तेजी से वजन घटा रहे हैं तो हो जाएं सावधान, हो सकती हैं यह समस्याएं

 weight loss
मोटापा कम करने के लिए लोग कई तरह की फैंसी डाइट फॉलो करते हैं। कई लोग मोटापा कम करने के लिए सिर्फ सलाद खाते हैं तो कुछ लोग बहुत कम कैलोरी वाली डाइट लेते हैं। ऐसी डाइट से वजन तो तेजी से कम हो जाता है लेकिन इससे हमारे स्वास्थ्य पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है।

सुस्त जीवनशैली और गलत खानपान के कारण आज के समय में मोटापा एक आम समस्या बन गया है। मोटापा कम करने के लिए लोग कई तरह की फैंसी डाइट फॉलो करते हैं। कई लोग मोटापा कम करने के लिए सिर्फ सलाद खाते हैं तो कुछ लोग बहुत कम कैलोरी वाली डाइट लेते हैं। ऐसी डाइट से वजन तो तेजी से कम हो जाता है लेकिन इससे हमारे स्वास्थ्य पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि कम समय में ज़्यादा वजन घटाने से स्वास्थ्य पर क्या नुकसान होते हैं-

इसे भी पढ़ें: यास्मीन कराचीवाचा ने बताएं डेस्क पर बैठे बॉडी को स्ट्रेच करने की एक्सरसाइज

शरीर में पोषक तत्वों की कमी 

तेजी से वजन घटाने के लिए हम अक्सर कैलोरी फ्री खाना खाते हैं। लेकिन इससे शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। उदाहरण के लिए कई लोग वजन कम करने के लिए अपनी डाइट से रोटी या चावल को हटा देते हैं। इससे शरीर को पर्याप्त मात्रा में कार्बोहाइड्रेट नहीं मिल पाता है। यही वजह है कि तेजी से वजन कम करने के कारण अक्सर थकान रहती है और शरीर में खून की कमी हो जाती है। 

माँसपेशियाँ कमजोर होने लगती हैं

तेजी से वजन घटाने के लिए लोग डाइटिंग करते और भूखे रहते हैं। लेकिन कई बार ऐसी डाइट लेने से माँसपेशियाँ कमजोर होने लगती हैं। कम समय में वजन घटाने से मसल्स लॉस होने लगता है। 

मेटाबॉलिज़्म कमजोर होता है 

तेजी से वजन घटाने से हमारे मेटाबॉलिज्म पर बुरा प्रभाव पड़ता है। लो कैलोरी डाइट लेने से शरीर का मेटाबॉलिज्म कमजोर हो जाता है। इससे वजन कम होने के बजाय बढ़ने लगता है।

इसे भी पढ़ें: प्री डायबिटीज के लक्षण दिखने पर करें ये घरेलू उपाय, नहीं होगी शुगर की बीमारी

पानी की कमी

कम समय में वजन कम करने से शरीर में पानी की कमी हो सकती है। इससे कमजोरी, कब्ज, मांसपेशियों में खिंचाव और दर्द की समस्या होने लगती है। पानी की कमी से त्वचा ड्राई हो जाती है।  


मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है

तेजी से वेट लॉस करने से मानसिक स्वास्थ्य पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है। डाइटिंग के दौरान भूखे रहने से मूड स्विंग और चिड़चिड़ापन जैसी समस्याएं होने लगती हैं। इसके साथ ही कम कैलोरी वाली डाइट से कई तरह की मानसिक बीमारियां होने का खतरा भी अधिक होता है।

- प्रिया मिश्रा 

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

अन्य न्यूज़