जानें क्यों कैदियों की तरह 10 दिन तक बंद रहते हैं वित्त मंत्रालय के कुछ कर्मचारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2020   18:10
जानें क्यों कैदियों की तरह 10 दिन तक बंद रहते हैं वित्त मंत्रालय के कुछ कर्मचारी

परंपरागत हलवारस्म के साथ वित्तवर्ष 2020-21 के बजट दस्तावेजों की छपाई का काम सोमवार को शुरू हो गया। हलवा रस्म के तहत एक बड़ी कड़ाही में हलवा तैयार किया जाता है और वित्तमंत्रालय के सभी कर्मचारियों में बांटा जाता है। संसद में बजट पेश होने तकअधिकारी अपने परिजनों से बातचीत नहीं कर पाएंगे।

नयी दिल्ली। परंपरागत हलवारस्म  के साथ वित्तवर्ष 2020-21 के बजट दस्तावेजों की छपाई का काम सोमवार को शुरू हो गया। समारोह में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर समेत मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का दूसरा बजट एक फरवरी 2020 को पेश किया जाएगा।

हलवा रस्म के तहत एक बड़ी कड़ाही में हलवा तैयार किया जाता है और वित्तमंत्रालय के सभी कर्मचारियों में बांटा जाता है। समारोह में वित्‍त सचिव राजीव कुमार , राजस्व सचिव अजय भूषण पांडे ,आर्थिक मामलों के सचिव अतनुचक्रवर्ती, दीपम विभाग में सचिव तुहिनकांत पांडे और व्‍यय सचिव टी.वी .सोमनाथन ने भी भाग लिया। वित्त मंत्रालय ने बयान में कहा कि बजट की गोपनीयता को बनाये रखने के लिए बजट प्रक्रिया में शामिल अधिकारियों को आम बजट पेश होने तक नार्थ ब्लॉक स्थित छपाई खाने में ही रहना होता है।  

संसद में बजट पेश होने तक अधिकारियों को अपने परिजनों तक से बातचीत करने अथवा मिलने की अनुमति नहीं होती है। वित्त मंत्रालय के कुछ बहुत वरिष्ठ अधिकारियों को ही घर जाने की अनुमति होती है।हलवा समारोह के बाद ,वित्तमंत्री ने छापेखाने का दौरा किया और बजट की मुद्रण प्रक्रिया के बारे में जानकारी ली। 

इसे भी देखें- JP Nadda बने भाजपा अध्यक्ष, हिमाचल वासियों ने कहा हमारे लिये गौरव का दिन





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।