Prabhasakshi
मंगलवार, अगस्त 21 2018 | समय 11:12 Hrs(IST)

शूटर सौरभ चौधरी ने रचा इतिहास, एशियन गेम्स में गोल्ड जीता

यंग इंडिया

गरीबी की वजह से पढ़ाई छूटी है तो 15 अगस्त तक इस तरह लें स्कॉलरशिप

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Aug 1 2018 3:10PM

गरीबी की वजह से पढ़ाई छूटी है तो 15 अगस्त तक इस तरह लें स्कॉलरशिप
Image Source: Google

विद्यार्थी जो आर्थिक व अन्य संकट जैसे परिवार में किसी की मृत्यु, लम्बी बीमारी व नौकरी छूट जाने के चलते शिक्षा प्राप्त करने में कठिनाईयों का सामना कर रहे हों व शिक्षा छोड़ने के लिए मजबूर हों, वे “एचडीएफसी क्राइसिस स्कॉलरशिप 2018” के लिए आवेदन कर सकते हैं।

किसी भी सरकारी या प्राइवेट स्कूल के छठवीं कक्षा से लेकर 12वीं कक्षा तक के विद्यार्थी व एआईसीटीई/यूजीसी/ राज्य या केंद्र सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त संस्थान से ग्रेजुएशन व पोस्ट ग्रेजुएशन में फुलटाइम/पार्टटाइम डिग्री या डिप्लोमा कर रहे विद्यार्थी जो आर्थिक व अन्य संकट जैसे परिवार में किसी की मृत्यु, लम्बी बीमारी व नौकरी छूट जाने के चलते शिक्षा प्राप्त करने में कठिनाईयों का सामना कर रहे हों व शिक्षा छोड़ने के लिए मजबूर हों, वे “एचडीएफसी क्राइसिस स्कॉलरशिप 2018” के लिए आवेदन कर सकते हैं।
 
मानदंड
विद्यार्थी जिनका परिवार कोई दुर्भाग्यपूर्ण घटना का सामना कर रहा हो या पिछले दो वर्षों में कोई अन्य संकट आया हो, वे इस स्कॉलरशिप के लिए आवेदन कर सकते हैं।
 
लाभ/ईनाम
चयनित विद्यार्थी को स्कूली शिक्षा हेतु अधिकतम 10,000 व कॉलेज की शिक्षा हेतु अधिकतम 25,000 रुपए तक की राशि प्राप्त होगी।
 
अन्य जानकारी 
आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज इस प्रकार हैं-
•    पिछली परीक्षा की प्रमाणित अंकसूची 
•    एड्रेस प्रूफ की दो प्रतियाँ
•    डॉक्टर नोट (यदि अस्वस्थ हैं तो)
•    सैलरी स्लिप (यदि हो)
•    पारिवारिक आय प्रमाण-पत्र
 
अंतिम तिथि
15 अगस्त, 2018 तक आवेदन किया जा सकता है।
 
आवेदन कैसे करें
इच्छुक विद्यार्थी ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए (आवेदन हेतु लिंक) या हमारी ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर प्रक्रिया फॉलो करें।  
ऑनलाइन आवेदन हेतु महत्वपूर्ण लिंक :- http://www.b4s.in/Sakshi/HEC5
 
Buddy4Study India Foundation

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

शेयर करें: