• कोरोना के डेल्टा स्वरूप को लेकर सचेत रहने की जरूरत, मौत के मामलों में आई काफी कमी: जो बाइडेन

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने मंगलवार को अपने प्रशासन के छह महीने पूरे होने पर अपने मंत्रिमंडल की दूसरी बैठक में कहा कि कोविड-19 के कारण होने वाली मौत के मामलों में तेजी से कमी आई है और टीकाकरण कार्यक्रम के कारण मौत के मामलों में करीब 90 प्रतिशत की गिरावट आई है।

वॉशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि देश में कोरोना वायरस से मौत के मामलों में टीकाकरण कार्यक्रम के कारण काफी कमी आई है, लेकिन देश को कोविड-19 के ‘डेल्टा’ स्वरूप को लेकर सतर्क रहने की आवश्यकता है। बाइडेन ने लोगों के टीकाकरण की आवश्यकता पर जोर देते हुए कहा कि जिन मरीजों की कोविड-19 के कारण मौत हुई है और जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है, उनमें से ‘‘वस्तुत: सभी’’ वे लोग हैं, जिन्हें टीके नहीं लगे थे। अत्यधिक तेजी से संक्रमण फैलाने वाले ‘डेल्टा’ स्वरूप बी.1.617.2 का सबसे पहले भारत में गत दिसंबर में पता चला था और अब यह तेजी से दुनियाभर में फैल रहा है। अमेरिका के कुछ हिस्सों में संक्रमण के 80 प्रतिशत नए मामलों का कारण ‘डेल्टा’ स्वरूप है। 

इसे भी पढ़ें: व्हाइट हाउस में इराक के प्रधानमंत्री से मिलेंगे जो बाइडेन, 26 जुलाई को होगी प्रस्तावित बैठक 

बाइडेन ने मंगलवार को अपने प्रशासन के छह महीने पूरे होने पर अपने मंत्रिमंडल की दूसरी बैठक में कहा कि कोविड-19 के कारण होने वाली मौत के मामलों में तेजी से कमी आई है और टीकाकरण कार्यक्रम के कारण मौत के मामलों में करीब 90 प्रतिशत की गिरावट आई है। उन्होंने कहा, ‘‘ लेकिन हमें ‘डेल्टा’ स्वरूप को लेकर सतर्क रहने की जरूरत है। कोविड-19 के मामले बढ़ रहे हैं, लेकिन जिन मरीजों की कोविड-19 के कारण मौत हुई है और जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है, उनमें से वस्तुत: सभी वे लोग हैं, जिन्हें टीके नहीं लगे थे।’’ 

इसे भी पढ़ें: चीन से मिल रही आक्रामक चुनौतियों से कैसे निपटेगी अमेरिका? बाइडेन और एंजेला मर्केल ने की बैठक 

बाइडेन ने कहा कि इसका अर्थ यह है कि सबसे सुरक्षित तरीका है कि टीका लगवाया जाए और ‘‘इसलिए हम अगले चरण में इस बात पर ध्यान दे रहे हैं कि जिन लोगों को टीका नहीं लगा है, उनका टीकाकरण कराया जाए।’’ उन्होंने कहा कि हम टीकाकरण में दुनिया की मदद करेंगे। हम केवल देश में ही नहीं बल्कि अन्य देशों में भी फिर से रोजगार पैदा करने और मध्यम वर्ग के विकास की कोशिश कर रहे हैं। इन देशों की अर्थव्यवस्था में सुधार हमारे हित में है।