व्हाइट हाउस का बयान- कमला हैरिस के उपराष्ट्रपति बनने से भारत-अमेरिका रिश्ते और मजबूत होंगे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 22, 2021   14:26
  • Like
व्हाइट हाउस का बयान- कमला हैरिस के उपराष्ट्रपति बनने से भारत-अमेरिका रिश्ते और मजबूत होंगे

व्हाइट हाउस ने कहा कि कमला हैरिस के उपराष्ट्रपति बनने से भारत-अमेरिका रिश्ते और मजबूत होंगे।व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने बृहस्पतिवार को दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राष्ट्रपति जो बाइडन दोनों देशों के बीच लंबे समय से चले आ रहे द्विदलीय सफल संबंधों का सम्मान करते हैं।

वाशिंगटन। व्हाइट हाउस की एक शीर्ष अधिकारी ने कहा है कि कमला हैरिस के अमेरिकी उपराष्ट्रपति बनने से भारत और अमेरिका के बीच संबंध और भी मजबूत होंगे। कमला हैरिस (56) के पिता जमैका के हैं और उनकी मां भारतीय हैं। उन्होंने बुधवार को पहली महिला, पहली अश्वेत और पहली एशियाई मूल की अमेरिकी उपराष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेकर इतिहास रच दिया। कैलिफोर्निया से पूर्व सीनेटर ने अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के तौर पर जो बाइडन के शपथ ग्रहण से पहले शपथ ली थी। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने बृहस्पतिवार को दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राष्ट्रपति जो बाइडन दोनों देशों के बीच लंबे समय से चले आ रहे द्विदलीय सफल संबंधों का सम्मान करते हैं।

इसे भी पढ़ें: ट्रंप ने बाइडेन के लिए छोड़ा पत्र, क्या अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को करेंगे फोन?

बाइडन प्रशासन के तहत भारत-अमेरिका संबंध पर एक सवाल के जवाब में साकी ने कहा, ‘‘राष्ट्रपति बाइडन कई बार भारत की यात्रा कर चुके हैं। वह भारत और अमेरिका के नेताओं के बीच लंबे समय से चले आ रहे सफल द्विदलीय संबंध का सम्मान करते हैं, उसका महत्व समझते हैं। बाइडन प्रशासन इसे आगे बढ़ाने की दिशा में आशान्वित है।’’ उन्होंने कहा कि भारतीय मूल की कमला हैरिस के उपराष्ट्रपति बनने से यह संबंध और मजबूत होगा। साकी ने कहा, ‘‘बाइडन ने उनका (हैरिस का) चुनाव किया है और वह भारतीय मूल की पहली अमेरिकी हैं जो अमेरिका की उपराष्ट्रपति बनी हैं। निश्चित रूप से यह इस देश में हम सभी के लिए न सिर्फ एक ऐतिहासिक लम्हा है बल्कि इससे हमारे रिश्ते भी और प्रगाढ़ होंगे।’’ हैरिस ने बुधवार को इस उपलब्धि के लिए अपनी मां को श्रेय दिया और कहा कि उनकी मां ने उनमें हमेशा भरोसा जताया और दोनों बेटियों को हमेशा यही सीख दी कि ‘‘हम पहले ‘शख्स’ हो सकते हैं, लेकिन हमें आखिरी नहीं होना चाहिए।’’

इसे भी पढ़ें: जो बाइडन, कमला हैरिस ने अमेरिका के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति पद की शपथ ली

हैरिस ने अपनी दिवंगत मां श्यामला गोपालन को याद करते हुए कहा कि उन्हें अपनी मां से हमेशा यही सीख मिली और यही वजह रही कि वह अपने पूरे कॅरियर में उन्होंने सान फ्रांसिस्को की पहली महिला डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी जनरल, कैलिफोर्निया की पहली महिला अटॉर्नी जनरल और सीनेट में कैलिफोर्निया का प्रतिनिधित्व करने वाली पहली अश्वेत महिला के तौर पर सेवा दी। हैरिस की मां श्यामला गोपालन एक कैंसर अनुसंधानकर्ता और नागरिक अधिकार कार्यकर्ता थीं। उन्होंने कहा, ‘‘मेरी कहानी हर अमेरिकी की कहानी है। मेरी मां श्यामला गोपालन भारत से आयी थीं। उन्होंने मेरी और मेरी बहन माया की परवरिश की। उन्होंने हमें यही सीख दी कि हम पहले ‘शख्स’ हो सकते हैं, लेकिन हमें आखिरी नहीं होना चाहिए।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझमें आपने हमेशा जो भरोसा दिखाया, उसी की वजह से आज इस क्षण मैं यहां हूं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




किसी अन्य देश के राज्येत्तर तत्व से निपटने के लिए पहले ही हमला किया जा सकता है : भारत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2021   15:22
  • Like
किसी अन्य देश के राज्येत्तर तत्व से निपटने के लिए पहले ही हमला किया जा सकता है : भारत

