती शहर

टीओआई के मुताबिक, बेंगलुरु शहर एक ऐसा शहर है जहां, अच्छे प्लेसमेंट और सीखने के कई अवसर प्रदान करती है जिसके कारण समाज के सभी वर्गों के छात्रों के लिए बेंगलुरु एक पसंदीदा शहर बन गया है।

भारत के दो शहर को बेस्ट स्टूडेंट सिटीज रैंकिंग 2022 के लिए रैंक किया गया है। यह दो शहर मुंबई और बेंगलुरु है। टीओआई में छपी एक खबर के मुताबिक,  रैंकिंग के अफोर्डेबिलिटी इंडिकेटर में, मुंबई ने विश्व स्तर पर 21 वें स्थान पर 27 स्थान की बढ़त हासिल की है। वहीं बेंगलुरु ने टॉप 10 में जगह बनाई है। बता दें कि यह रैंक विश्व स्तर पर 7 वें स्थान पर है। पिछले एडिशन की तुलना में दोनों शहर मुंबई और बेंगलुरू में 29 स्थान और 21 स्थान की गिरावट आई है।

इसे भी पढ़ें: Oppo ने जियो 5जी लैब में रेनो6 सीरीज के स्मार्टफोन का परीक्षण किया, जानें कीमत

बेंगलुरु के दयानंद सागर विश्वविद्यालय के कुलपति केएनबी मूर्ति ने बताया कि, पिछले दो दशकों में बेंगलुरु बुनियादे ढांचे के मामले में काफी विकसित हुआ है। यह शहर अब सस्ती की केटगरी में आ रही है। टीओआई के मुताबिक, बेंगलुरु शहर एक ऐसा शहर है जहां, अच्छे प्लेसमेंट और सीखने के कई अवसर प्रदान करती है जिसके कारण समाज के सभी वर्गों के छात्रों के लिए बेंगलुरु एक पसंदीदा शहर बन गया है। भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc), बेंगलुरु के एयरोस्पेस इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर गोपालन जगदीश के अनुसार टियर- II और III शहरों के छात्रों के लिए बेंगलुरु में किफायती शिक्षा के विकल्प मिल सकते हैं। उन्होंने आगे कहा कि, यह शहर कई वैज्ञानिक अनुसंधान प्रतिष्ठानों का केंद्र है। इसके अलावा इस शहर में रोजगार का दायरा भी कई गुना बढ़ गया है जिसके कारण छात्रों को यह शहर काफी लुभा सकता है।

इसे भी पढ़ें: शेयर बाजार में गिरावट जारी, सेंसेक्स 250 अंक गिरा; निफ्टी 15,700 के नीचे फिसला

जानकारी के लिए बता दें कि  क्यूएस के वैश्विक उच्च शिक्षा विश्लेषकों ने बुधवार को क्यूएस बेस्ट स्टूडेंट सिटीज रैंकिंग का नौवां संस्करण जारी है। बता करें विदेशों की रैंकिग की तो लंदन ने लगातार तीसरे संस्करण के लिए दुनिया के सर्वश्रेष्ठ छात्र शहर के रूप में अपना दर्जा बरकरार रखा है।सके बाद म्यूनिख है, जो चौथे से दूसरे स्थान पर है। सियोल, जो 10वें से संयुक्त तीसरे स्थान पर है।क्यूएस के अनुसंधान निदेशक बेन सॉटर ने टीओआई को बताया कि, "भारतीय उच्च शिक्षा प्रणाली के लिए प्राथमिक चिंता इसकी बढ़ती छात्र आबादी तक पहुंच प्रदान करना है। भले ही अंतरराष्ट्रीय छात्रों को आकर्षित करना एक प्रमुख फोकस नहीं है, मुंबई और बेंगलुरु दोनों 'अफोर्डेबिलिटी' संकेतक में उच्च रैंक करते हैं, जो कई विदेशी छात्रों के लिए एक महत्वपूर्ण पहलू है। QS सर्वश्रेष्ठ छात्र शहरों की रैंकिंग में टॉप 10 शहरों में लंदन, म्यूनिख, सियोल और टोक्यो (संयुक्त तीसरे रैंक), बर्लिन, मेलबर्न, ज्यूरिख शामिल हैं।