अमेरिका ने ताइवान और रूस के मुद्दे को लेकर चीन पर कूटनीतिक दबाव बढ़ाया

China
Prabhasakshi
अमेरिका के जो बाइडन प्रशासन ने शुक्रवार को चीन पर ताइवान के खिलाफ उकसावे वाली कार्रवाई बंद करने के लिए कूटनीतिक दबाव तेज कर दिया। इसके साथ ही अमेरिका ने चीन को यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में रूस को किसी भी तरह की सहायता नहीं देने के प्रति आगाह किया।

न्यूयॉर्क। अमेरिका के जो बाइडन प्रशासन ने शुक्रवार को चीन पर ताइवान के खिलाफ उकसावे वाली कार्रवाई बंद करने के लिए कूटनीतिक दबाव तेज कर दिया। इसके साथ ही अमेरिका ने चीन को यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में रूस को किसी भी तरह की सहायता नहीं देने के प्रति आगाह किया। न्यूयॉर्क में चल रही संयुक्त राष्ट्र महासभा की वार्षिक बैठक से इतर अपने चीनी समकक्ष वांग यी के साथ शुक्रवार को हुई मुलाकात में अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने बाइडन प्रशासन का रुख दोहराया।

इसे भी पढ़ें: बारिश की वजह से मची उथल-पुथल के बीच रोहित ने भारत को दिलाई जीत

अमेरिकी अधिकारियों ने बताया कि ब्लिंकन के पिता का बृहस्पतिवार को निधन हो गया था, जिसके बाद उन्होंने कुछ ही बैठकों में हिस्सा लिया और चीनी विदेश मंत्री से मुलाकात उनमें से एक थी। ब्लिंकन के रुख पर चीन की क्या प्रतिक्रिया थी, इस पर अधिकारियों ने कुछ नहीं कहा। हालांकि, उन्होंने बताया कि चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने अमेरिका के संदेश का संज्ञान लिया।

इसे भी पढ़ें: मुख्‍यमंत्री जी बताएं भूमाफिया पर वो कार्रवाई करेंगे या दिल्ली से विशेष दस्ता आएगा, अखिलेश यादव का योगी पर निशाना

अधिकारियों ने कहा कि दोनों नेताओं ने ‘विशेष रूप से तनाव के समय में संचार के रास्ते खुले रखने और जिम्मेदाराना ढंग से अमेरिका-चीन संबंधों को आगे ले जाने’ की जरूरत को रेखांकित किया। ब्लिंकन और वांग के बीच बातचीत ऐसे समय में हो रही है, जब दोनों देशों के बीच विभिन्न मुद्दों को लेकर तनाव है और नवंबर में बाइडन और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच मुलाकात होने की संभावना जताई जा रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़