Breaking: इमरान खान बोले- मुल्क से गद्दारी कर रहा विपक्ष, मैं आखरी बॉल तक हार नहीं मानूंगा

Breaking: इमरान खान बोले- मुल्क से गद्दारी कर रहा विपक्ष, मैं आखरी बॉल तक हार नहीं मानूंगा

इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान के लिए कुछ करने के लिए ही मैं राजनीति में आया। मैंने पाकिस्तान में ऊंच-नीच देखी है। एक समय पाकिस्तान का उदाहरण दिया जाता था। ईमान नहीं होता तो मैं राजनीति में नहीं आता। इमरान खान ने साफ तौर पर कहा कि ना ही मैं कभी झुकूंगा और ना अपने कौम को झुकने दूंगा।

पाकिस्तान में जारी सियासी उठापटक के बीच आज प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्र को संबोधित किया। अपने संबोधन के शुरूआत करते हुए इमरान खान ने कहा कि आज मैं अपने दिल की बात करने आया हूं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान बनाने का मकसद बड़ा ही पाक था। उन्होंने कहा कि मै जिस पाकिस्तान का ख्वाब देखता था वैसा यह नहीं बना। इसी कारण मैं राजनीति में आया। मेरे घोषणापत्र में तीन बड़ी बातें थी। इंसान, इंसानियत और खुद्दारी। उन्होंने कहा कि किसी भी तरह की गुलामी गलत बात है। मैं अल्लाह का शुक्र गुजार हूं कि आजाद मुल्क में पैदा हुआ।

इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान के लिए कुछ करने के लिए ही मैं राजनीति में आया। मैंने पाकिस्तान में ऊंच-नीच देखी है। एक समय पाकिस्तान का उदाहरण दिया जाता था। ईमान नहीं होता तो मैं राजनीति में नहीं आता। इमरान खान ने साफ तौर पर कहा कि जब मैंने 25 साल पहले राजनीति शुरू की थी तब कहा था कि न मैं किसी के सामने झुकूंगा, न अपनी कौम को किसी के सामने झुकने दूंगा। अपनी कौम को किसी की गुलामी नहीं करने दूंगा।  उन्होंने कहा कि मैं भाग्यशाली हूं कि भगवान ने मुझे सब कुछ दिया- प्रसिद्धि, धन, सब कुछ। मुझे आज किसी चीज की ज़रूरत नहीं है, उसने मुझे सब कुछ दिया जिसके लिए मैं बहुत आभारी हूं। पाकिस्तान मुझसे सिर्फ 5 साल बड़ा है, मैं आजादी के बाद पैदा होने वाले देश की पहली पीढ़ी से हूं।

इसे भी पढ़ें: इमरान पर बरसे बिलावल भुट्टो, बोले- भागने के लिए कोई रास्ता नहीं, देना होगा इस्तीफा

अविश्वास प्रस्ताव से पहले, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि देश अपने इतिहास में एक निर्णायक क्षण में पहुंच गया है। उन्होंने कहा कि जब मैं राजनीति में आया, मेरे तीन लक्ष्य थे-न्याय, मानवता और आत्मनिर्भरता सुनिश्चित करना।  पाक पीएम ने कहा कि 8 मार्च को एक विदेशी देश से हमें मैसेज आता है जिसमें बहाना दिया जाता है कि वे पाकिस्तान पर क्यों गुस्सा हैं। और अगर इमरान खान को हटा दिया जाता है तो पाकिस्तान को माफ कर दिया जाएगा। लेकिन अगर ऐसा नहीं होता तो पाकिस्तान को मुश्किल वक़्त का सामना करना पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि 3 तारीख को संसद में वोटिंग होगी। जो भी नतीजा होगा, मैं देख लूंगा। मैं आखिरी गेंद तक मुकाबला करूंगा। विपक्ष पाकिस्तान के साथ गद्दारी कर रहा है। उन्होंने कहा कि अपने मुल्क का सौदा कर रहे हैं। लोग इन्हें माफ नहीं करेंगे। विपक्षी नेता बाहरी ताकतों से मिल गए हैं। आने वाली नस्लें आप को माफ नहीं करेंगी। भ्रष्ट नेताओं को कौम कभी माफ नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि मैं चुप नहीं बैठ लूंगा। जब मैंने 20 साल क्रिकेट खेला तो दुनिया और मेरे साथ क्रिकेट खेलने वालों ने देखा कि मैं आखिरी गेंद तक खेलता हूं। मैंने जीवन में कभी हार नहीं मानी है। कोई यह न सोचे कि मैं घर बैठूंगा। मैं और मजबूत होकर वापस आऊंगा, नतीजा कुछ भी हो।