एक रिपोर्ट का दावा, 70 प्रतिशत लोग अगर मास्क पहने होते तो नियंत्रण में होती कोरोना महामारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2020   16:24
  • Like
एक रिपोर्ट का दावा, 70 प्रतिशत लोग अगर मास्क पहने होते तो नियंत्रण में होती कोरोना महामारी

एक अध्ययन के अनुसार 70 प्रतिशत लोगों ने भी अगर मास्क पहना होता तो, महामारी नियंत्रण में हो सकती थी।पत्रिका ‘फिजिक्स ऑफ फ्लुइड्स’ में प्रकाशित इस अध्ययन में, ‘फेस मास्क’ पर किए गए अध्ययनों का आकलन किया गया।

सिंगापुर। कोविड-19 वैश्विक महामारी को इतना विकराल रूप लेने से रोका जा सकता था, अगर 70 प्रतिशत लोगों ने भी लगातार मास्क पहना होता। एक अध्ययन में इसके साथ ही कहा गया है कि आम कपड़े से भी लगातार मुंह ढकने से संक्रमण फैलने की दर कम हो सकती है। मास्क बनाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सामग्री और उसे पहनने की अवधि के उसके असर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के संबंध में किए गए अध्ययनों की समीक्षा में यह बात सामने आई है।

इसे भी पढ़ें: जो बाइडन ने कहा, मेरा राष्ट्रीय सुरक्षा दल अमेरिका को रखेगा सुरक्षित

पत्रिका ‘फिजिक्स ऑफ फ्लुइड्स’ में प्रकाशित इस अध्ययन में, ‘फेस मास्क’ पर किए गए अध्ययनों का आकलन किया गया और इस पर महामारी विज्ञान की रिपोर्टों की समीक्षा कि क्या ये एक संक्रमित व्यक्ति के दूसरे लोगों को संक्रमित करने की संख्या को कम करते हैं। अध्ययन में कहा गया, ‘‘ अत्यधिक प्रभावकारी फेस मास्क, जैसे कि लगभग 70 प्रतिशत अनुमानित प्रभावकारिता वाले सर्जिकल मास्क को अगर 70 प्रतिशत लोगों ने भी सार्वजनिक स्थानों पर पहना होता तो, वैश्विक महामारी के प्रकोप को कम किया जा सकता था।’’ अध्ययन के शोधकर्ताओं में ‘नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर’ के संजय कुमार भी शामिल थे। कुमार ने कहा, ‘‘ यहां तक की आम कपड़े से भी लगातार मुंह ढकने से संक्रमण फैलने की दर कम हो सकती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




ट्रंप ने बाइडेन के लिए छोड़ा पत्र, क्या अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को करेंगे फोन?

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   10:57
  • Like
ट्रंप ने बाइडेन के लिए छोड़ा पत्र, क्या अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को करेंगे फोन?

व्हाइट हाउस ने कहा कि जो बाइडेन की ट्रंप को फोन करने की कोई योजना नहीं है।ट्रंप ने अपने कार्यकाल के अंत तक कई स्थापित परंपराओं को तोड़ा था, इसलिए बुधवार तक इस पर अनिश्चितता थी की क्या वह राष्ट्रपति कार्यालय में अपने उत्तराधिकारी के लिए पत्र छोड़ने की परंपरा को निभाएंगे।

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन की पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को फोन करने की कोई योजना नहीं है। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने बृहस्पतिवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ फोन करने की कोई योजना नहीं है।’’ दरअसल बाइडन ने कहा था कि ट्रंप ने व्हाइट हाउस से रवाना होने से पहले ‘‘ओवल ऑफिस’’ में उनके लिए ‘‘बेहद उदार’’ पत्र छोड़ा है। इस संदर्भ में साकी से सवाल किया गया था। ट्रंप बाइडन के शपथ ग्रहण सामरोह में शामिल नहीं हुए थे,जैसा कि आम तौर पर निवर्तमान राष्ट्रपति नहीं करते हैं।

इसे भी पढ़ें: कमला हैरिस ने कैपिटल की सीढ़ियों पर खड़े होकर पेंस को दी विदाई

साकी ने कहा, ‘‘ वह यह कहना चाहते थे कि पूर्व राष्ट्रपति की सहमति के बिना वह निजी पत्र सार्वजनिक नहीं करना चाहते। लेकिन मैं यह नहीं कहूंगी कि वह फोन करके उनकी मंजूरी लेंगे, वह बस उस निजी पत्र के प्रति सम्मान व्यक्त करने की कोशिश कर रहे थे।’’ ऐसी परंपरा है कि निवर्तमान राष्ट्रपति ओवल ऑफिस में नए राष्ट्रपति के लिए ‘रिजॉल्यूट डेस्क’ पर पत्र छोड़ते हैं। ट्रंप ने अपने कार्यकाल के अंत तक कई स्थापित परंपराओं को तोड़ा था, इसलिए बुधवार तक इस पर अनिश्चितता थी की क्या वह राष्ट्रपति कार्यालय में अपने उत्तराधिकारी के लिए पत्र छोड़ने की परंपरा को निभाएंगे। ट्रंप ने बाइडन की जीत पर औपचारिक रूप से उन्हें बधाई भी नहीं दी थी। गौरतलब है कि राष्ट्रपति जो बाइडन ने बुधवार को व्हाइट हाउस के ओवल ऑफिस में पत्रकारों से कहा था, ‘‘ ट्रंप ने ‘‘बहुत उदार’’ पत्र लिखा है। चूंकि यह बेहद निजी है इसलिए जब तक मैं उनसे बात नहीं कर लूं तब तक इस बारे में बात नहीं कर सकता। लेकिन वह बहुत उदार है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




कमला हैरिस के उपराष्ट्रपति बनने से भारत-अमेरिका रिश्ते और मजबूत होंगे: व्हाइट हाउस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   09:09
  • Like
कमला हैरिस के उपराष्ट्रपति बनने से भारत-अमेरिका रिश्ते और मजबूत होंगे: व्हाइट हाउस

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने कहा, ‘‘राष्ट्रपति बाइडन कई बार भारत की यात्रा कर चुके हैं। वह भारत और अमेरिका में नेताओं के बीच लंबे समय से चले आ रहे सफल द्विदलीय संबंध का सम्मान करते हैं, उसका महत्व समझते हैं। बाइडन प्रशासन इसे आगे बढ़ाने की दिशा में आशान्वित है।’’

वाशिंगटन। व्हाइट हाउस ने कहा है कि कमला हैरिस के अमेरिका का उपराष्ट्रपति बनने से भारत और अमेरिका के बीच संबंध और मजबूत होंगे। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राष्ट्रपति जो बाइडन दोनों देशों के बीच लंबे समय से चले आ रहे द्विदलीय सफल संबंधों का सम्मान करते हैं। गौरतलब है कि बाइडन ने बुधवार को अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।

इसे भी पढ़ें: कमला हैरिस ने कैपिटल की सीढ़ियों पर खड़े होकर पेंस को दी विदाई 

बाइडन प्रशासन में भारत-अमेरिका संबंध पर एक सवाल के जवाब में साकी ने कहा, ‘‘राष्ट्रपति बाइडन कई बार भारत की यात्रा कर चुके हैं। वह भारत और अमेरिका में नेताओं के बीच लंबे समय से चले आ रहे सफल द्विदलीय संबंध का सम्मान करते हैं, उसका महत्व समझते हैं। बाइडन प्रशासन इसे आगे बढ़ाने की दिशा में आशान्वित है।’’ 

इसे भी पढ़ें: अमेरिका की पहली महिला उपराष्ट्रपति बनने के बाद बोलीं कमला हैरिस, सेवा के लिए तैयार हूं 

उन्होंने कहा कि भारतीय मूल की कमला हैरिस के उपराष्ट्रपति बनने से यह संबंध और मजबूत होगा। साकी ने कहा कि बाइडन ने उनका (हैरिस का) चुनाव किया है और वह पहली भारतवंशी हैं जो अमेरिका की उपराष्ट्रपति बनी हैं। निश्चित रूप से यह इस देश में हम सभी के लिए न सिर्फ एक ऐतिहासिक लम्हा है बल्कि इससे हमारे रिश्ते भी और प्रगाढ़ होंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




22 करोड़ की आबादी वाले पाकिस्तान को 5 करोड़ ही टीके देगा चीन, अपना विमान लाकर खुद ही ले जाना होगा वैक्सीन

  •  अभिनय आकाश
  •  जनवरी 21, 2021   19:23
  • Like
22 करोड़ की आबादी वाले पाकिस्तान को 5 करोड़ ही टीके देगा चीन, अपना विमान लाकर खुद ही ले जाना होगा वैक्सीन

पाकिस्तान ने टीके के लिए अपने दोस्त चीन की तरफ मदद का हाथ बढ़ाया। लेकिन चीन ने भी पाकिस्तान के साथ बड़ा खेल कर दिया। चीन ने 22 करोड़ की आबादी वाले पाकिस्तान को 5 करोड़ टीके ही दिए।

भारत में दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान 16 जनवरी से शुरू हो गया। पिछले चार दिनों में 6 लाख से ज्यादा स्वाथ्यकर्मियों को टीका लगाता गया है। सरकार की पहले चरण में 30 करोड़ लोगों को टीका लगाने की योजना है। दुनिया के कई देश भारत की तरफ टीके के लिए टकटकी लगाए बैठे हैं। दर्जन भर देशों ने भारत सरकार से कोरोना के टीके के लिए अनुरोध किया है। अपनी घरेलु जरूरतों को पूरा करने के बाद भारत पाकिस्तान को छोड़कर आने वाले दिनोों में अपने पड़ोसी देशों को टीके निर्यात करेगा। 

इसे भी पढ़ें: अरुणाचल में एक गांव बनाने की खबरों पर चीन ने तोड़ी चुप्पी, दिया यह बड़ा बयान

पाकिस्तान ने टीके के लिए अपने दोस्त चीन की तरफ मदद का हाथ बढ़ाया। लेकिन चीन ने भी पाकिस्तान के साथ बड़ा खेल कर दिया। चीन ने 22 करोड़ की आबादी वाले पाकिस्तान को 5 करोड़ टीके ही दिए। इसके साथ ही चीन ने पाकिस्तान को अपना विमान लाकर खुद ही टीके ले जाने को कहा है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि चीन ने पाकिस्तान को 31 जनवरी तक कोरोना वैक्सीन की 5 लीख डोज उपलब्ध कराने का वादा किया है। 







This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept