एनबीएफसी के लिये कर्ज प्रतिभूतिकरण की राहत अवधि 31 दिसंबर तक बढ़ी

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 30 2019 11:06AM
एनबीएफसी के लिये कर्ज प्रतिभूतिकरण की राहत अवधि 31 दिसंबर तक बढ़ी
Image Source: Google

रिजर्व बैंक की इससे पहले नवंबर में जारी अधिसूचना के मुताबिक छह माह की अवधि तक रखने के बाद कर्ज का प्रतिभूतिकरण करने की व्यवस्था मई 2019 तक के लिये दी गई थी।

मुंबई। रिजर्व बेंक ने गैर- बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) को नकदी की कमी से उबरने के लिये कुछ और राहत दी है। केन्द्रीय बैंक ने एनबीएफसी के लिये उनके कर्ज के प्रतिभूतिकरण के जरिये धन जुटाने के वास्ते न्यूनतम होल्डिंग अवधि की आवश्यकता को आगे बढ़ा दिया है। एनबीएफसी को पांच साल से अधिक परिपक्वता वाली अवधि के कर्ज को अपने खातों में छह माह तक बनाये रखने के बाद उनका प्रतिभूतिकरण करने की अनुमति दी गई है।

इसे भी पढ़ें: चहेतों की नियुक्तियों से उठती रहेंगी संवैधानिक संस्थाओं पर उंगलियां

इससे पहले इन कंपनियों को ऐसे कर्ज को कम से कम एक साल तक अपने खातों में रखना होता था। रिजर्व बैंक की इससे पहले नवंबर में जारी अधिसूचना के मुताबिक छह माह की अवधि तक रखने के बाद कर्ज का प्रतिभूतिकरण करने की व्यवस्था मई 2019 तक के लिये दी गई थी। 

इसे भी पढ़ें: RBI के स्पष्टीकरण के बावजूद मणिपुर में कोई नहीं ले रहा 10 रुपए का सिक्का



केन्द्रीय बैंक ने कहा है कि समीक्षा के बाद यह तय किया गया है कि इस व्यवसथा को 31 दिसंबर 2019 तक बढ़ा दिया जाये।न्यूनतम होल्डिंग अवधि में राहत दिये जाने से एनबीएफसी को फायदा होगा।इससे ये कंपनियां पांच साल से अधिक अवधि के कर्ज का प्रतिभूतिकरण कर अधिक धन जुटा सकेंगी। उल्लेखनीय है कि आईएल एण्ड एफएस के पिछले साल अगस्त अंत में डिफाल्ट होने के बाद से एनबीएफसी और आवास वित्त कंपनियां संकट का सामना कर रही है।स्थिति यहां तक बिगड़ गई कि सरकार को इसे अपने नियंत्रण में लेना पड़ा। इससे क्षेत्र में नकदी की तंगी पैदा हो गई।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप