Prabhasakshi
गुरुवार, जुलाई 19 2018 | समय 23:06 Hrs(IST)

यंग इंडिया

इस तरह से शुरू हुई थी अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट, मिल रही है भारी छूट

By कालेजदुनिया.कॉम | Publish Date: Jun 29 2018 3:20PM

इस तरह से शुरू हुई थी अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट, मिल रही है भारी छूट
Image Source: Google
फ्लिपकार्ट 2007 में सचिन बंसल और बिन्नी बंसल द्वारा स्थापित एक ऑनलाइन इंटरनेट वाणिज्य कंपनी है। इसका मुख्यालय बंगलौर, भारत में है। कंपनी सिंगापुर में पंजीकृत है, और सिंगापुर स्थित होल्डिंग कंपनी के स्वामित्व में है। अमेज़ॅन की तरह, फ्लिपकार्ट ने शुरुआत में पुस्तकों में परिचालन शुरू किया और बाद में अन्य उत्पादों में प्रवेश किया। हालांकि, कंपनी सिंगापुर में पंजीकृत है, यह डब्ल्यूएस रिटेल नामक कंपनी के माध्यम से भारत में सामान बेचती है, क्योंकि विदेशी कंपनियों को भारत में बहु-ब्रांड ई-खुदरा बिक्री करने की अनुमति नहीं है। फ्लिपकार्ट ने डिजीफ्लिप और साइट्रॉन के नाम पर अपने उत्पादों को भी लॉन्च किया है। 
 
अमेज़ॅन एक अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन वाणिज्य कंपनी है जिसका मुख्यालय सिएटल, संयुक्त राज्य अमेरिका में है। इसने किताबों की बिक्री के साथ संचालन शुरू किया और बाद में इलेक्ट्रॉनिक बाजार में प्रवेश किया। अमेज़ॅन ने 2012 में अपने भारतीय परिचालन को शुरू किया। इसने अपना भारतीय परिचालन शुरू किया जंगली.कॉम के तहत , एक ऐसी वेबसाइट जिसने भारत में खुदरा विक्रेताओं को लाखों भारतीय खरीदारों के लिए अपने उत्पादों का विज्ञापन करने की अनुमति दी। हालांकि, फ्लिपकार्ट मोबाइल पर अपनी अधिकांश बिक्री पर केंद्रित है, अमेज़ॅन उत्पादों की बिक्री किताबों से लेकर डीवीडी, सीडी आदि तक है। अमेज़ॅन ने किंडल जैसे अपने उत्पादों को भी लॉन्च किया है। अमेज़ॅन हाल ही में ड्रोन विकसित करने के लिए निवेश के लिए खबरों में रहा है, जो कि उनके लिए वितरण करने में सहायक होंगे। दोनों कंपनियां एक-दूसरे को मुश्किल प्रतिस्पर्धा दे रही हैं। भारत के होमग्राउन ई-कॉमर्स प्लेयर फ्लिपकार्ट अब सबसे भरोसेमंद भारतीय ई-टेलिंग ब्रांड हैं लेकिन प्रतिद्वंद्वी अमेज़ॅन बेहतर उपयोगकर्ता अनुभव प्रदान करता है, हाल के एक अध्ययन के मुताबिक। उपयोगकर्ता अनुभव में अमेज़ॅन ने फ्लिपकार्ट को मात दी जोकि 30 शहरों में 7,500 ऑनलाइन दुकानदारों के जवाबों के आधार पर किये गये सर्वेक्षण में पाया गया। फ्लिपकार्ट और अमेज़ॅन भारत में बाजार प्रभुत्व के लिए एक भयंकर युद्ध में प्रतिद्वंदिता कर रहे हैं। इसके अलावा, अमेज़ॅन कूपन कुछ उत्पादों पर भारी छूट प्रदान करते हैं जो फ्लिपकार्ट नहीं करता है।
 
फ्लिपकार्ट दुनिया की तीसरी सबसे ज्यादा वित्त पोषित निजी कंपनी है और एक ईर्ष्यापूर्ण ग्राहक आधार के साथ भारत का सबसे मूल्यवान इंटरनेट व्यवसाय भी। 
 
पिछले साल से अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट के बीच प्रतिद्वंद्विता और तेज हो चुकी है। वित्त पोषण से लेकर भव्य शॉपिंग तक, दोनों ई-कॉमर्स प्रतिद्वंदी एक-दूसरे से आगे निकलने और निकालने के लिए प्रयासरत हैं। पिछले कुछ सालों में, अमेरिका स्थित अमेज़ॅन ने देश के तेजी से बढ़ते ई-कॉमर्स बाजार में तेजी से कदम उठाए, और फ्लिपकार्ट को उसके नंबर एक स्थान से विस्थापित करने के करीब आ गया है। हालांकि, शीर्ष स्लॉट को पकड़ने की लड़ाई अभी भी अमेज़ॅन के लिए कुछ समय  तक के लिये दूर हो सकती है। पिछले कुछ तिमाहियों में, अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट दोनों ही बराबर संख्या में वस्तुओं को बेच रहे थे लेकिन अमेरिकी ई-कॉमर्स प्रमुख का फ्लिपकार्ट के मूल्य मान पर पीछे रहना जारी है। 
 
त्यौहार के मौसम की शुरुआत के साथ, फ्लिपकार्ट और अमेज़ॅन के ग्राहकों के लिए छूट की बारिश हो रही है क्योंकि ये दोनों अच्छे सौदों के साथ खरीदारों को लुभाने और बाजार हिस्सेदारी हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं। विश्लेषकों ने कहा कि दोनों फर्मों ने परिधान, इलेक्ट्रॉनिक्स और घरेलू सामानों के साथ-साथ रसद पर ग्राहकों के लिए सर्वोत्तम सौदों को लाने के लिए भारी निवेश किया है ताकि ग्राहक के अनुभव को प्रभावित न किया जा सके। अपने 'बिग बिलियन डेज़' प्रस्ताव के हिस्से के रूप में फ्लिपकार्ट ने कहा कि उसने बिक्री के पहले दिन के 10 घंटे के भीतर 10 लाख उत्पादों को बेचा। तीसरे दिन को दावा किया गया कि उसने 10 घंटे में आधे मिलियन मोबाइल फोन बेचे थे। 
 
दूसरी ओर, अमेज़ॅन ने देर रात के ऑर्डर्स के लिये अगली सुबह तक डेलीवरी के साथ-साथ पांच दिनों के लिए रोजाना एक किलो सोना जीतने का मौका दिया। इसने दावा किया कि सभी शीर्ष सामान लाइव होने के 30 मिनट से भी कम समय में बिक चुके थे। 

मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक्स- मुख्य युद्ध का मैदान 
यदि आप एक नया स्मार्टफोन खरीदने की सोच रहे हैं, तो आप अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट दोनों पर लॉग इन करना चाहेंगे। अमेज़ॅन खरीदारों को गहरे मूल्य की कमी के साथ कई स्मार्टफोन मिलेंगे जैसे; नए लॉन्च नोकिया 6.1 सहित जिसपर 10,000 रुपये छूट तक की पेशकश है। 
 
मोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक्स हमेशा अमेज़ॅन के घर से बढ़ने वाले प्रतियोगी फ्लिपकार्ट के लिए एक बड़ा ध्यान केंद्रित करते हैं। बेंगलुरु स्थित कंपनी जो अपने मालिकों को बदलने के बीच में है, ने मोबाइलफोन, लैपटॉप, एयर कंडीशनर, कैमरे आदि पर अच्छी डील दी हैं। इसके अलावा सैमसंग के कई उत्पादों पर सबसे कम कीमतें पेश की गयी हैं। सैमसंग ऑन नेक्स्ट की कीमत 17,900 रुपये से घटकर 10,900 रुपये हो गई है, और सैमसंग जे 3 प्रो सिर्फ 6490 रुपये में उपलब्ध है। आप इसे अमेजन इंडिया,अमेजन इंडिया कूपन के जरिए भी खरीद सकते हैं। जिससे आपको डिस्काउंट भी मिल जाएगा।
 
ग्राहकों के लिए एक किफायती खरीदारी अनुभव बनाने के अलावा, फ्लिपकार्ट भी आसान और आकर्षक भुगतान समाधान प्रदान कर रहा है। इनमें एचडीएफसी बैंक डेबिट और क्रेडिट कार्ड के साथ-साथ कोई लागत ईएमआई  नहीं विकल्प पर 10% तत्काल छूट शामिल है।

फर्नीचर
फर्नीचर एक और श्रेणी है जिसमें बड़ी छूट है। अमेज़ॅन पर सबसे आकर्षक विकल्प में से एक एकल सीट रेकलाइनर पर 52% छूट है जो इसे उपभोक्ताओं के लिए 15,232 रुपये में उपलब्ध कराता है। इसके अतिरिक्त, आईसीआईसीआई बैंक कार्डधारकों को एक ही सौदे पर 10% छूट मिलती है।
 
फ्लिपकार्ट ने अपने 'परफेक्ट होम बाय फ्लिपकार्ट' श्रेणी के तहत फर्नीचर पर 50% तक की भारी छूट प्रस्तुत की है।

छोटी श्रेणियां, बड़ी बचत 
अमेज़ॅन की फैशन एक और बड़ी श्रेणी है जिसपर अमेज़ॅन ने 50-80% तक की भारी छूट की पेशकश की है। अमेज़ॅन पर अन्य ऑफ़र में दैनिक आवश्यकता की चीज़ों पर 60% छूट शामिल है।
बजट वाले खरीदारों के लिए चीजों को आसान बनाने के लिये फ्लिपकार्ट ने उत्पादों को चुनकर इन्हें तीन भागों में बांट रखा है, जिसमें 696 रुपये की कम कीमत से शुरु होकर 292 रुपये तक की छूट शामिल है।
 
निष्कर्ष :- 
फ्लिपकार्ट अमेज़ॅन आने तक भारत में शीर्ष पर था, और अब अमेज़ॅन तथा फ्लिपकार्ट की एक कठिन लड़ाई है और लोकप्रियता और बिक्री के मामले में भारत में बहुत तेज दर से बढ़ रहा है। ये दोनों कंपनियां गुणवत्ता और सेवा पर अच्छी हैं लेकिन कुल मिलाकर अमेज़ॅन में प्रत्येक विभाग में थोड़ी बढ़त है।
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

शेयर करें: