इमरान खान की बढ़ी मुसीबतें, PTI विदेशी फंडिंग मामले में प्रमुख दस्तावेजों को सार्वजनिक करने का आदेश

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 19, 2022   15:56
इमरान खान की बढ़ी मुसीबतें, PTI विदेशी फंडिंग मामले में प्रमुख दस्तावेजों को सार्वजनिक करने का आदेश

पाक के चुनाव आयोग ने इमरान खान की पार्टी के विदेशी वित्तपोषण के दस्तावेज सार्वजनिक करने का आदेश दिया। ईसीपी की जांच समिति की तरफ से इस महीने की शुरुआत में जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) ने विदेशी नागरिकों, कंपनियों से हासिल पैसे को कम करके बताया और बैंक खातों को भी छुपाया।

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के चुनाव आयोग (ईसीपी) ने सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के खिलाफ विदेशी वित्तपोषण मामले से जुड़े अहम दस्तावेज सार्वजनिक करने का आदेश दिया है। यह कदम प्रधानमंत्री इमरान खान के लिए कई और मुसीबतें खड़ी कर सकता है। मीडिया में आई एक खबर में यह जानकारी दी गई है। ईसीपी की जांच समिति की तरफ से इस महीने की शुरुआत में जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) ने विदेशी नागरिकों, कंपनियों से हासिल पैसे को कम करके बताया और बैंक खातों को भी छुपाया।

इसे भी पढ़ें: 'नरेंद्र मोदी आयो और इस ज़ुल्म से निजात दिलाओ', पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से वीडियो वायरल

उसमें कहा गया है कि सत्तारूढ़ पार्टी ने वित्तीय वर्ष 2009-10 से वित्तीय वर्ष 2012-13 के दौरान चार साल की अवधि में 31.2 करोड़ रुपये कम करके बताए। वर्ष-वार विवरण से पता चलता है कि सिर्फ वित्तीय वर्ष 2012-13 में ही 14.5 करोड़ से अधिक की रकम को कम करके बताया गया। ‘डॉन’ अखबार की खबर के मुताबिक,ये दस्तावेज इस जांच समिति की रिपोर्ट का हिस्सा थे, लेकिन रिपोर्ट के साथ जारी नहीं किए गए थे।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका ने UN से बीजिंग ओलंपिक से पहले चीन के उइगर मुसलमानों पर रिपोर्ट जारी करने का किया आग्रह

मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) सिकंदर सुल्तान राजा ने मंगलवार को तब आदेश पारित किया, जब याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि रिपोर्ट के कुछ अहम हिस्सों को गुप्त रखा गया है और उनके मुवक्किल को उन तक पहुंच नहीं दी जा रही है। खबर के मुताबिक, सीईसी ने निर्देश दिया कि रिपोर्ट के किसी भी हिस्से को गोपनीय नहीं रखा जाना चाहिए और पूरी रिपोर्ट याचिकाकर्ता को मुहैया कराई जानी चाहिए। इसमें कहा गया है कि ईसीपी ने दस्तावेजों को सार्वजनिक नहीं किया था क्योंकि पीटीआई ने इस मामले में सत्तारूढ़ पार्टी के संस्थापक सदस्य और याचिकाकर्ता अकबर एस बाबर के साथ दस्तावेजों को साझा करने पर आपत्ति जताई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।