अफगानिस्तान के खिलाफ एकमात्र टेस्ट को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करेगी क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 29, 2021   16:21
अफगानिस्तान के खिलाफ एकमात्र टेस्ट को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करेगी क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया

ऑस्ट्रेलियन एसोसिएटेड प्रेस (एएपी) के अनुसार क्रिकेट तस्मानिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डोमीनिक बाकर ने रेडियो स्टेशन ट्रिपल एम से कहा कि इस संबंध में जल्द की औपचारिक घोषणा होने की उम्मीद है।

मेलबर्न। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) अफगानिस्तान के खिलाफ एकमात्र टेस्ट को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने की औपचारिक घोषणा इस हफ्ते करेगा। सीए ने स्पष्ट कर दिया है कि अगर सत्ताधारी तालिबान महिला क्रिकेट से प्रतिबंध नहीं हटाता है ,तो वे अफगानिस्तान से नहीं खेलेंगे। ऑस्ट्रेलियन एसोसिएटेड प्रेस (एएपी) के अनुसार क्रिकेट तस्मानिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डोमीनिक बाकर ने रेडियो स्टेशन ट्रिपल एम से कहा कि इस संबंध में जल्द की औपचारिक घोषणा होने की उम्मीद है। बाकर ने कहा, ‘‘इस हफ्ते इसे औपचारिक रूप से अनिश्चितकाल के लिए स्थगित किया जाएगा। यह स्वीकार्य नहीं है कि वे महिला खेलों को स्वीकृति नहीं देंगे। अगर वे प्रतिस्पर्धी पुरुष खेल खेलना चाहते हैं, विशेषकर क्रिकेट जगत में, तो उन्हें पुनर्विचार करना होगा कि उन्हें क्या करना है।’’ तालिबान ने कहा है कि देश में महिला क्रिकेट जारी नहीं रहेगा।

इसे भी पढ़ें: पंद्रह साल बाद डे-नाइट के ऐतिहासिक टेस्ट में आमने सामने भारत और ऑस्ट्रेलिया की महिला टीमें

बाकर ने कहा कि सीए टेस्ट मैच के बाद में आयोजन का रास्ता खुला रहेगा अगर अफगानिस्तान में स्थिति में सुधार होता है तो। यह एकमात्र टेस्ट शुरू में 2020 में होना था लेकिन इसे कोविड-19 महामारी के कारण इस साल 27 नवंबर तक स्थगित कर दिया गया। आस्ट्रेलियाई क्रिकेटर्स संघ ने मैच को स्थगित करने के सीए के फैसले का समर्थन किया है। संघ ने कहा, ‘‘अफगानिस्तान में जो हो रहा है वह मानवाधिकार का मुद्दा है जिसका क्रिकेट के खेल पर भी असर पड़ रहा है। हम राशिद खान जैसे खिलाड़ियों को आस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलते हुए देखना पसंद करते लेकिन इस टेस्ट मैच के आयोजन पर विचार नहीं हो सकता अगर रोया समीम और टीम की उनकी साथियों को भी इसी तरह मैच खेलने का मौका नहीं मिलता तो।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।