फरवरी भारत ने संयुक्त राष्ट्र की एक बैठक में कहा कि कोई देश किसी अन्य देश के राज्येत्तर तत्व की ओर से आसन्न सशस्त्र हमले को विफल करने के लिए ‘‘ पहले ही हमला’’ करने के लिए बाध्य हो सकता है।

संयुक्त राष्ट्र। भारत ने संयुक्त राष्ट्र की एक बैठक में कहा कि कोई देश किसी अन्य देश के राज्येत्तर तत्व की ओर से आसन्न सशस्त्र हमले को विफल करने के लिए ‘‘ पहले ही हमला’’ करने के लिए बाध्य हो सकता है। भारत ने इसके साथ ही पुलवामा सहित कई आतंकवादी हमलों का जिक्र किया जो पड़ोसी देश की जमीन से उस पर किए गए हैं। भारत का इशारा पाकिस्तान की ओर था। संयुक्त राष्ट्र के लिए भारत के उप स्थाई प्रतिनिधि राजनयिक के. नागराज नायडू ने मेक्सको द्वारा आयोजित ‘अरिया फॉर्मूल’बैठक में यह बात कही।

इसे भी पढ़ें: विजय हजारे ट्रॉफी में पृथ्वी साव ने जड़ा दोहरा शतक, संजू सैमसन का तोड़ा रिकॉर्ड

उन्होंने कहा कि राज्येत्तर तत्व जैसे कि आतंकवादी संगठन मेजबान देश के दूर दराज के इलाकों से अन्य देशों पर अक्सर हमला करते हैं। नायडू ने कहा कि इस पर बड़ी संख्या में देशों का मानना है कि अन्य देश से गतिविधि को अंजाम दे रहे किसी राज्येत्तर तत्व के खिलाफ बल का इस्तेमाल किया जा सकता है अगर ‘‘ राज्येत्तर तत्व ने देश के खिलाफ लगातार हमले किए हैं, यदि उसे समर्थन दे रहा देश राज्येत्तर तत्व के खतरों से निपटने की इच्छा नहीं रखता हो, या देश उसका साथ दे रहा हो या उसे प्रायोजित कर रहा हो।’’

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस में 'गोडसे'वाद की हुई शुरुआत! हिंदू महासभा के नेता की कमलनाथ ने कराई पार्टी में एंट्री

उन्होंने बुधवार को कहा, ‘‘दूसरे शब्दों में कोई देश किसी अन्य देश से राज्येत्तर तत्व की ओर से आसन्न सशस्त्र हमले को विफल करने के लिए ‘‘ पहले ही हमला’’ करने के लिए बाध्य हो सकता है।’’ ‘आरिया फॉर्मूला’ बैठकें ‘संयुक्त राष्ट्र चार्टर के समग्र सुरक्षा तंत्र को बरकरार रखने ‘अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत बल के इस्तेमाल, राज्येत्तर तत्वों, और वैध आत्मरक्षा’’ पर सुरक्षा परिषद की औपचारिक बैठकें है। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव 1368 (2001) और 1373 (2001) ने औपचारिक रूप से यह पक्ष रखा है कि आतंकवादी हमलों को रोकने के लिए आत्मरक्षा में कदम उठाए जा सकते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




बजट विभाग के निदेशक पद के लिए नामित है नीरा टंडन, रिपब्लिकन पार्टी के नेता कर रहे विरोध

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2021   14:33
  • Like
बजट विभाग के निदेशक पद के लिए नामित है नीरा टंडन, रिपब्लिकन पार्टी के नेता कर रहे विरोध

नीरा टंडन के नाम की पुष्टि में देरी हो रही है।सीनेट गृह सुरक्षा एवं सरकारी मामलों संबंधी समिति और सीनेट बजट समिति ने टंडन के नाम की पुष्टि के लिए बुधवार को होने वाले होने वाला मतदान अचानक स्थगित कर दिया।

वाशिंगटन। अमेरिका में प्रबंधन एवं बजट विभाग के निदेशक पद के लिए नामित भारतीय-अमेरिकी नीरा टंडन के नाम की पुष्टि संबंधी बैठकों को दो अहम सीनेट समितियों ने अचानक स्थगित कर दिया। इस बीच, व्हाइट हाउस ने कहा कि वह टंडन के नाम की पुष्टि कराने की कोशिश कर रहा है। नीरा टंडन ने अतीत में अपनी पार्टी के नेताओं समेत कई नेताओं के खिलाफ ट्वीट किए थे, जिनके कारण रिपब्लिकन पार्टी के नेता और कुछ डेमोक्रेटिक सीनेटर उनके नामांकन का विरोध कर कर रहे हैं। ऐसे में बुधवार से इस प्रकार की अटकलें लगने लगी हैं कि व्हाइट हाउस टंडन की पुष्टि के लिए आवश्यक मत हासिल करने के लिए संघर्ष कर रहा है।

इसे भी पढ़ें: म्यांमार में हुए तख्तापलट पर बोला अमेरिका, कहा- सेना को सत्ता छोड़ देनी चाहिए

सीनेट गृह सुरक्षा एवं सरकारी मामलों संबंधी समिति और सीनेट बजट समिति ने टंडन के नाम की पुष्टि के लिए बुधवार को होने वाले होने वाला मतदान अचानक स्थगित कर दिया। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हम नामांकन (की पुष्टि) की कोशिश कर रहे हैं और वह (टंडन) तथा हमारी टीम सीनेटरों एवं अहम समूहों के निकट संपर्क में है। वह एक विशेषज्ञ हैं और इस अप्रत्याशित संकट में उनकी योग्यता की बहुत आवश्यकता है।’’ साकी ने कहा कि टंडन अपने नाम की पुष्टि के लिए पूरा जोर लगा रही हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या व्हाइट हाउस उनका कोई विकल्प ढूंढ रहा है, उन्होंने कहा, ‘‘बजट विभाग का नेतृत्व करने के लिए एक उम्मीदवार है और उनका नाम नीरा टंडन है और हम उनके नाम की पुष्टि की कोशिश कर रहे हैं।’’ अगर सीनेट में टंडन (50) के नाम की पुष्टि हो जाती है तो वह ऐसी पहली भारतवंशी महिला होंगी, जो अमेरिकी सरकार के वार्षिक बजट का निर्माण करने वाली संघीय एजेंसी का नेतृत्व करेंगी। ओहायो से रिपब्लिकन सांसद रॉब पोर्टमैन ने सोमवार को कहा था कि वह नाम की पुष्टि के दौरान टंडन के विरोध में मतदान करेंगे। इसके अलावा रिपब्लिकन सांसद सुसन कोलिंस और मिट रोमनी भी टंडन के नाम पर विरोध जता चुके हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




अंडमान सागर मे रोहिंग्या शरणार्थियों का नहीं मिल रहा नौका, तलाश में जुटी भारत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2021   14:29
  • Like
अंडमान सागर मे रोहिंग्या शरणार्थियों का नहीं मिल रहा नौका, तलाश में जुटी भारत

संयुक्त राष्ट्र एवं मानवाधिकार समूहों ने बताया कि नौका पर सवार करीब 90 शरणार्थियों की हालत बेहद खराब है। उनके परिवारों को आशंका है कि उनमें से कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त ने बुधवार को कहा कि उसे इस बात की सटीक जानकारी नहीं है कि नौका कहा हैं।

ढाका।  संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी ने कहा है कि भारतीय तट रक्षक बल अंडमान सागर में उन रोहिंग्या शरणार्थियों की नौका की तलाश में मदद कर रहा है, जिनके बारे में माना जा रहा है कि वे सागर में भटक गए हैं और वे कई दिनों से भूखे-प्यासे हैं। ऐसा माना जा रहा है कि नौका दो सप्ताह पहले बांग्लादेश से रवाना हुई थी और इसके बाद यह सागर में खराब हो गई। संयुक्त राष्ट्र एवं मानवाधिकार समूहों ने बताया कि नौका पर सवार करीब 90 शरणार्थियों की हालत बेहद खराब है। उनके परिवारों को आशंका है कि उनमें से कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त ने बुधवार को कहा कि उसे इस बात की सटीक जानकारी नहीं है कि नौका कहा हैं। एजेंसी ने सोमवार को निकटवर्ती देशों से यह पता लगाने का आग्रह किया था कि नौका कहां है साथ ही कहा था कि यदि नौका मिल जाती है, तो वह उसे मानवीय सहायता मुहैया कराने के लिए तैयार है।

इसे भी पढ़ें: म्यांमार में हुए तख्तापलट पर बोला अमेरिका, कहा- सेना को सत्ता छोड़ देनी चाहिए

नौका पर सवार 25 वर्षीय युवक की मां नसीमा खातून ने कहा कि वह अपने बेटे को लेकर चिंतित है। खातून ने कहा, ‘‘हे भगवान, मेरे बेटे समेत नौका में बचे सभी लोगों को अपने चमत्कार से बचा लो। उन्हें कहीं किनारे पर ले जाओ।’’ उन्होंने कहा, ‘‘क्या मेरा बेटा जीवित है? क्या भूखे रहने के कारण उसे कुछ हो तो नहीं गया? वह केवल चार लीटर पानी अपने साथ लेकर गया था।’’ रोहिंग्या संकट पर नजर रखने वाली ‘अराकान परियोजना’ केनिदेशक क्रिस लेवा ने कहा कि उन्होंने सुना है कि नौका पर सवार कम से कम आठ लोगों की मौत हो चुकी है। एशिया और प्रशांत क्षेत्र के लिए यूएनएचसीआर क्षेत्रीय ब्यूरो की प्रवक्ता कैथरीन स्टबरफील्ड ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी भारतीय तट रक्षक बल की तलाश एवं बचाव टीम तैनात किए जाने की सराहना करती है। भारतीय तटरक्षक बल के प्रवक्ता पी एन अनूप ने कहा कि उनके पास ‘‘बताने के लिए अभी कुछ भी नहीं है’’।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept