ग्रीन कार्ड लेना हो रहा है मुश्किल, कतार में हैं करीब 2.3 लाख भारतीय

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2019   13:11
ग्रीन कार्ड लेना हो रहा है मुश्किल, कतार में हैं करीब 2.3 लाख भारतीय

भारत के ,27,000 लोग ग्रीन कार्ड लेने की कतार में हैं। वहीं चीन इस मामले में तीसरे नंबर पर है जिसके 1,80,000 लोग परिवार प्रायोजित ग्रीन कार्ड पाने की होड़ में हैं। ये कार्ड पाने के इच्छुक ज्यादातर वेटिंग लिस्ट वाले लोग अमेरिकी नागरिकों के भाई-बहन हैं।

वाशिंगटन। भारत के 2,27,000 से ज्यादा लोग अमेरिका में परिवार प्रायोजित ग्रीन कार्ड या वैध स्थायी निवास की अनुमति मिलने की कतार में हैं। नये जारी हुए आधिकारिक आंकड़े में यह जानकारी सामने आई है। फिलहाल, परिवार प्रायोजित ग्रीन कार्ड के लिए करीब 40 लाख लोग वेटिंग लिस्ट में हैं जबकि कांग्रेस ने हर साल महज 2,26,000 ऐसे कार्ड जारी करने की अनुमति दी हुई है। वेटिंग लिस्ट में शामिल सबसे ज्यादा 15 लाख लोग अमेरिका के दक्षिण में स्थित पड़ोसी देश मेक्सिको से हैं और दूसरे नंबर पर भारत है।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका के टेक्सास स्थित रसायन संयंत्र में धमाका, चारों तरफ फैले कांच के टुकड़े

भारत के ,27,000 लोग ग्रीन कार्ड लेने की कतार में हैं। वहीं चीन इस मामले में तीसरे नंबर पर है जिसके 1,80,000 लोग परिवार प्रायोजित ग्रीन कार्ड पाने की होड़ में हैं। ये कार्ड पाने के इच्छुक ज्यादातर वेटिंग लिस्ट वाले लोग अमेरिकी नागरिकों के भाई-बहन हैं। मौजूदा कानून के तहत अमेरिकी नागरिक ग्रीन कार्ड या स्थायी वैध निवास के लिए अपने परिवार के सदस्यों और रक्त संबंधियों को प्रायोजित कर सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें: बात ना करने पर छात्र ने की भारतीय अमेरिकी छात्रा की गला दबाकर हत्या

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ऐसे प्रावधान के खिलाफ हैं और वह इसे सिलसिलेवार ढंग से चलने वाला आव्रजन कहते हैं जिसे वह खत्म करना चाहते हैं। वहीं विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी परिवार प्रायोजित आव्रजन व्यवस्था को खत्म किए जाने का जोरदार ढंग से विरोध कर रही है। परिवार प्रायोजित ग्रीन कार्ड के 40 लाख आवेदकों के अलावा अन्य 8,27,000 लोग स्थायी वैध निवास की स्वीकृति की वेटिंग लिस्ट में हैं। इनमें भी भारत के लोग बड़ी संख्या में शामिल हैं। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...