भारत में एक जीएसटी दर नहीं हो सकती, तीन स्लैब संभव

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 12 2018 12:07PM
भारत में एक जीएसटी दर नहीं हो सकती, तीन स्लैब संभव
Image Source: Google

मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन ने आज माल एवं सेवा कर (जीएसटी) की एक दर की संभावना को खारिज कर दिया। हालांकि, उन्होंने राजस्व में स्थिरता के बाद जीएसटी के तीन स्लैब की वकालत की।

नयी दिल्ली। मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन ने आज माल एवं सेवा कर (जीएसटी) की एक दर की संभावना को खारिज कर दिया। हालांकि, उन्होंने राजस्व में स्थिरता के बाद जीएसटी के तीन स्लैब की वकालत की। 

 
उन्होंने कहा कि जीएसटी एक ‘कार्य प्रगति पर’ है और कम छूटों तथा आसान नीतियों के जरिये दरों का और सरलीकरण किया जा सकता है। सुब्रमण्यन ने एनसीएईआर के एक कार्यक्रम में कहा, भारत में एक दर कभी नहीं हो सकती। मैंने मानक दर की सिफारिश की थी। एक अहितकर सामान और एक निचली दर के लिए थी। उन्होंने कहा कि भारत में बहस इस बात के लिए होनी चाहिए कि क्यों हमारी तीन दरें नहीं हों इस बात के लिए नहीं कि क्यों एक दर न रखी जाए।
 
जीएसटी व्यवस्था के तहत चार कर स्लैब पांच प्रतिशत, 12 प्रतिशत, 18 प्रतिशत और 28 प्रतिशत हैं। लग्जरी और अहितकर उत्पादों पर सबसे ऊंचे स्लैब के अलावा उपकर भी लगता है। 


 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video