पढ़ाई के लिए ई-विद्या योजना को अनबॉक्स करना और समझना

पढ़ाई के लिए ई-विद्या योजना को अनबॉक्स करना और समझना

भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पीएम ई-विद्या योजना की घोषणा 17 मई 2020 को किया, जो ऑनलाइन शिक्षा के लिए मल्टी-मोड का उपयोग करने की अनुमति प्रदान करेगा। यह मोबाइल एप्लिकेशन, टीवी चैनल, सामुदायिक रेडियो और पॉडकास्ट सहित कई उपायों पर ध्यान केंद्रित करता है।

जैसे ही स्कूल का नया सत्र फिर से शुरू होता है, बच्चे अपनी नई किताबों और कापियों की महक को बार-बार अनुभव करते हैं, अपनी यूनिफ़ॉर्म का ट्रायल  करते हैं और अपने दोस्तों और सहपाठियों के साथ ग्रीष्म अवकाश की तमाम घटनाएं और खुशियां साझा करने की प्रतीक्षा करते हैं। हालांकि इस बार शायद ऐसा नहीं है। वैश्विक महामारी के साथ नया स्कूल सत्र इस बार अलग होगा। मोबाइल फोन, टैबलेट और लैपटॉप ने कई छात्रों के घरों को कक्षाओं में बदल दिया है, जबकि अन्य लोगों के लिए नया सत्र तब तक शुरू नहीं हो सकता है जब तक कि पढ़ाई के लिए स्कूल भौतिक स्थान नहीं बन जाता।

इसे भी पढ़ें: अटल पेंशन योजना का कैसे उठायें लाभ? आखिर कौन-कौन व्यक्ति ले सकते हैं इसका पूरा फायदा?

भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पीएम ई-विद्या योजना की घोषणा 17 मई 2020 को किया, जो ऑनलाइन शिक्षा के लिए मल्टी-मोड का उपयोग करने की अनुमति प्रदान करेगा। यह मोबाइल एप्लिकेशन, टीवी चैनल, सामुदायिक रेडियो और पॉडकास्ट सहित कई उपायों पर ध्यान केंद्रित करता है। पीएम ई-विद्या कार्यक्रम के तहत 12 डीटीएच चैनल शुरू किए जाएंगे, जिनमें से प्रत्येक कक्षा 1 से 12 तक के छात्रों के लिए होगा।

आइए पीएम ई-विद्या की विस्तृत जानकारी लेते हैं

1. पीएम ई-विद्या कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से छात्रों को शिक्षित करना है, ताकि छात्रों की शिक्षा देशव्यापी लॉकडाउन की वजह से प्रभावित न हो सके।

2. यह कार्यक्रम देश के शीर्ष 100 विश्वविद्यालयों और स्कूलों के लिए भी घोषित किया गया है। चूँकि सभी लोगों के पास इंटरनेट की सुविधा नहीं होती है, इसलिए स्वयंप्रभा डीटीएच चैनल की घोषणा की गई है।

3. सरकार 12 और चैनल लॉन्च करने के लिए भी तैयार है। इस कार्यक्रम में दीक्षा एप्लीकेशन भी शामिल होगा, जिसके अंतर्गत सभी कक्षाओं के लिए ई-कंटेंट और QR कोड युक्त एनर्जेटिक पुस्तक शामिल होगी और इसे ‘एक राष्ट्र, एक डिजिटल प्लेटफॉर्म’ कहा जाएगा। यह सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए शुरू की जाएगी।

4. ‘वन क्लास, वन चैनल ’नामक एक टीवी चैनल भी पहली से 12 वीं कक्षा के लिए लॉन्च किया जाएगा. सरकार ने दृष्टिहीन और बघिर छात्रों के लिए रेडियो पॉडकास्ट और विशेष ई-कंटेंट लाने का भी फैसला किया है। यह सुनिश्चित करने के लिए सरकार सभी तरह के प्रयास करेगी ताकि कोरोना की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान छात्रों को किसी प्रकार की दिक्कत का सामना ना करना पड़े।

