विदेश में पढ़ने के लिए कुछ यूं हासिल करें आर्थिक सहायता

विदेश में पढ़ने के लिए कुछ यूं हासिल करें आर्थिक सहायता

अगर विदेश में पढ़ाई करने के लिए अगर आप भी इन पैसों की कमी के संकट से जूझ रहे हैं, और अपने सपने को पूरा करने में खुद को दिशा नहीं दे पा रहे हैं, तो यहां हम आपको बताएंगे कुछ टिप्स, जो आपके बड़े काम आ सकती है।

बेशक भारत 21वीं सदी में महाशक्ति बनने की ओर अग्रसर है, किंतु आज भी इसे शिक्षा में पश्चिम जगत के सामने, कई स्टैंडर्ड मानकों पर पीछे ही माना जाता है।

यह एक वास्तविकता है, जो बदल ज़रूर रहा है, किन्तु इसे अपेक्षित रूप से बदलने में अभी काफी समय लगने वाला है।

ऐसी स्थिति में विदेशों में पढ़ाई का आकर्षण समाज के कई वर्गों में लगातार ही बढ़ता गया है। विश्व भर से कई देश भी भारतीय छात्रों को आकर्षित करने के लिए अलग-अलग योजनायें पेश करते हैं, जिसमें कभी स्कॉलरशिप प्रोग्राम जारी करते हैं, तो अलग-अलग स्तर पर स्टूडेंट्स को सुविधाएं देने में भी कोताही नहीं करते हैं। विदेश में बहुत सारे छात्र, जिन्हें अपनी स्किल पर, अपनी लगन पर भरोसा होता है, वह पढ़ाई के लिए बाहर जाना तो चाहते हैं, किंतु इच्छा होने के बावजूद भी अगर कोई बड़ी रूकावट सामने आती है, तो वह पैसों की कमी ही होती है। 

अगर विदेश में पढ़ाई करने के लिए अगर आप भी इन पैसों की कमी के संकट से जूझ रहे हैं, और अपने सपने को पूरा करने में खुद को दिशा नहीं दे पा रहे हैं, तो यहां हम आपको बताएंगे कुछ टिप्स, जो आपके बड़े काम आ सकती है।

इसे भी पढ़ें: वर्ष 2021-22 के लिए CBSE ने बदला एग्जाम पैटर्न, क्लास 9 से 12वीं तक के लिए जरूरी अपडेट

स्कॉलरशिप बन सकती है बड़ा सहारा 

जी हाँ! बहुत सारे ऐसे स्टूडेंट्स की दास्तान मौजूद है, जिनके पास पैसे कम होने के बावजूद भी स्कॉलरशिप, यानी छात्रवृत्ति लेकर उन्होंने बड़े मुकाम हासिल किये हैं। ऐसी स्थिति में अगर आपको किसी भी विदेशी यूनिवर्सिटी में जाना है, तो उस यूनिवर्सिटी के वेबसाइट पर, या फिर उपलब्ध ऐप पर देखिए कि वह स्कॉलरशिप देती है, या नहीं! स्टूडेंट को सपोर्ट करने का उसके पास क्या प्रोग्राम है!

ऐसे में अगर आप पढ़ने में मेधावी हैं तो आपकी स्किल, आपको स्कॉलरशिप दिलाने में काफी मदद कर सकती है। ना केवल पढ़ाई के लिए, बल्कि स्पोर्ट्स स्कॉलरशिप भी आपको मिल सकती है, अगर आपकी एजुकेशनल मेरिट के साथ-साथ खेल एवं एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज बेहतरीन हैं तो!

एजुकेशन लोन है ना

अगर आपको वाकई लगता है कि विदेश जाने से आपकी प्रतिभा का उत्तम विकास होगा और आप अपने जीवन में बेहतरीन कर पाएंगे, तो एजुकेशन लोन भी एक बेहतर विकल्प है। जी हां! एजुकेशन लोन में इंटरेस्ट रेट भी काफी कम होता है। यह केवल विदेश में पढ़ाई करने के लिए ही नहीं, बल्कि अपने देश में पढ़ाई करने के लिए भी आपको उपलब्ध होगा। किंतु आप बैंक को यह विश्वास जरूर दिलाएं कि पढ़ाई होने के बाद आप बैंक के कर्ज चुकाने में सक्षम हो सकेंगे। अगर बैंक को यह विश्वास मिल गया, तो फिर एजुकेशन लोन आपको आसानी से मिल सकता है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली विश्वविद्यालय अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं जल्द ही जारी होंगी, जानिए इसके बारे में

पार्ट टाइम जॉब भी एक बेहतर विकल्प है!

ऐसी कई कहानियां आई हैं कि लोगों ने तिनका तिनका जोड़ कर, छोटे से छोटा काम करके अपनी पढ़ाई पूरी की, और बाद में उन्हें दुनिया ने सलाम भी किया। ऐसे में अगर आप पढ़ाई कर रहे हैं, तो बिना अपनी पढ़ाई डिस्टर्ब किए जॉब करके भी शिक्षा के लिए फंडिंग इकट्ठा कर सकते हैं। वैसे तो विदेश में यह कल्चर काफी स्ट्रांग है और इसके अनुसार जब आप पढ़ाई के साथ-साथ, कुछ घंटे पार्ट टाइम जॉब करते हैं, तो आपके लिए ठीक ठाक फंड का जुगाड़ हो सकता है। किंतु ध्यान दीजिए, पार्ट टाइम जॉब करने के, कई देशों में स्पेशल नियम बनाए गए हैं और उन्हें आपको ध्यान रखना चाहिए। अमेरिका की ही बात करें तो 1 सप्ताह में मात्र 20 घंटे पार्ट टाइम जॉब करने की इजाजत है, और अगर आप इसका उल्लंघन करते पाए जाते हैं तो आपको फाइन भरना पड़ सकता है, जो माली हालत में आपके लिए और दुखदाई साबित होगा।

देश चुनने में समझदारी करें 

जी हां! कई सारे ऐसे देश हैं, जहां पर हायर एजुकेशन फ्री है। इनमें आयरलैंड, ग्रीस, जैसे देशों के साथ ब्राजील जैसे देश भी शामिल हैं। यहां पर पब्लिक ट्यूशन भी फ्री दिए जाते हैं। ऐसे में अगर आपकी ख़ास पढ़ाई यहाँ बेहतर हो जाती है, तो सिर्फ रहने के खर्चे के लिए आप दूसरे उपाय भी कर सकते हैं, और अगर आप पढ़ाई पर फोकस कर पाते हैं, तो आप न केवल अपनी आजीविका चला पाएंगे, अपने परिवार को अच्छे खासे पैसे भी भेज पाएंगे।

- मिथिलेश कुमार सिंह