हस्तशिल्प निर्यातक गुणवत्ता, डिजाइन, पैकेजिंग का रखें ध्यानः गोयल

Handi Craft
ANI Photo.
वित्त वर्ष 2021-22 में भारत का हस्तशिल्प निर्यात करीब 30 प्रतिशत बढ़कर 33,000 करोड़ रुपये हो गया। इस मौके पर गोयल ने हस्तशिल्प कारीगरों की आय बढ़ाने के तरीके निकालने का भी अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि मंत्रालय के पास करीब 30-35 लाख कारीगरों का आंकड़ा मौजूद है।

नयी दिल्ली| कपड़ा मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को हस्तशिल्प निर्यातकों से गुणवत्ता, डिजाइन, ब्रांड प्रोत्साहन एवं पैकेजिंग पर ध्यान देने का आह्वान करते हुए कहा कि निर्यात बढ़ाने के लिए यह जरूरी है।

गोयल ने एक पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में निर्यातकों से कहा, ‘‘हमें गुणवत्ता, डिजाइन, ब्रांड प्रोत्साहन और पैकेजिंग पर ध्यान देने की जरूरत है। इस क्षेत्र में असीमित संभावनाएं हैं।’’

वित्त वर्ष 2021-22 में भारत का हस्तशिल्प निर्यात करीब 30 प्रतिशत बढ़कर 33,000 करोड़ रुपये हो गया। इस मौके पर गोयल ने हस्तशिल्प कारीगरों की आय बढ़ाने के तरीके निकालने का भी अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि मंत्रालय के पास करीब 30-35 लाख कारीगरों का आंकड़ा मौजूद है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमें ऐसे तरीके निकालने की जरूरत है जिनसे हम उनकी जिंदगी बदल सकें।’’ हालांकि, उन्होंने कहा कि नए विचार को सरकारी सब्सिडी से नहीं जोड़ा जाना चाहिए क्योंकि इससे इस क्षेत्र की मदद नहीं होगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़