5. मानसिक और भावनात्मक छात्रों, शिक्षकों और परिवारों के लिए एक मनोदर्पण चैनल भी शुरू किया जायेगा।

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना से इस तरह उठा सकते हैं ज्यादा से ज्यादा लाभ

पीएम ई-विद्या के फायदे

- छात्रों को घर बैठे शिक्षा मिलेगी

- यह छात्रों की सभी सीखने की जरूरतों के लिए वन-स्टॉप समाधान होगा

- नेत्रहीन और श्रवण बाधित छात्रों के लिए विशेष रेडियो पॉडकास्ट की व्यवस्था होगी 

- छात्र ई-कंटेंट के माध्यम से अध्ययन कर सकते हैं

- टीवी पर शिक्षा के लिए समर्पित चैनल उन छात्रों की मदद करेगा जिनके पास इंटरनेट तक पहुंच नहीं है

चुनौतियां

इससे पहले कि हम इन सभी उपायों के लिए डिजिटल शिक्षा को नए रामबाण के रूप में देखें, हमें यह एहसास होना चाहिए और सुनिश्चित भी करना पड़ेगा कि स्मार्टफोन, इंटरनेट और डीटीएच कनेक्शन की सुविधा समाज के हर वर्ग के लिए उपलब्ध हो। एक सर्वे में बताया गया है कि भारत एक ऐसा देश है जहाँ 24% आबादी के पास एक स्मार्टफोन है और केवल 15% ग्रामीण आबादी के पास इंटरनेट का उपयोग है और डीटीएच ग्राहकों की संख्या केवल 69.3 मिलियन है। तो ऐसी स्थिति में मैं समझता हूँ कि नई पीएम ई-विद्या योजना ग्रामीण और आर्थिक रूप से पिछड़े समुदायों की जरूरतों को शामिल करने में पूरी तरह से सफल नहीं हो सकती है।

एक अध्ययन में बताया गया है कि सरकार ने ‘वन नेशन, वन प्लेटफार्म’ के तहत 14 भाषाओं में उपलब्ध ई-लर्निंग सामग्री पहुंचाने के लिए दीक्षा एप्लीकेशन को लांच किया है, जबकि हकीकत यह है कि भारत में 47 भाषाओं में शिक्षा का माध्यम है। ऐसे में सवाल उठता है कि हमने वैश्विक महामारी के दौरान कई ऐसे छात्रों को पीछे क्यों छोड़ दिया है? सरकार ने ‘वन क्लास, वन चैनल’ की पहल शुरू तो कर दी है, जिसके अंतर्गत ग्रेड 1 से 12 तक के प्रत्येक वर्ग को एक समर्पित चैनल मिलेगा लेकिन उसमें उन छात्रों को भी शामिल किया गया है जिनके पास इंटरनेट और स्मार्टफ़ोन है ही नहीं।

इसे भी पढ़ें: बिज़नेस के लिए मोदी सरकार बिना गारंटी दे रही है 50000 का लोन, ब्याज में 2 प्रतिशत की सब्सिडी

उन देशों में जहां ई-लर्निंग लोकप्रिय है, वहां छात्रों के पास विभिन्न ऑनलाइन संसाधनों जैसे मैसिव ऑनलाइन ओपन कोर्सेज (MOOCs) की सुविधा भी उपलब्ध है जो छात्रों, शिक्षकों और पेशेवरों को अपने कौशल को बेहतर बनाने में उनकी मदद करते हैं। चूंकि हमारी शिक्षा प्रणाली ने हमारे शिक्षकों और छात्रों को रचनात्मक रूप से सोचने और इस तरह की संकट की स्थिति से निपटने के लिए प्रशिक्षित नहीं किया है, इसलिए वे कक्षा से ऑनलाइन वाली व्यवस्था के लिए अभी ठीक तरह से तैयार नहीं हैं।

- जे. पी. शुक्ला






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

बिज़नेस

झरोखे से...