कोरोना को जड़ से खत्म करने के लिए चीन ने सबसे बड़े शहर शंघाई में लगाया लॉकडाउन

कोरोना को जड़ से खत्म करने के लिए चीन ने सबसे बड़े शहर शंघाई में लगाया लॉकडाउन

चीन ने बड़े पैमाने पर परीक्षण करने और शंघाई में बढ़ते कोरोना के प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए दो साल का अब तक सबसे व्यापक लॉकडाउन लगाया गया है। कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर चीन ने अपने सबसे बड़े शहर शंघाई में अधिकतर गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

चीन ने बड़े पैमाने पर परीक्षण करने और शंघाई में बढ़ते कोरोना के प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए दो साल का अब तक सबसे व्यापक लॉकडाउन लगाया गया है। कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर चीन ने अपने सबसे बड़े शहर शंघाई में अधिकतर गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया है। स्थानीय सरकार के अनुसार, शंघाई के वित्तीय केन्द्र पुडोंग जिले और उसके आसपास के क्षेत्रों को सोमवार तड़के से शुक्रवार तक बंद रखा जाएगा, क्योंकि शहर में व्यापक स्तर पर कोविड-19 संबंधी जांच की जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: The Kashmir Files: सिसोदिया का भाजपा पर निशाना, कहा- उन्हें सिर्फ फिल्म की चिंता है, कश्मीरी पंडितों की नहीं

शंघाई में लगा लॉकडाउन

लॉकडाउन के दूसरे चरण में शहर में शुक्रवार से पांच दिवसीय लॉकडाउन रहेगा। स्थानीय लोगों को घर पर ही रहना होगा। कार्यालय तथा व्यावसायिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे और सार्वजनिक परिवहन सेवाएं भी निलंबित रहेंगी। पहले ही, 2.6 करोड़ की आबादी वाले शहर के भीतर कई गतिविधियों पर रोक लगा दी गई थी। शंघाई डिज़्नी पार्क भी बंद कर दिया गया है। चीन में इस महीने देशभर में 56,000 से अधिक संक्रमण के मामले सामले आए, जिनमें से अधिकतर मामले उत्तर-पूर्वी प्रांत जिलिन में सामने आए हैं। शंघाई में 47 नए मामले सामने आए थे। चीन ने वैश्चिक महामारी के खिलाफ ‘शून्य सहिष्णुता’ की रणनीति अपनाई है, जिसके चलते मामले बढ़ने पर अधिकतर आर्थिक गतिविधियां बाधित कर दी जाती हैं। चीन में 87 प्रतिशत आबादी का कोविड-19 रोधी टीकाकरण हो चुका है। 

इसे भी पढ़ें: 'उन्हें उड़ने दो, उनके पंख मत काटो': हिजाब मामले पर बोलीं मिस यूनिवर्स हरनाज़ संधू, वीडियो वायरल

चीन में COVID मामले

चीन ने इस महीने देश भर में 56,000 से अधिक संक्रमणों की सूचना दी है, 47 मामलों के साथ शंघाई में अपेक्षाकृत कम मामले सामने आए हैं लेकिन शहर में लॉकडाउन लगा दिया गया।

जीरो-कोविड दृष्टिकोण

दो वर्षों में चीन के सबसे बड़े प्रकोप के जवाब में, बीजिंग ने इसे "डायनेमिक जीरो-कोविड" दृष्टिकोण को लागू करना जारी रखा है, जो कि कोविड -19 के खिलाफ सबसे किफायती और प्रभावी रोकथाम रणनीति है। इसके लिए लॉकडाउन और बड़े पैमाने पर परीक्षण की आवश्यकता होती है, करीबी संपर्कों को अक्सर घर पर या केंद्र सरकार की सुविधा में छोड़ दिया जाता है। रणनीति वायरस के सामुदायिक संचरण को जल्द से जल्द खत्म करने पर केंद्रित है, कभी-कभी पूरे शहरों को बंद करके भी इसे लागू किया जाता है।

जबकि कम्युनिस्ट पार्टी के नेता शी जिनपिंग सहित अधिकारियों ने अधिक लक्षित उपायों को प्रोत्साहित किया है, स्थानीय अधिकारी अधिक चरम दृष्टिकोण अपनाते हैं, जो प्रकोप को रोकने में विफल रहने के आरोपों पर निकाल दिए जाने या अन्यथा दंडित होने से संबंधित हैं।

कोविड टीकाकरण

जबकि चीन की टीकाकरण दर लगभग 87 प्रतिशत है, यह वृद्ध लोगों में काफी कम है। इस महीने की शुरुआत में जारी किए गए राष्ट्रीय आंकड़ों से पता चला है कि 60 और उससे अधिक उम्र के 52 मिलियन से अधिक लोगों को अभी तक किसी भी कोविड -19 वैक्सीन का टीका नहीं लगाया गया है। बूस्टर दरें भी कम हैं, 60-69 के बीच केवल 56.4 प्रतिशत लोगों को बूस्टर शॉट मिला है, और 70-79 के बीच 48.4 प्रतिशत लोगों ने एक प्राप्त किया है।