फार्मा पैकेजिंग से जुड़ी कंपनियों को भी मिले पीएलआई में जगहः भारत बायोटेक

Bharat Biotech
प्रतिरूप फोटो
Twitter.com
फार्मा कंपनी भारत बायोटेक ने प्रोत्साहन से जुड़ी प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना के दायरे में ब्रांडेड औषधीय उत्पाद विनिर्माताओं के अलावा दवाओं की पैकेजिंग सामग्री बनाने वाली एवं अन्य सेवाएं देने वाली कंपनियों पर भी ध्यान देने का अनुरोध किया है।

फार्मा कंपनी भारत बायोटेक ने प्रोत्साहन से जुड़ी प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना के दायरे में ब्रांडेड औषधीय उत्पाद विनिर्माताओं के अलावा दवाओं की पैकेजिंग सामग्री बनाने वाली एवं अन्य सेवाएं देने वाली कंपनियों पर भी ध्यान देने का अनुरोध किया है। भारत बायोटेक के कार्यकारी निदेशक साई प्रसाद ने पीटीआई-के साथ बातचीत में कहा कि फार्मा क्षेत्र में आयातित कच्चे माल पर निर्भरता कम करने के लिए पैकेजिंग सामग्री विनिर्माताओं का भी पीएलआई योजना के तहत खास ध्यान रखने की मांग की।

इसके अलावा प्रसाद ने औषधि क्षेत्र की कंपनियों का मार्जिन बढ़ाने के लिए उन्हें मिलने वाले ऑर्डर में नवाचारी फार्मा उत्पादों पर अधिक ध्यान देने का अनुरोध भी सरकार से किया। प्रसाद ने कहा, ‘‘हमारे पास पहले से ही फार्मा क्षेत्र के लिए पीएलआई योजना एवं शोध-आधारित योजना जैसी नीतियां मौजूद हैं। ये नीतियां इस क्षेत्र के लिए काफी मददगार होने वाली हैं। हमारी नजर में इन नीतियों में उन कंपनियों पर भी ध्यान देना चाहिए जो फार्मा उद्योग को उत्पादों एवं सेवाओं की आपूर्ति करती हैं।’’

उन्होंने कहा कि एकल उपयोग वाली उपभोक्ता कंपनियों, कच्चा माल पैकेजिंग फर्मों और फार्मा आपूर्ति शृंखला में शामिल सेवा प्रदाताओं को भी सरकार की तरफ से प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए। प्रसाद ने कहा, ‘‘अगर समूचा परिवेश मजबूत होता है तभी ब्रांडेड फार्मा कंपनियां भी मजबूत हो पाएंगी।’’ उन्होंने कहा कि घरेलू फार्मा क्षेत्र को नवाचार पर भी विशेष ध्यान देना होगा जिसके लिए शोध एवं विकास अहम होगा। सरकार फिलहाल फार्मास्युटिकल विभाग के जरिये फार्मा क्षेत्र के लिए तीन पीएलआई योजनाएं चला रही है। ये योजनाएं बल्क ड्रग, चिकित्सा उपकरण और फार्मास्युटिकल क्षेत्रों के लिए चलाई जा रही हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़