शिवसेना ने एक करोड़ नौकरी कम होने की रिपोर्ट पर मोदी सरकार को घेरा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jan 7 2019 6:01PM
शिवसेना ने एक करोड़ नौकरी कम होने की रिपोर्ट पर मोदी सरकार को घेरा

सेंटर फॉर मॉनीटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) की रिपोर्ट में दावा किया गया कि पिछले एक साल में देश में 1.09 करोड़ नौकरियां खत्म हुईं।

मुंबई। शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सोमवार को निशाना साधते हुए कहा कि अगर वह रोजगार सृजन का श्रेय लेना चाहते हैं तो उन्हें देश में घटी नौकरियों की भी जिम्मेदारी लेनी चाहिए। पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में एक संपादकीय में शिवसेना ने सेंटर फॉर मॉनीटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) की एक रिपोर्ट का हवाला दिया जिसमें दावा किया गया कि पिछले एक साल में देश में 1.09 करोड़ नौकरियां खत्म हुईं। शिवसेना केंद्र एवं महाराष्ट्र में भाजपा नीत सरकार की सहयोगी है। संपादकीय में कहा गया कि अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 70 लाख नौकरियों के सृजन का श्रेय चाहते हैं तो उन्हें एक साल में 1.09 करोड़ नौकरियां घटने की भी जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: नरेन्द्र मोदी ने कहा, भारत में रोजगार के अभूतपूर्व अवसर हैं

भाजपा से अक्सर नोंक-झोंक में उलझने वाली सहयोगी शिवसेना केंद्र को आगाह करती आई है कि जो युवा उसे सत्ता में लेकर आए थे वही उसे सत्ता से बेदखल भी कर सकते हैं। शिवसेना ने चेताया कि भाजपा सरकार को नौकरी की तलाश कर रहे बेरोजगार युवाओं की भावनाओं के साथ नहीं खेलना चाहिए। पार्टी ने कहा कि पहले आप बड़े-बड़े वादे करते हैं उसके बाद उनके पूरे होने के दावा करते हैं। लेकिन पिछले चार साल में एक भी साकार नहीं हुआ। रोजगार सृजन का बुलबुला अंतत: सीएमआईई की रिपोर्ट से फूट गया। इसके अलावा पार्टी ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी एवं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के सभी को नौकरी देने में अपने सरकार की असमर्थता जताने संबंधी पूर्व के बयानों का भी हवाला दिया।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Related Story

Related Video