समय पर, समान तरीके से कोविड-19 टीके की उपलब्धता तय करे वैश्विक समुदाय: पीयूष गोयल

covid19
वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने वैश्विक समुदाय से कोविड- 19 टीके की समय पर, समान तरीके से उपलब्धता सुनिश्चित करने का आह्वान किया है।उन्होंने सभी सदस्यों से प्रस्ताव का समर्थन करने को कहा ताकि कम-से-कम डब्ल्यूटीओ के 12वें मंत्री स्तरीय सम्मेलन में इस पर एक निर्णय पर पहुंचा जा सके।

नयी दिल्ली। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को वैश्विक समुदाय से कोविड-19 के इलाज के लिये पर्याप्त मात्रा में सस्ते टीके और दवाओं की समय पर तथा समान रूप से उपलब्धता सुनिश्चित करने का आह्वान किया। विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के सदस्यों की वीडियो कांफ्रेन्सिंग के जरिये अनौपचारिक बैठक को संबोधित करते हुए गोयल ने कहा कि भारत और दक्षिण अफ्रीका ने बौद्धिक संपदा (आईपी) समझौते के कुछ प्रावधानों में छूट देने का प्रस्ताव किया है ताकि सीमित विनिर्माण क्षमता वाले देशों के लिये इन चिकित्सा सामानों की आपूर्ति को लेकर चुनौतियों का समाधान किया जा सके। उन्होंने सभी सदस्यों से प्रस्ताव का समर्थन करने को कहा ताकि कम-से-कम डब्ल्यूटीओ के 12वें मंत्री स्तरीय सम्मेलन में इस पर एक निर्णय पर पहुंचा जा सके।

इसे भी पढ़ें: Flipkart आदित्य बिड़ला फेशन का प्रस्तावित इक्विटी सौदा FDI नीति का उल्लंघन: CAIT

आधिकारिक बयान के अनुसार मंत्री ने वैश्विक समुदाय से कोविड-19 के लिये पर्याप्त मात्रा में सस्ते टीकों और दवाओं की समय पर तथा समान रूप से उपलब्धता सुनिश्चित करने का आह्वान किया। उल्लेखनीय है कि इस महीने की शुरूआत में भारत और दक्षिण अफ्रीका ने कोविड-19 को फैलने से रोकने या उसके इलाज के संदर्भ में बौद्धिक संपदा अधिकारों से संबद्ध व्यापार संबंधित पहलुओं (ट्रिप्स) से जुड़े समझौतो के कुछ प्रावधानों के क्रियान्वयन, उपयोग और उसे लागू करने के मामले में डब्ल्यूटीओं के सभी सदस्यों के लिये छूट देने का प्रस्ताव पेश किया था। ट्रिप्स समझौता 1995 में अमल में आया।

इसे भी पढ़ें: अब जम्मू-कश्मीर में कोई भी खरीद सकेगा अपने सपनों का घर! लागू किया गया नया कानून

यह कॉपीराइट, औद्योगिक डिजाइन, पेटेंट और अघोषित सूचना या व्यापार गोपनीयता के संरक्षण जैसे बौद्धिक संपदा अधिकारों को लेकर एक बहुपक्षीय समझौता है। गोयल ने यह भी कहा कि इस समय तात्कालिक चुनौतियों के समाधान को लेकर प्रभावी कदम उठाने और असंतुलित तथा रूग्ण वैश्विक कारोबारी प्रणाली में सुधारों को लेकर एक दीर्घकालीन रूपरेखा तैयार करने की जरूरत है। उन्होंने यह भी कहा कि महामारी ने स्वास्थ्य पेशेवरों के एक देश से दूसरे देशों में सुगम आवाजाही की जरूरत को रेखांकित किया है। मंत्री ने कहा कि चिकित्सा सेवा की आसान पहुंच को लेकर तत्काल एक बहुपक्षीय पहल की जरूरत है। ‘‘हमारा यह लक्ष्य होना चाहिए कि 12वें मंत्री स्तरीय सममेलन में इस दिशा में ठोस कदम उठाया जाए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़