बाजार में पांच दिन से जारी गिरावट पर विराम, सेंसेक्स 367 अंक चढ़ा, मारुति में सात प्रतिशत का लाभ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 25, 2022   17:59
बाजार में पांच दिन से जारी गिरावट पर विराम, सेंसेक्स 367 अंक चढ़ा, मारुति में सात प्रतिशत का लाभ

तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में गिरावट के साथ 57,000 अंक से नीचे चला गया था। लेकिन बाद में इसमें तेजी आयी और अंत में यह366.64 अंक यानी 0.64 प्रतिशत मजबूत होकर 57,858.15 अंक पर बंद हुआ।

मुंबई। शेयर बाजारों में पिछले पांच कारोबारी सत्रों से जारी गिरावट पर मंगलवार को विराम लगा और बीएसई सेंसेक्स 367 अंक उछलकर बंद हुआ। यूरोपीय शेयर बाजारों में मजबूत रुख के बीच निवेशकों ने हाल की गिरावट के बाद बैंक, वाहन और दैनिक उपयोग का सामान बनाने वाली कंपनियों के शेयरों में लिवाली की। हालांकि, कारोबारियों के अनुसार अमेरिकी फेडरल रिजर्व की दो दिन की महत्वपूर्ण बैठक से पहले कुल मिलाकर धारणा सतर्कता वाली रही। बैठक में फेडरल रिजर्व नीतिगत दर में वृद्धि के बारे में निर्णय करने वाला है। रूस-यूक्रेन तनाव, मुद्रास्फीति के ऊंचा बने रहने तथा विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) की लगातार बिकवाली अन्य जोखिम वाले कारक हैं, जिससे बाजार पर नकारात्मक असर पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें: चार फरवरी को खुलेगा मान्यवर का आईपीओ, जानें सारी डिटेल

तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में गिरावट के साथ 57,000 अंक से नीचे चला गया था। लेकिन बाद में इसमें तेजी आयी और अंत में यह366.64 अंक यानी 0.64 प्रतिशत मजबूत होकर 57,858.15 अंक पर बंद हुआ। इसी प्रकार नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 128.85 अंक यानी 0.75 प्रतिशत लाभ के साथ 17,277.95 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स के शेयरों में 6.88 प्रतिशत की तेजी के साथ सर्वाधिक लाभ में मारुति रही। कंपनी के तिमाही परिणाम की घोषणा के बाद उसका शेयर चढ़ा। दिसंबर, 2021 को समाप्त तिमाही में मारुति का शुद्ध लाभ सालाना आधार पर 48 प्रतिशत घटकर 1,041.8 करोड़ रुपये रहा। हालांकि, यह विश्लेषकों के अनुमान से अधिक है। इसके अलावा एक्सिस बैंक, एसबीआई, इंडसइंड बैंक, भारती एयरटेल, पावरग्रिड और एनटीपीसी में भी 6.76 प्रतिशत तक की तेजी रही। दूसरी तरफ, नुकसान में रहने वाले शेयरों में विप्रो, बजाज फिनसर्व, टाइटन, इन्फोसिस, टेक महिंद्रा और अल्ट्राटेक सीमेंट 1.75 प्रतिश्त तक नीचे आये।

इसे भी पढ़ें: रिजर्व बैंक ने आठ सहकारी बैंकों पर जुर्माना लगाया, निर्देशों का उल्लंघन किया

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘एक सप्ताह तक गिरावट के बाद घरेलू शेयर बाजार में निचले स्तर पर लिवाली से तेजी आयी। पश्चिमी बाजारोंसे भी समर्थन मिला....।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि, उतार-चढ़ाव की अभी आशंका बनी हुई है क्योंकि निवेशकों को फेडरल रिजर्व के नीतिगत बयान की प्रतीक्षा है। इससे नीतिगत दर में वृद्धि की समयसीमा स्पष्ट होगी।’’ रेलिगेयर ब्रोकिंग लि. के उपाध्यक्ष अजित मिश्रा ने कहा, ‘‘फेडरल रिजर्व की बैठक के नतीजे पर बृहस्पतिवार को शुरुआती कारोबार में बाजार प्रतिक्रिया देगा। वायदा एवं विकल्प खंड में मासिक सौदों के निपटान का आखिरी दिन होने से उतार-चढ़ाव ऊंचा बना रह सकता है। इसको देखते हुए हम निवेशकों को सतर्क रुख रखने और जोखिम से बचाव के उपाय की सलाह दोहराते हैं।’’ एशिया के अन्य बाजारों में हांगकांग का हैंगसेंग, चीन का शंघाई कंपोजिट, जापान का निक्की और दक्षिण कोरिया का कॉस्पी नुकसान में रहे। हालांकि, यूरोप के प्रमुख बाजारों में दोपहर के कारोबार में तेजी का रुख रहा। अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.89 प्रतिशत मजबूत होकर 87.04 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये की विनिमय दर 18 पैसे टूटकर 74.78 पर आ गयी। शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों ने सोमवार को 3,751.58 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे। घरेलू शेयर बाजार गणतंत्र दिवस के मौके पर बुधवार को बंद रहेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

बिज़नेस

झरोखे से...