रोहित ने कहा, थोड़े बदलाव करने से फॉर्म में वापसी कर लूंगा

Rohit Sharma
ANI Photo.
रोहित ने शनिवार को सत्र का अपना आखिरी मैच खेलने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘बहुत सी चीजें जो मैं करना चाहता था, उन्हें मैं नहीं कर पाया। मैं इस सत्र में अपने प्रदर्शन से बहुत निराश हूं। लेकिन ऐसा मेरे साथ पहले भी हो चुका है, इसलिए यह ऐसा नहीं है जिससे मैं पहली बार गुजर रहा हूं।’’

मुंबई| मुंबई इंडियन्स के कप्तान रोहित शर्मा ने स्वीकार किया कि बल्लेबाजी में काफी कुछ उनके अनुकूल नहीं रहा, लेकिन इस निराशाजनक सत्र के बावजूद उनकी रातों की नींद गायब नहीं हुई और थोड़े बदलाव करने से वह फिर से फॉर्म में वापसी कर लेंगे। रोहित के लिये इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का यह सत्र बेहद निराशाजनक रहा।

आईपीएल के 2008 में पहले सत्र में पदार्पण करने से लेकर पहली बार ऐसा हुआ जबकि वह एक भी अर्धशतक बनाने में नाकाम रहे। इस सलामी बल्लेबाज ने 14 मैचों में 19.14 के औसत और 120.17 के स्ट्राइक रेट से केवल 248 रन बनाये।

रोहित ने शनिवार को सत्र का अपना आखिरी मैच खेलने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘बहुत सी चीजें जो मैं करना चाहता था, उन्हें मैं नहीं कर पाया। मैं इस सत्र में अपने प्रदर्शन से बहुत निराश हूं। लेकिन ऐसा मेरे साथ पहले भी हो चुका है, इसलिए यह ऐसा नहीं है जिससे मैं पहली बार गुजर रहा हूं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं जानता हूं कि क्रिकेट यहीं खत्म नहीं होता, आगे हमें काफी क्रिकेट खेलनी है। इसलिए मुझे मानसिक पहलू पर ध्यान देने और इस पर विचार करने की जरूरत है कि मैं फॉर्म में कैसे लौट सकता हूं और कैसे अच्छा प्रदर्शन कर सकता हूं।’’ रोहित ने कहा, ‘‘थोड़े बदलाव करने होंगे और जब भी समय मिलेगा मैं इन पर काम करने की कोशिश करूंगा।’’ आईपीएल की सबसे सफल टीम मुंबई के लिये यह सत्र निराशाजनक रहा। दिल्ली कैपिटल्स पर आखिरी मैच में पांच विकेट की जीत के बावजूद वह अंतिम स्थान पर रही। मुंबई ने लगातार आठ हार के साथ अपने अभियान की शुरुआत की और इसके बाद बाकी बचे छह में से चार मैचों में उसने जीत दर्ज की।

रोहित ने कहा, ‘‘यह सत्र हमारे लिए थोड़ा निराशाजनक रहा क्योंकि टूर्नामेंट की शुरुआत में हम अपनी रणनीति पर अमल नहीं कर पाये। हम जानते हैं कि आईपीएल जैसे टूर्नामेंट में आपको लय बनानी होती है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘शुरू में जब हम एक के बाद एक मैच हार रहे थे तो वह मुश्किल दौर था। हमारे लिये यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण था कि हमने जो भीरणनीति बनायी थी, हम उसके अनुसार चलें। हम जैसा चाहते थे यह वैसा नहीं हुआ।’’

रोहित ने कहा, ‘‘जब आपके पास एक नयी टीम होती है तो कभी-कभी ऐसा होता है क्योंकि कुछ खिलाड़ियों को अपनी भूमिका समझने में समय लगता है। कुछ खिलाड़ी इस फ्रेंचाइजी के लिये पहली बार खेल रहे थे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़