नए अपडेट से फेसबुक के साथ डेटा साझा करने की व्यवस्था में नहीं होगा कोई बदलाव: व्हाट्सएप

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 9, 2021   19:20
  • Like
नए अपडेट से फेसबुक के साथ डेटा साझा करने की व्यवस्था में नहीं होगा कोई बदलाव: व्हाट्सएप

व्हाट्सएप ने इस सप्ताह की शुरुआत में अपने उपयोक्ताओं को सेवा की शर्तों और गोपनीयता की नीति के बारे में अपडेट देना शुरू किया।

नयी दिल्ली। इंस्टैंट मैसेजिंग सेवा प्रदाता व्हाट्सएप ने शनिवार को कहा कि उसके नये अपडेट से फेसबुक के साथ डेटा साझा करने की नीतियों में कोई बदलाव नहीं आयेगा। व्हाट्सएप पर फेसबुक का पूर्ण स्वामित्व है। व्हाट्सएप ने यह सफाई नये अपडेट की दुनिया भर में हो रही कड़ी आलोचनाओं के बाद दी है। व्हाट्सएप ने इस सप्ताह की शुरुआत में अपने उपयोक्ताओं को सेवा की शर्तों और गोपनीयता की नीति के बारे में अपडेट देना शुरू किया। व्हाट्सएप ने इसमें बताया कि वह कैसे उपयोक्ताओं के डेटा का प्रसंस्करण करती है और उन्हें (डेटा को) फेसबुक के साथ किस तरह से साझा करती है। 

इसे भी पढ़ें: Whatsapp ला रहा यह नए 3 फीचर्स, बदल जाएगा आपका चैटिंग एक्सपीरियंस 

अपडेट में यह भी कहा गया कि व्हाट्सएप की सेवाओं का उपयोग जारी रखने के लिये उपयोक्ताओं को आठ फरवरी, 2021 तक नयी शर्तों व नीति से सहमत होना होगा। इसने इंटरनेट पर व्हाट्सएप के फेसबुक के साथ उपयोगक्ताओं की जानकारियां साझा करने को लेकर बहस की शुरुआत कर दी। इसके बाद सिग्नल और टेलीग्राम जैसे प्रतिद्वंद्वी ऐप के डाउनलोड में वृद्धि देखी जा रही है। टेस्ला के प्रमुख एलन मस्क भी इस बहस में कूद पड़े और उन्होंने लोगों से व्हाट्सएप का इस्तेमाल बंद करने की अपील भी की। व्हाट्सएप के प्रमुख विल कैथार्ट ने एक के बाद एक ट्वीट करते हुए इस बारे में अपनी राय साझा की।

इसे भी पढ़ें: किसानों की आवाज बना युवाओं का एक समूह, सोशल मीडिया के जरिए भ्रांतियां मिटाने की कर रहे कोशिश 

उन्होंने कहा कि कंपनी ने अपनी नीति ‘पारदर्शी होने और पीपुल-टू-बिनजेस के वैकल्पिक फीचर की जानकारी देने‘ के लिये अपडेट की है। उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट होना हमारे लिये महत्वपूर्ण है कि यह अपडेट कारोबार संबंधी जानकारियां देने के लिये है। इससे फेसबुक के साथ डेटा साझा करने की हमारी नीतियों पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




महामारी के चलते अपना वाहन खरीद रहे हैं लोग, फरवरी में कारों की बिक्री ने पकड़ी रफ्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 1, 2021   20:35
  • Like
महामारी के चलते अपना वाहन खरीद रहे हैं लोग, फरवरी में कारों की बिक्री ने पकड़ी रफ्तार

देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया की घरेलू बाजार में बिक्री 11.8 प्रतिशत बढ़कर 1,52,983 इकाई पर पहुंच गई। इससे पिछले साल समान महीने में कंपनी ने 1,36,849 कारें बेची थीं।

नयी दिल्ली। कोविड-19 महामारी के बीच व्यक्तिगत इस्तेमाल के लिए वाहनों की मांग बढ़ने से फरवरी में कार कंपनियों की बिक्री में जोरदार इजाफा हुआ है। देश की प्रमुख कार कंपनियों मारुति सुजुकी, हुंदै और टाटा मोटर्स ने फरवरी में घरेलू बाजार में काफी अच्छी बिक्री दर्ज की है। इसके अलावा अन्य कंपनियों में टोयोटा किर्लोस्कर मोटर (टीकेएम), महिंद्रा एंड महिंद्रा और होंडा कार्स इंडिया ने भी पिछले महीने अपने डीलरों को अधिक वाहनों की आपूर्ति की है। देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया की घरेलू बाजार में बिक्री 11.8 प्रतिशत बढ़कर 1,52,983 इकाई पर पहुंच गई। इससे पिछले साल समान महीने में कंपनी ने 1,36,849 कारें बेची थीं। कंपनी की बिक्री वृद्धि में कॉम्पैक्ट और यूटिलिटी वाहनों का योगदान सबसे अच्छा रहा। 

