आर्टेमिस 1: अंतरिक्ष यान की पहली उड़ान मनुष्यों को चंद्रमा पर ले जाने के लिए तैयार

Artemis I
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
एक लॉन्च विंडो - वह अवधि जिसके दौरान एक रॉकेट को अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए लॉन्च किया जाना चाहिए - 29 अगस्त को उस अंतरिक्ष यान की पहली उड़ान के लिए खुलेगी, जिसमें 1972 के बाद मनुष्यों को पहली बार चंद्रमा पर ले जाया जाएगा।

बर्मिंघम, 27 अगस्त (द कन्वरसेशन)। एक लॉन्च विंडो - वह अवधि जिसके दौरान एक रॉकेट को अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए लॉन्च किया जाना चाहिए - 29 अगस्त को उस अंतरिक्ष यान की पहली उड़ान के लिए खुलेगी, जिसमें 1972 के बाद मनुष्यों को पहली बार चंद्रमा पर ले जाया जाएगा। यदि सब कुछ ठीक रहा, तो 2025 में मानव को चंद्रमा पर दोबारा ले जाने के अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए आर्टेमिस परियोजना पटरी पर आ जाएगी। आर्टेमिस अपोलो की बहन के नाम है और प्राचीन ग्रीक पौराणिक कथाओं के अनुसार यह ज़ीउस की बेटी है।

इस परियोजना को हमारे निकटतम आकाशीय पड़ोसी पर एक दीर्घकालिक मानव उपस्थिति स्थापित करने के लिए और अंततः और भी आगे की खोज करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। आर्टेमिस 1 कई मिशनों में से पहला है। इसमें नासा का नया सुपर-हैवी रॉकेट, स्पेस लॉन्च सिस्टम (एसएलएस) लगा है, जिसे पहले कभी लॉन्च नहीं किया गया है, और ओरियन मल्टी-पर्पस क्रू व्हीकल (या ओरियन एमपीसीवी), जो एक बार पहले भी अंतरिक्ष में उड़ान भर चुका है। अपोलो मिशन के कमांड सर्विस मॉड्यूल के विपरीत, जो हाइड्रोजन ईंधन कोशिकाओं द्वारा संचालित थे, ओरियन एमपीसीवी एक सौर-संचालित प्रणाली है।

इसकी विशिष्ट एक्स-विंग शैली की सौर सरणियों को कठिन प्रक्रियाओं के दौरान यान पर दबाव को कम करने के लिए आगे या पीछे घुमाया जा सकता है। यह छह अंतरिक्ष यात्रियों को 21 दिनों तक अंतरिक्ष में ले जाने में सक्षम है। हालांकि, बिना चालक दल के आर्टेमिस 1 मिशन, 42 दिनों तक चल सकता है। अपोलो के विपरीत, आर्टेमिस एक अंतरराष्ट्रीय परियोजना है। ओरियन एमपीसीवी में अंतरिक्ष यात्रियों के लिए एक अमेरिका-निर्मित कैप्सूल और ईंधन, पानी, वायु, सौर-सरणियों और रॉकेट थ्रस्टर्स की आपूर्ति के लिए एक यूरोपीय-निर्मित सर्विस मॉड्यूल शामिल है।

ऊर्जा के लिए सूर्य पर निर्भरता के कारण आर्टेमिस की लांच के समय को लेकर कुछ बातों का ध्यान रखना होगा क्योंकि उस समय पृथ्वी और चंद्रमा की स्थिति ऐसी चाहिए कि उड़ान के दौरान किसी भी बिंदु पर ओरियन अंतरिक्ष यान सूर्य से 90 मिनट से अधिक समय तक छाया में न रहे। एसएलएस ओरियन को पृथ्वी की कक्षा में स्थापित करेगा, जहां इसके मूल चरण को छोड़ दिया जाएगा - समुद्र में गिरा दिया जाएगा। चंद्रमा के लिए एक अंतरिक्ष यान को उड़ाने के लिए आवश्यक अधिकांश ऊर्जा का उपयोग उड़ान के इस पहले चरण में किया जाता है, केवल पृथ्वी की निचली कक्षा तक पहुंचने के लिए।

फिर ओरियन को पृथ्वी की कक्षा से बाहर धकेल दिया जाएगा और एसएलएस के दूसरे चरण, जिसे अंतरिम क्रायोजेनिक प्रणोदन चरण (आईसीपीएस) कहा जाता है, द्वारा चंद्र-बद्ध प्रक्षेपवक्र पर धकेल दिया जाएगा। ओरियन फिर आईसीपीएस से अलग हो जाएगा और अगले कई दिन चंद्रमा के छोर पर बिताएगा। प्रक्षेपण आम तौर पर किसी भी अंतरिक्ष यान के सबसे जोखिम भरे हिस्सों में से एक है, खासकर एक नए रॉकेट के लिए। यदि आर्टेमिस-1 सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा में पहुंच जाता है तो यह परियोजना के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर होगा।

मिशन के दौरान, ओरियन दस मिनी उपग्रहों को भी अंतरिक्ष में स्थापित करेगा जिन्हें क्यूबसैट के नाम से जाना जाता है। इनमें से एक, बायोसेंटिनल, में खमीर होगा जो यह देखने के लिए होगा कि चंद्रमा पर माइक्रोग्रैविटी और विकिरण वातावरण सूक्ष्मजीवों के विकास को कैसे प्रभावित करते हैं। एक अन्य, एनईए स्काउट, एक सोलर सेल तैनात करेगा और फिर एक नज़दीकी क्षुद्रग्रह के लिए उड़ान भरेगा। इस बीच, आइसक्यूब चंद्रमा की परिक्रमा करेगा और सतह पर या उसके पास बर्फ भंडार की खोज करेगा, जिसका उपयोग भविष्य के अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा किया जा सकता है। चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश सतह से सिर्फ 60 मील ऊपर होगा।

अंतरिक्ष यान को धीमा करने के लिए ओरियन अपने ऑनबोर्ड थ्रस्टर्स को फायर करेगा और चंद्रमा के गुरुत्वाकर्षण को इसे कक्षा में पकड़ने में मदद करेगा। यह विपरीत दिशा में एक असामान्य, दूर प्रतिगामी कक्षा में चंद्रमा की परिक्रमा करेगा। इस चरण के दौरान, ओरियन चंद्रमा से 70,000 किमी की यात्रा करेगा और मानव-सक्षम अंतरिक्ष यान के लिए पृथ्वी से अब तक की सबसे अधिक दूरी तक पहुंचेगा। यदि अंतरिक्ष यात्री इस में होते, तो उन्हें दूर से पृथ्वी और चंद्रमा का भव्य दृश्य दिखाई देता।

ओरियन चंद्रमा की कक्षा में छह से 23 दिन बिताएगा, जिसके बाद यह चंद्रमा की कक्षा से बाहर निकलने के लिए एक बार फिर अपने ऑनबोर्ड थ्रस्टर्स को फायर करेगा और खुद को पृथ्वी प्रक्षेपवक्र पर वापस लाएगा। चंद्रमा की सतह दिन में 120 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकती है और रात में -170 डिग्री सेल्सियस तक गिर सकती है। इस तरह के बड़े तापमान परिवर्तन महत्वपूर्ण थर्मल विस्तार और सामग्रियों के संकुचन का कारण बन सकते हैं, इसलिए ओरियन अंतरिक्ष यान को बिना असफलता के महत्वपूर्ण थर्मल तनाव का सामना करने में सक्षम सामग्री के साथ बनाया गया है।

मिशन का एक लक्ष्य इसकी जांच करना है, और महत्वपूर्ण रूप से, यह सुनिश्चित करना है कि कैप्सूल के अंदर सांस लेने योग्य वातावरण पूरे समय बना रहे। चंद्रमा की दूरी पर, अंतरिक्ष यात्री भी पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र से बाहर होंगे, जो सामान्य रूप से हमें ब्रह्मांडीय विकिरण से बचाता है। चंद्रमा पर भविष्य के किसी भी मानव मिशन के लिए डीप स्पेस रेडिएशन एक गंभीर चिंता का विषय है। सबसे लंबा अपोलो मिशन (अपोलो 17) साढ़े 12 दिनों तक चला - ओरियन तीन से चार गुना लंबे समय तक गहरे अंतरिक्ष में रहेगा।

इसलिए, इंजीनियर कैप्सूल के अंदर विकिरण के वातावरण पर भी कड़ी नजर रखेंगे। पृथ्वी पर लौटने पर, ओरियन क्रू कैप्सूल सर्विस मॉड्यूल से अलग हो जाएगा, जिसे छोड़ दिया जाएगा, और फिर अपने हीट शील्ड द्वारा संरक्षित वातावरण में प्रवेश करेगा। यह उतरेगा और समुद्र में उतरने के लिए पैराशूट इस्तेमाल करेगा। वास्तव में, यह मिशन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है: यह सुनिश्चित करने के लिए कि कैप्सूल चंद्रमा से लौटने वाले अंतरिक्ष यान की तीव्र पुन: प्रवेश गति से बच सकता है और फिर एक सुरक्षित लैंडिंग कर सकता है।

ऐसा करने के लिए, हीट शील्ड को 2,750 डिग्री सेल्सियस के तापमान को सहन करना होगा, जब ओरियन की रफ्तार 24,500 मील प्रति घंटे से कम हो जाती है। 29 अगस्त को एक सफल प्रक्षेपण मानते हुए, स्प्लैशडाउन 10 अक्टूबर को होगा। आर्टेमिस -2, वर्तमान में 2024 में लॉन्च के लिए निर्धारित है, जो चंद्रमा की सतह से लगभग 9,000 किमी ऊपर चार अंतरिक्ष यात्रियों को ले जाएगा।

आर्टेमिस -2 पर अंतरिक्ष यात्री पृथ्वी से अब तक मनुष्यों द्वारा प्राप्त की गई सबसे बड़ी दूरी का रिकॉर्ड बनाएंगे। नासा ने पहले चंद्रमा लैंडिंग मिशन, आर्टेमिस -3 के लिए चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास लैंडिंग साइटों की एक छोटी सूची की भी घोषणा की है, जिसका लक्ष्य 2025 में मनुष्यों को वहां पहुंचाना है। क्या वे उस लक्ष्य तक पहुंचते हैं, यह अंततः इस बात पर निर्भर करेगा कि आर्टेमिस 1 अपने निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार सभी प्रक्रियाओं को सफलतापूर्वक पूरा करे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़