बंद पड़ी है LIC? आप कर सकते हैं दोबारा से शुरू, लेट फीस पर भी मिलेगी छूट

 LIC
कंपनी ने एक विज्ञप्ति में कहा कि इस विशेष अभियान के तहत, विशिष्ट पात्र योजनाओं की पॉलिसी को पहली बार प्रीमियम का भुगतान ना किए जाने की तिथि से पांच साल के भीतर दोबारा चालू किया जा सकता है और यह कुछ नियमों एवं शर्तों के अधीन होगा।

मुंबई। अपने पॉलिसी धारकों को जोखिम कवर देने की निरंतर कोशिश में लगी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने सोमवार को उन व्यक्तिगत पॉलिसी को दोबारा चालू करने के उद्देश्य से एक विशेष अभियान शुरू किया जो कि बीच में बंद हो गईं। कंपनी ने एक विज्ञप्ति में कहा कि इस विशेष अभियान के तहत, विशिष्ट पात्र योजनाओं की पॉलिसी को पहली बार प्रीमियम का भुगतान ना किए जाने की तिथि से पांच साल के भीतर दोबारा चालू किया जा सकता है और यह कुछ नियमों एवं शर्तों के अधीन होगा।

इसे भी पढ़ें: इनकम टैक्स पोर्टल फिर से हुआ बहाल, वित्त मंत्रालय ने इन्फोसिस के CEO को किया था तलब

विज्ञप्ति के मुताबिक यह अभियान 23 अगस्त, 2021 से 22 अक्टूबर, 2021 तक चलेगा। इसमें कहा गया कि वैसी पॉलिसी जो प्रीमियम भुगतान अवधि के दौरान बंद हो गयीं और पॉलिसी अवधि को पूरा नहीं किया, वे इस अभियान के तहत दोबारा चालू किए जाने की पात्रता रखती है। विज्ञप्ति में कहा गया, अभियान उन पॉलिसीधारकों के लाभ के लिए शुरू किया गया है जिनकी पॉलिसी अपरिहार्य परिस्थितियों के कारण समय पर प्रीमियम का भुगतान ना कर पाने के कारण बीच में ही बंद हो गयी। बीमा निगम सावधिक आश्वासन और ऊंचे जोखिम की योजनाओं को छोड़कर अन्य पॉलिसी के मामले में विलंब शुल्क में रियायत की पेशकश कर रही है।

इसे भी पढ़ें: सीमा शुल्क आयुक्तालय कानून की व्याख्या करने वाली रिपोर्ट जारी नहीं करें : सीबीआईसी

यह कुल भुगतान किये गये प्रीमियम पर निर्भर करेगा। विज्ञप्ति के मुताबिक किसी पॉलिसीधारक को यदि एक लाख रुपये का प्रीमियम देना है तो उसे विलंब शुल्क में 20 प्रतिशत तक छूट दी जायेगी, इसमें अधिकतम छूट 2,000 रुपये तक होगी। इसी प्रकार बंद पॉलिसी को चालू करने में यदि एक लाख रुपये से लेकर तीन लाख रुपये तक का प्रीमियम देना है तो कंपनी इसमें विलंब शुल्क में 25 प्रतिशत और अधिकतम 2,500 रुपये की छूट देगी। इससे अधिक प्रीमियम के भुगतान में विलंब शुल्क में 30 प्रतिशत और अधिकतम 3,000 रुपये तक की छूट दी जायेगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़