इसे भी पढ़ें: ठाणे में देर रात गोदाम में लगी भयानक आग, माल ढोने वाली 12 गाड़ियां जलकर खाक 

पिछले महीने कंपनी के कॉम्पैक्ट खंड के वाहनों....स्विफ्ट, सेलेरियो, इग्निस, बालेनो और डिजायर की बिक्री 15.3 प्रतिशत बढ़कर 80,517 इकाई पर पहुंच गई, जो फरवरी, 2020 में 69,828 इकाई रही थी। इसी तरह यूटिलिटी वाहनों..विटारा ब्रेजा, एस-क्रॉस और एर्टिगा की बिक्री 18.9 प्रतिशत बढ़कर 22,604 इकाई से 26,884 इकाई पर पहुंच गई। मारुति की प्रमुख प्रतिद्वंद्वी हुंदै मोटर इंडिया की फरवरी में घरेलू बाजार में बिक्री 29 प्रतिशत बढ़कर 51,600 इकाई पर पहुंच गई, जो इससे पिछले साल के समान महीने में 40,010 इकाई रही थी।

कंपनी के निदेशक (बिक्री, विपणन और सेवा) तरूण गर्ग ने कहा, ‘‘...कंपनी बिक्री में तेजी लाकर आर्थिक पुनरूद्धार में योगदान देने तथा उद्योग को बिक्री के मामले में कोविड पूर्व स्तर पर लाने के लिये निरंतर प्रयास कर रही है।फरवरी 2020 में कुल 61,8000 इकाइयों की बिक्री के साथ हुंदै ने सभी खंडों में वृद्धि हासिल की है।’’ इसी तरह टाटा मोटर्स के यात्री वाहनों की बिक्री दोगुना से अधिक होकर 27,225 इकाई पर पहुंच गई। महिंद्रा एंड महिंद्रा की यात्री वाहनों की बिक्री में 41 प्रतिशत का इजाफा हुआ। 

इसे भी पढ़ें: कोहरे की वजह से एक्सप्रेस वे पर आधा दर्जन गाड़ियां आपस में टकराईं, 12 लोग हुए जख्मी 

कंपनी ने फरवरी में 15,391 वाहन बेचे। फरवरी, 2020 में यह आंकड़ा 10,938 वाहनों का रहा था। जापान की वाहन कंपनी टाटा किर्लोस्कर मोटर की घरेलू बाजार में बिक्री 36 प्रतिशत बढ़कर 14,075 इकाई पर पहुंच गई, जो एक साल पहले समान महीने में 10,352 इकाई रही थी। इसी तरह होंडा कार्स इंडिया की घरेलू बाजार में बिक्री 28.3 प्रतिशत बढ़कर 9,324 इकाई पर पहुंच गई, जो एक साल पहले समान महीने में 7,269 इकाई रही थी। निसान मोटर इंडिया की बिक्री में चार गुना का जबर्दस्त इजाफा हुआ और यह 4,244 इकाई पर पहुंच गई।

एमजी मोटर की बिक्री फरवरी में 4,329 इकाई रही। यह कंपनी का अबतक का खुदरा बिक्री का सबसे अच्छा आंकड़ा है। दोपहिया खंड की बात की जाए, तो टीवीएस मोटर कंपनी की घरेलू बाजार में बिक्री 15 प्रतिशत बढ़कर 1,95,145 इकाई पर पहुंच गई, जो फरवरी, 2020 में 1,69,684 इकाई रही थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




आयकर विभाग ने हैदराबाद स्थित फार्मा समूह पर की छापेमारी, 400 करोड़ काला धन का पता चला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 1, 2021   19:49
  • Like
आयकर विभाग ने हैदराबाद स्थित फार्मा समूह पर की छापेमारी, 400 करोड़ काला धन का पता चला

सीबीडीटी ने बताया कि यह फार्मास्युटिकल ग्रुप इंटरमीडिएट, ऐक्टिव फार्मास्युटिकल अवयव (एपीआई) और फार्मूला निर्माण के कारोबार में लगा हुआ है और इसके अधिकांश उत्पाद यूरोपीय देशों और अमेरिका को निर्यात किए जाते हैं।

