सात मिनट में कर सकेंगे आयकर रिटर्न फाइल, क्लीयरटैक्स और HDFC बैंक ने की साझेदारी

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Aug 7 2019 4:23PM
सात मिनट में कर सकेंगे आयकर रिटर्न फाइल, क्लीयरटैक्स और HDFC बैंक ने की साझेदारी
Image Source: Google

आयकर दाखिल करने के लिए सरल सॉल्युशन प्रदान करने वाले बैंगलोर स्थित फाइनेंशियल-टेक्नोलॉजी प्लेटफार्म क्लीयरटैक्स ने वित्त वर्ष 2018-19 (मूल्यांकन वर्ष 2019-20) के लिए आयकर रिटर्न की मुफ्त ई-फाइलिंग की पेशकश करने के लिए भारत के सबसे बड़े निजी बैंक एचडीएफसी बैंक के साथ साझेदारी की घोषणा की है। इससे एचडीएफसी बैंक के 50 लाख से अधिक ग्राहकों को व्यक्तिगत सीए-असिस्टेड टैक्स फाइलिंग की सुविधा मिलेगी।

बैंगलोर। आयकर दाखिल करने के लिए सरल सॉल्युशन प्रदान करने वाले बैंगलोर स्थित फाइनेंशियल-टेक्नोलॉजी प्लेटफार्म क्लीयरटैक्स ने वित्त वर्ष 2018-19 (मूल्यांकन वर्ष 2019-20) के लिए आयकर रिटर्न की मुफ्त ई-फाइलिंग की पेशकश करने के लिए भारत के सबसे बड़े निजी बैंक एचडीएफसी बैंक के साथ साझेदारी की घोषणा की है। इससे एचडीएफसी बैंक के 50 लाख से अधिक ग्राहकों को व्यक्तिगत सीए-असिस्टेड टैक्स फाइलिंग की सुविधा मिलेगी। 

इसे भी पढ़ें: CCD प्रवर्तक सिद्धार्थ के मामले में आयकर विभाग ने कहा, कानून के अनुसार हुआ काम

एचडीएफसी बैंक के नेटबैंकिंग प्लेटफॉर्म पर क्लीयरटैक्स का सॉल्युशन ग्राहकों को टैक्स रिटर्न की ई-फाइलिंग की समस्या को दूर करने में मदद करेगा। क्लीयरटैक्स का सुरक्षित प्लेटफार्म मुफ्त सेल्फ ई-फाइलिंग प्रदान करता है, जिससे महज 7 मिनट में ई-फाइलिंग की जा सकती है। जिन लोगों को सहायता की आवश्यकता है, वे बिना किसी जटिलता के चार्टर्ड एकाउंटेंट (सीए) की सेवाएं रियायती दरों पर ले सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें: कमलनाथ के भांजे के खिलाफ IT विभाग की बड़ी कार्रवाई, 254 करोड़ की संपत्ति जब्त



इसके अतिरिक्त, क्लीयरटैक्स ने अन्य सेवाओं जैसे ऑल-डे कस्टमर सपोर्ट, टैक्स टूल्स तक पहुंच और कैलकुलेटर, व्यापक टैक्स गाइड और फाइलिंग सपोर्ट के लिए ऑन-साइट हेल्पडेस्क सेवा को भी विस्तार दिया है। क्लीयरटैक्स के सॉल्युशन उच्च स्तर का पर्सनलाइजेशन, 100% सटीकता और पारदर्शिता, शून्य कागजी कार्यवाही और भविष्य के लिए तैयार होने में मदद करता है। यह यूजर्स को आईटीआर दाखिल करने की सुविधा के लिए फॉर्म-16 और फॉर्म 26एएस को अपलोड करने की अनुमति देता है। यदि किसी यूजर ने एक से अधिक नियोक्ताओं के साथ काम किया है तो वह एक से अधिक फॉर्म-16 भी अपलोड कर सकता है। यह यूजर को ऑफ़लाइन होने पर भी टैक्स डिटेल्स दर्ज करने की अनुमति देता है। 

इसे भी पढ़ें: कुलदीप बिश्नोई के आवास पर चार दिनों तक छापेमारी के बाद दिल्ली लौटा आयकर विभाग का दल

यूजर के ऑनलाइन होने के बाद ये डिटेल्स ऑटोमेटेड तरीके से क्लीयरटैक्स सर्वर से सिंक हो जाते हैं। आईटीआर दाखिल करने के अलावा, यूजर अपने पैन नंबर और जन्म तिथि के साथ इनकम टैक्स रिफंड की स्थिति की जांच कर सकते हैं। वर्तमान और अगले वित्त वर्ष के लिए आयकर की गणना कर सकते हैं (नए बजट परिवर्तनों के अनुसार), और एचआरए लाभों का दावा करने के लिए किराए की रसीदें प्रस्तुत कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: बसपा के इतने बड़े घोटाले का पर्दाफाश होने पर भी राजनीतिक दल मौन क्यों हैं?

इस सहयोग पर टिप्पणी करते हुए क्लीयरटैक्स के संस्थापक और सीईओ अर्चित गुप्ता ने कहा, “हमें एचडीएफसी बैंक के साथ मिलकर काम करने की खुशी है। एचडीएफसी बैंक के बड़े ग्राहक बेस के लिए हमारी टैक्स-फाइलिंग सेवाएं प्रदान कर और आईटीआर कम्प्लायंस को सरल बनाने में हमारी विशेषज्ञता का लाभ उठाते हुए, हम सामूहिक रूप से उनके अनुभव को ई-फाइलिंग करने और परेशानी मुक्त तरीके से टैक्स बचाने में सक्षम करेंगे। "



इसे भी पढ़ें: आयकर दिवस पर विभाग शुरू करेंगी करदाता ई-सहायता अभियान

एचडीएफसी बैंक में डिजिटल बैंकिंग के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट श्री गौतम आनंद ने कहा, “एचडीएफसी बैंक अपनी डिजिटल यात्रा से ग्राहकों को अधिक से अधिक सुविधा प्रदान करने के तरीके तलाश रहा है। हम क्लीयरटैक्स के साथ साझेदारी कर रहे हैं ताकि ज्यादा से ज्यादा ग्राहक सुरक्षित, कर दाखिल करने वाली तकनीकों को अपना सके, जो उन्हें अपने घरों या कार्यालयों से प्रक्रिया को आराम से पूरी करने में सक्षम बनाएगा।” 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप