निसान चेयरमैन कार्लोस घोसन को भागने में मदद करने के आरोपियों के प्रत्यर्पण के लिए अमेरिका हुआ सहमत

निसान चेयरमैन कार्लोस घोसन
निसान मोटर कंपनी के पूर्व चेयरमैन कार्लोस घोसन को जापान से भागने में मदद करने के आरोपियों के प्रत्यर्पण को मंजूरी देने पर अमेरिका ने सहमति जता दी है।वकीलों की आपात याचिका को स्वीकार करते हुए एक संघीय न्यायाधीश ने तत्काल प्रत्यर्पण को रोक दिया है और टेलर को मैसाचुसेट्स में रहने की इजाजत दे दी है।

बोस्टन। अमेरिका ने निसान मोटर कंपनी के पूर्व चेयरमैन कार्लोस घोसन को जापान से भागने में मदद करने के मामले में गिरफ्तार दो लोगों को प्रत्यर्पित करने पर सहमति जता दी है। आरोपियों के वकील ने बृहस्पतिवार को एक स्थानीय अदालत में इसकी जानकारी दी। आरोपियों के वकीलों टीवाई कॉब और पॉल केली ने ईमेल के जरिये दिये गये बयान में कहा कि विदेश मंत्रालय ने जापान के द्वारा प्रत्यर्पण के लिये किये गये अनुरोध को स्वीकार करने की बुधवार को उन्हें जानकारी दी। कॉब अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल में व्हाइट हाउस के भी वकील रह चुके हैं। हालांकि जब इसके बारे में विदेश मंत्रालय से संपर्क किया गया तो प्रवक्ता ने इस बारे में टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। मैसाचुसेट्स की एक संघीय अदालत ने पिछले महीने फैसला सुनाया था कि दोनों आरोपियों का प्रत्यर्पण किया जा सकता है। अदालत ने साथ ही यह भी जोड़ा था कि इस बारे में अंतिम निर्णय विदेश मंत्रालय को करना है।

इसे भी पढ़ें: बढ़त के साथ खुला आज का शेयर बाजार, सेंसेक्स 200 अंक से अधिक उछला

उल्लेखनीय है कि अमेरिकी सेना के विशेष बल में कार्यरत रह चुके मिशेल टेलर और उसके बेटे पीटर टेलर को घोसन को जापान से भागने में मदद करने के लिये गिरफ्तार किया गया था। उसके बाद से दोनों मैसाचुसेट्स की एक जेल में कैद हैं। घोसन को नाटकीय तरीके से एक निजी विमान से भगाया गया था। घोसन जापान में भ्रष्टाचार के मामलों की सुनवाई का सामना कर रहा था और घर पर नजरबंद था। उसे तुर्की के रास्ते भगाकर लेबनान पहुंचा दिया गया था। वह लेबनान का नागरिक है और लेबनान का जापान के साथ प्रत्यर्पण समझौता नहीं है। टेलर के वकीलों ने तत्काल प्रत्यर्पण को रोकने के लिये अदालत से कहा है कि वे विदेश मंत्रालय और व्हाइट हाउस से इस मामले पर पुनर्विचार करने की अपील करने जा रहे हैं। वकीलों की आपात याचिका को स्वीकार करते हुए एक संघीय न्यायाधीश ने तत्काल प्रत्यर्पण को रोक दिया है और टेलर को मैसाचुसेट्स में रहने की इजाजत दे दी है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़