नयी दिल्ली। हैदराबाद स्थित एक बड़ी फार्मास्यूटिकल कंपनी में आयकर विभाग की छापेमारी के दौरान करीब 400 करोड़ रुपये की ‘‘अघोषित’’ आय का पता चला है। सीबीडीटी ने सोमवार को इसकी जानकारी दी। सीबीडीटी से प्राप्त जानकारी के अनुसार यह छापेमारी 24 फरवरी को पांच राज्यों में कुल 20 स्थानों पर की गयी। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने बताया कि यह फार्मास्युटिकल ग्रुप इंटरमीडिएट, ऐक्टिव फार्मास्युटिकल अवयव (एपीआई) और फार्मूला निर्माण के कारोबार में लगा हुआ है और इसके अधिकांश उत्पाद यूरोपीय देशों और अमेरिका को निर्यात किए जाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: IT ने टाइल्स निर्माता समूह के ठिकानों पर मारे छापे, 220 करोड़ की बेनामी आय का पता लगाया 

कर बोर्ड ने बताया, ‘‘इस छापेमारी में लगभग 400 करोड़ रुपये की अघोषित आय से संबंधित साक्ष्यों का खुलासा हुआ है, जिसमें से निर्धारिती समूह ने 350 करोड़ रुपये की अतिरिक्त आय स्वीकार की है।’’ सीबीडीटी ने बयान जारी कर बताया कि इस छापेमारी के दौरान 1.66 करोड़ रुपये नकद भी बरामद किया गया है। इसके अनुसार डिजिटल मीडिया, पेन ड्राइव, दस्तावेज आदि के रूप में साक्ष्य पाए गए हैं। इसमें कहा गया है कि एसएपी-ईआरपी सॉफ्टवेयर से डिजिटल साक्ष्य जुटाये गये हैं। 

इसे भी पढ़ें: पुणे के एक कारोबारी समूह में आयकर विभाग का छापा,जब्त किये 335 करोड़ अघोषित आय 

बयान में कहा गया है कि कुछ फर्जी और गैर-मौजूद संस्थाओं से की गई खरीद से संबंधित और अन्य व्यय का भी पता चला है। इसमें कहा गया है कि इस दौरान अचल संपत्ति की खरीद के लिये किये गये भुगतान से संबंधित साक्ष्यों का भी पता चला है। सीबीडीटी ने बताया कि इसके अलावा अन्य खर्चों आदि का भी पता चला है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




ऑटो और टैक्सी का सफर हुआ महंगा, लागू हुआ नया किराया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 1, 2021   18:14
  • Like
ऑटो और टैक्सी का सफर हुआ महंगा, लागू हुआ नया किराया

मुंबई में ऑटो, टैक्सी का नया किराया लागू हो गया है।आरटीओ अधिकारियों ने कहा कि टैक्सियों से 1.5 किमी की दूरी के लिए न्यूनतम किराया 22 रुपये से बढ़कर 25 रुपये हो गया है, जबकि ऑटो-रिक्शा के लिए यह 18 रुपये से बढ़कर 21 रुपये हो गया है।

मुंबई। मुंबई में सीएनजी से चलने वाले ऑटो-रिक्शा और टैक्सी के लिए नया किराया लागू हो गया है। इसमें प्रत्येक की न्यूनतम दरों में तीन रुपये की वृद्धि की गई है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी है। मुंबई महानगर क्षेत्र में कुछ पेट्रोल चालित वाहनों सहित करीब 60,000 टैक्सी और 4.6 लाख ऑटो-रिक्शा हैं। आरटीओ अधिकारियों ने कहा कि टैक्सियों से 1.5 किमी की दूरी के लिए न्यूनतम किराया 22 रुपये से बढ़कर 25 रुपये हो गया है, जबकि ऑटो-रिक्शा के लिए यह 18 रुपये से बढ़कर 21 रुपये हो गया है। उन्होंने कहा कि इस दर के अलावा, न्यूनतम दूरी के यात्रियों को टैक्सियों के लिए 16.93 रुपये प्रति किमी और ऑटो-रिक्शा के लिए 14.20 रुपये प्रति किमी का भुगतान करना होगा।

इसे भी पढ़ें: शेयर बाजार में रही रौनक, सेंसेक्स 750 अंक उछला; निफ्टी में भी तेजी

मुंबई महानगर क्षेत्र परिवहन प्राधिकरण (एमएमआरटीए) की एक बैठक में पिछले सप्ताह न्यूनतम किराया तीन रुपये बढ़ाने का निर्णय लिया गया था। बैठक की अध्यक्षता महाराष्ट्र परिवहन सचिव ने की थी। उन्होंने कहा कि पिछली किराया वृद्धि एक जून, 2015 को लागू की गई थी। राज्य के परिवहन मंत्री अनिल परब ने पिछले सप्ताह कहा था कि महानगर में ऑटो-रिक्शा और टैक्सियों के किराये में छह साल के अंतराल के बाद बढ़ोतरी की जा रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept